भुखमरी से भाजपा नेता की गौशाला में 200 गायों की मौत

By: jhansitimes.com
Aug 19 2017 10:47 am
177

रायपुर। 200 गायों की छत्तीसगढ़ में भारतीय जनता पार्टी के नेता की गोशाला में  मौत हो गई। इस मामले में फिलहाल नेता को गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोप है कि कम से कम 200 गाय भुखमरी और दवाओं की कमी के चलते राज्य के दुर्ग स्थित राजपुर गांव में मर गईं। अधिकारियों ने फिलहाल 50 मौतों की पुष्टि की है जो भुखमरी के कारण हुई हैं। हालांकि गांव के लोग कह रहे हैं कि यह संख्या 200 के ऊपर हैं और इनमें से कई को गोशाला के करीबी ही दफन कर दिया है।

आरोप है कि कुछ शव जिन्हें दफनाया नहीं गया था वो आस पास पाए गए हैं। बता दें कि भाजपा नेता हरीश वर्मा जो जमूल नगर निगम के उपाध्यक्ष भी हैं, वो यह गोशाल बीतें सात सालों से चला रहे हैं। पुलिस ने कहा कि हरीश वर्मा को छत्तीसगढ़ कृषि पशु संरक्षण संरक्षण -2004, पशु अधिनियम के लिए क्रूरता की धारा 190 और भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 409 की धारा 4 और 6 के तहत शुक्रवार को गिरफ्तार किया गया था। 

राजपुर सरपंच के पति सेवा राम साहू ने कहा कि हमने देखा कि दो दिन पहले गाय आश्रय के पास जेसीबी मशीनें चल रही थीं और हमने कुछ मीडिया के व्यक्तियों को बताया। जब हम यहां पहुंचे, तो हमने पाया कि जमीन पर मृत गायों को दफनाने के लिए की गड्ढे खोदें जा रहा थे। वो कम से कम 200 की संख्या में थीं। मौके पर मौजूद डॉक्टरों के मुताबिक, "भुखमरी और दवाओं की कमी" के कारण गायों की मौत हो गई थी। इस स्तर पर, गाय की मौत के पीछे के कारण चारे की कमी दिख रही है। दुर्ग जिले के पशु चिकित्सा विभाग के उप निदेशक एमके चावला ने कहा, "पिछले दो दिनों में 27 गायों का पोस्टमार्टम किया गया है।" 

अंग्रेजी समाचार पत्र की  खबर के अनुसार उन्होंने कहा कि जिन गायों को गोशाला के पास ही दफनाया गया है उन्हें भी कब्र से खोदकर निकाला जाएगा। चावला ने कहा कि अन्य 50 गायों कि स्थिति गंभीर है जिनका इलाज किया जा रहा है। मौतों की संख्या बढ़ सकती है। इस पूरे मसले पर हरीश वर्मा ने कहा कि मेरी गोशाला की 220 गायों की क्षमता हैं लेकिन यहां 650 से अधिक गाय हैं। मैंने कई बार सरकार को सूचित किया है कि मैं उन्हें खिलाने में सक्षम नहीं हूं। गौशाला के लिए 10 लाख रुपए से ज्यादा सरकार के पास लंबित है, लेकिन अभी तक उन्हें मंजूरी नहीं मिली है। मैं मौतों के लिए दोषी नहीं हूं।' 


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।