महाराष्ट्र में प्लास्टिक की थैली में मिले 19 कन्या भ्रूण, मचा हडकंप

By: jhansitimes.com
Mar 07 2017 08:53 am
173

मुंबई: भाजपा शासित महाराष्ट्र के सांगली में एक नाले से 19 कन्या भ्रूण मिलने से हड़कंप मच गया है।  अंदेशा जताया जा रहा है कि गर्भपात करवाने वाला एक गिरोह सक्रिय है। अब यह मामला विधानसभा तक पहुंचा गया है और अब मामले की जांच हो रही है।  स्थानीय BHMS डॉक्टर बाबासाहब खिद्रापुरे पर संदेह जताया जा रहा है जो कि फरार है।  यह मामला राज्य के बजट सत्र में भी गूंजा. दरअसल गर्भपात के दौरान एक महिला की मौत के मामले की जांच कर रही पुलिस महेसाल गांव में नाले के पास पहुंची थी जहां उसे ये भ्रूण मिले। 

सांगली के पुलिस अधीक्षक दत्तात्रे शिंदे ने कहा कि 28 फरवरी को 26 वर्षीय महिला की मौत होने से ‘गिरोह’ का पर्दाफाश हो गया. शिंदे ने कहा, "ग्रामीणों को महिला की मौत में कुछ गड़बड़ी का अंदेशा हुआ जिसके बाद उन्होंने पुलिस से संपर्क किया और फिर गिरोह का भांडाफोड़ हुआ."

उधर, महाराष्ट्र सरकार कन्या भ्रूण हत्याओं के लिए महिलाओं को सीमावर्ती शहरों में ले जाने से रोकने के लिए संयुक्त प्रयासों की जरूरत का मामला कर्नाटक सरकार के समक्ष उठाएगी. महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री दीपक सावंत ने कहा, "सांगली घटना के बाद, ऐसे मामलों को रोकने के लिए महाराष्ट्र सरकार कन्या भ्रूण हत्या के मामले कर्नाटक के साथ उठाएगी."  मंत्री ने कहा कि मुख्य सचिव सुमित मलिक की अध्यक्षता में मंगलवार को एक समिति गठित की गई है जो मामले की जांच करेगी और ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए विभिन्न विभागों के बीच समन्वय स्थापित करेगी.

सावंत ने कहा कि इस तरह के भी मामले हैं कि महाराष्ट्र की महिलाओं को गर्भपात के लिए कर्नाटक के सीमावर्ती इलाकों में ले जाया जा रहा है.  ऐसे मामलों में महाराष्ट्र पुलिस सीधे वहां जाकर कार्रवाई नहीं कर सकती है. सावंत ने कहा, "हमने महेसाल घटना पर सांगली जिला चिकित्सा अधिकारी और सिविल सर्जन से अपनी रिपोर्ट दायर करने को कहा है. रिपार्ट आने के बाद उचित कार्रवाई की जाएगी."


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।