पूर्व केन्द्रीय मंत्री प्रदीप जैन सहित 250 लोगों पर संगीन मुकदमा, बताया तानाशाही का प्रमाण

By:
Jul 08 2018 02:31 pm
3908

झांसी। बुन्देलखंड में झांसी जनपद के प्रेमनगर थाने में कांग्रेस के पूर्व केन्द्रीय मंत्री प्रदीप जैन आदित्य समेत 250 लोगों के खिलाफ संगीन धाराओं में मामला दर्ज किया गया है। आरोप है कि उन्होंने 5 जून को घेराबंदी कर थाने में तोड़फोड़, लूटपाट और अभद्रता करते हुए मारपीट की है। इस मुकद्मे की जानकारी होेने पर पूर्व केन्द्रीय मंत्री प्रदीप जैन आदित्य ने इसे राजनीति द्वेष भावना के तहत बताया है। उनका कहना है कि उन पर और जनता पर लगाये गये आरोप गलत है, जिसकी गवाही थाने में लगे सीसीटीवी कैमरे हैं। वह मांग करते हैं कि इसकी सीबीआई जांच की जाये। 

बता दें कि 5 जून को झांसी के प्रेमनगर थाना क्षेत्र में सुनील साहू नाम के व्यक्ति की मौत हो गई थी। मृतक के परिजन शव को थाने के बाहर रखकर प्रर्दशन कर रहे थे। उनका आरोप था कि दरोगा बलवीर अपने दो सिपाहियों के साथ उसके घर पहुंचे थे। जहां उन्होंने 50 हजार रुपयों की मांग की। जिसे पूरा करने पर पुलिस ने सुनील साहू के साथ मारपीट कर 60 हजार रुपए लूटकर चले गये थे। पुलिस की पिटाई से सुनील साहू की मौत हो गई थी। मृतक के परिजनों ने उक्त पुलिसकर्मियों के खिलाफ मामला दर्ज कराने की मांग करते हुए प्रर्दशन किया। जिसमें कांग्रेस के पूर्व केन्द्रीय मंत्री प्रदीप जैन आदित्य, शहर अध्यक्ष इम्त्यिाज हुसैन व सत्ताधारी पार्टी के पूर्व शिक्षा मंत्री रविन्द्र शुक्ल और महानगर अध्यक्ष प्रदीप सरावगी मौके पर पहुंचे थे। लगभग 4 घंटे प्रर्दशन के बाद पुलिस ने आरोपी दरोगा और पुलिसकर्मियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया था। मामला दर्ज होने के बाद परिजनों ने शव को उठने दिया था। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिये भ्ेाज दिया था। 

इसके बाद दूसरे दिन प्रेमनगर थाना प्रभारी अवध नारायण पांडे ने कांग्रेस के पूर्व केन्द्रीय मंत्री प्रदीप जैन आदित्य समेत 250 लोगों के खिलाफ धारा 147,149,157,152,186,189,332,341,353,395 व 3 यूपी लोक सम्पति निवारण अधिनियम के तहत मुकद्मा दर्ज कराया। थानेदार ने आरोप है कि पूर्व केन्द्रीय मंत्री प्रदीप जैन आदित्य समेत सभी लोगों ने थाने का घेराव करते हुए तोड़फोड़ करते हुए सरकारी कार्य में वाधा डाली। इतना हीं नहीं उन्होंने एक महिला सिपाही के साथ मारपीट करते हुए वर्दी फाडते हुए सोने पैंडल लूट लिया था। 

प्रदीप जैन बोले-यदि आरोप सही हो तो लगा तो फांसी

इस पूरे मामले में पूर्व केन्द्रीय मंत्री प्रदीप जैन आदित्य ने कहा कि उन पर और जनता पर जो मुकद्मा लिखा गया है। वह गलत है। सीसीटीवी दिखा लिये जाये। यदि उन्होंने किसी भी सिपाही के साथ अभद्रता और मारपीट व लूटपाट की है तो वह फांसी पर भी चढ़ने को तैयार हैं। थाने के बाहर बड़ी संख्या में लोग बैठकर शव को रखकर प्रर्दशन कर रहे थे। घटना के तीन घंटे बाद वह वहां वहां पहुंचे और भीड़ को समझाने का प्रयास किया। पीड़ितों का आरोप था कि मृतक की पुलिस उत्पीड़न से मौत हुई है। ऐसा नहीं है कि यहां वह अकेले हो। उनके अलावा भाजपा से पूर्व शिक्षा मंत्री रविन्द्र शुक्ल समेत अन्य भी मौजदू थे। सभी ने उस तनावपूर्ण स्थिति को खत्म कराने का प्रयास किया था। सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि सइयां भए कोतवाल तो फिर डर काहे का। जिसकी लाठी उसकी भैंस। भारतीय जनता पार्टी की सरकार है वह जैसा करना चाहे वैसा कर सकती है। अंग्रेजों के शासन में देखते थे कि किस तरह जलिया वाला कांड हुआ था और किस प्रकार बेगुनाहों की आवाज को दबाया गया था। ठीक उसी प्रकार का दौर आज सामने आया है। जब गरीब अपनी आवाज उठाने जाते है तो प्रशासन उन पर संगीन और खतरनाक धाराओं में मामला दर्ज कर आवाज दबाने का प्रयास करता है। वह निर्दोशों के साथ कानूनी लड़ाई लड़ेगें। वह उच्चाधिकारियों से आस रखते है कि वह इसकी सीबीआई जांच करायेंगे। 


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।