मायावती के ड्रीम प्रोजेक्ट से गायब हुईं 7 बेशकीमती मूर्तियां, CCTV कैमरे थे खराब

By: jhansitimes.com
Sep 11 2017 02:20 pm
879

लखनऊ: बसपा सुप्रीमो मायावती के ड्रीम प्रोजेक्ट कांशीराम इको गार्डन से कई मूर्तियां चोरी हुई हैं| जिसकी शिकायत पुलिस में दर्ज कराई गई. पुलिस ने  मामले में FIR दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. आलमबाग में पुरानी जेल रोड पर स्थित इको गार्डन से सात बेशकीमती तांबे की सात मूर्तियां चोरी हो गईं. वारदात के तीन दिन बाद कर्मचारियों ने थाने में तहरीर दी. बता दें, कांशीराम इको गार्डन में कई तरह की मूर्तियां लगी हुई हैं, जिनमें- हाथी, खरगोश और बतख जैसी मूर्तियां शामिल हैं.

लाखों रुपए की 7 मूर्तियां हुईं चोरी

1 बतख 

1 खरगोश 

3 छोटी बतख

1  हिरन का बच्चा

1 हाथी

आलमबाग कोतवाली में दी गई तहरीर में बताया गया है कि इको गार्डन से 7 मूर्तियां चोरी हुईं. इसमें यह भी बताया है कि गेट पर सुरक्षा वाहिनी और गेट मैन रहते हैं. इनके अलावा यहां से आने-जाने का दूसरा रास्ता नहीं है. शिकायत के आधार पर पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है और जांच कर रही है. इस तहरीर में मूर्तियों की कीमत नहीं बताई गई है, लेकिन अंदाजा लगाया जा रहा है कि इन मूर्तियों की कीमत लाखों में थीं.

बीएसपी ने की निंदा

इंस्पेक्टर आलमबाग ने बताया इको गार्डन में जब दूसरी बार चोरी हुई तब जा कर अधिकारियों की आंखें खुली. इस गार्डन का मुख्य द्वार हमेशा बंद रहता है. बाउंड्रीवॉल इतनी ऊंची है कि कोई आसानी से फांद नहीं सकता है. इसका संदेह विभाग के अधिकारी भी जता रहे हैं. पुलिस सुरक्षाकर्मियों और कर्मचारियों से भी पूछताछ कर रही है. इंस्पेक्टर ने बताया कि पार्क में दिन और रात दोनों शिफ्ट में सुरक्षाकर्मी तैनात रहते हैं. ऐसे में मूर्तियों के चोरी होना आसान नहीं है. टीम ने मौका मुआयना किया है. पुलिस ने पाया कि गार्डन में लगे कई सीसीटीवी कैमरे है, इसलिए इससे कोई सुराग नहीं मिल पाया है. पुलिस आसपास लगे सीसीटीवी कैमरे को भी खगालने लगी है. इस बीच बीएसपी ने इस घटना की निंदा करते हुए दोषियों को जल्द पकड़ने की मांग की है.

 सेंड स्टोन से बनी मूर्तियां

बता दें, कांशीराम इको गार्डन में राजस्थान में मिलने वाले सेंड स्टोन से बनी मूर्तियां लगाई गई हैं. इन मूर्तियों के लिए अलग से टेंडर निकाला गया था, जिसके बाद इनको यहां लगाया गया। इस हिसाब से इन मूर्तियों की कीमत करोड़ों में आंकी गई थी.


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।