गठबंधन के बीच अखिलेश-मायावती ने बनाया खास प्लान, इस पार्टी के खाते में जा सकती है यह सीट

By: jhansitimes.com
Mar 30 2018 05:27 pm
29841

बुंदेलखंड डेस्क। समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के साथ आने से आगामी लोकसभा चुनाव 2019 के लिए बन रहा महागठबंधन अब अस्तित्व में आने लगा है। अंदरखाने की खबर है कि सपा, बसपा के अलावा इस महागठबंधन में कांग्रेस व रालोद भी शामिल हो चुके हैं। फिलहाल इन चारों दलों के बड़े नेताओं को सीटों के बंटवारे की जिम्मेदारी सौंप दी गई है। इन नेताओं ने आपसी समझौते के आधार पर लोकसभा सीटों के सुझाव दिए हैं। हिन्दी न्यूज पोर्टल झाँसी टाईम्स को मिली विश्वस्त सूत्रों से जानकारी के अनुसार सपा-बसपा 30-30 कांग्रेस 17 और लोकदल को 3 सीटें मिलने की उम्मीद है। इन सीटों के नाम भी गोपनीय रूप से नेताओं ने एक-दूसरे को बताए हैं। अब इन पर जल्द ही अंतिम निर्णय होने की संभावना है। 

गौरतलब है कि 2019 यूपी लोकसभा का महागठबंधन बसपा, सपा,  रालोद और कांग्रेस के मध्य होने वाले महागठबंधन की रूपरेखा तैयार हो चुकी है। मामला सीटों का था, सो वो भी धरातल पर आने को बेताब है। आपसी सहमति के आधार पर फिलहाल चारों दलों ने अपने-अपने हिस्से की सीटों को आपस में बांटने की तैयारी शुरू कर दी है। यूपी में लोकसभा चुनाव को ले कर विपक्षी एकता और महागठबंधन का खाका लगभग तैयार हो गया है। गठबंधन में शामिल दलों के नेताओं का आपस में बातचीत का दौर लगातार जारी है। 

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव फूलपुर और गोरखपुर उपचुनाव जीतने के बाद बसपा सुप्रीमो मायावती को धन्यवाद देने उनके घर गये। राज्यसभा चुनाव हारने के बाद भी मायावती के स्टैंड से गठबंधन को बल मिला है। चौधरी अजीत सिंह ने फोन पे मायावती और अखिलेश से बात की है। अखिलेश ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से महागठबंधन के संबंध में बातचीत कर इसे अस्तित्व में  लाने की कवायद तेज कर दी है। चारों दलों के बड़े नेताओं की आपस मे बातचीत के बाद द्वितीय पंक्ति के नेताओं को गठबंधन में सीटों के बंटवारे की बात आगे बढ़ाने का निर्देश मिला है।

बसपा से मायावती के विश्वास पात्र सतीश चन्द्र मिश्रा, सपा से प्रमुख महासचिव और अखिलेश यादव के चाचा प्रोफेसर रामगोपाल यादव, कांग्रेस से राज्यसभा में नेता गुलाम नबी आजाद और रालोद मुखिया अजित सिंह के बेटे जयंत चौधरी आपस मे बात कर सीटों के बंटवारे को अंतिम रूप देने का प्रयास कर रहे हैं। फार्मूला ये है कि अपने-अपने प्रभाव वाले क्षेत्रों में पूरे दमखम के साथ चुनाव लड़ा जाए, ताकि भाजपा को हराया जा सके। 

उधर, कांग्रेस अपने सभी बड़े नेताओं के लिए सीट चाहती है, तो रालोद जाट बाहुल्य जिलों की लोकसभा सीटें चाहता है । सूत्रों के हवाले से मिल रही खबरों के अनुसार अभी तक बंटवारे की जो रूप रेखा लगभग तय मानी जा रही है। उसमें सपा-बसपा 30-30, कांग्रेस 17 और लोकदल के खाते में 3 सीटें जाती दिख रही हैं ।

सभी दलों ने अपनी दावेदारी इन सीटों पर ठोंकी है। 

बहुजन समाज पार्टी

1- बिजनौर 

2- संतकबीर नगर

3 -नोयडा

4-अमरोहा

5-खीरी

6-सीतापुर

7- कानपुर देहात

8-मोहनलालगंज

9-डुमरियागंज

10-सलेमपुर

11- आगरा

12-घोसी

13 -लालगंज (आजमगढ़)

14-मछली शहर

15-गाजीपुर

16-रॉबर्ट्सगंज

17-फतेहपुर

18-हमीरपुर

19- जालौन

20- गाजियाबाद

21- हाथरस

22-अलीगढ़

23 -मेरठ

24-मुजफ्फरनगर

25-फैजाबाद

26-बांदा

27- अम्बेडकर नगर

28-बुलन्द शहर

29- पीलीभीत

30 - शाहजहांपुर

 

समाजवादी पार्टी

1 -रामपुर

2-सम्भल

3-आंवला

4-भदोही

5-मिश्रिख

6-हरदोई

7-कैसरगंज

8-बहराइच

9-गोंडा

10-बांसगांव

11-गोरखपुर

12- महराजगंज

13-बलिया

14-आजमगढ़

15-जौनपुर

16-चंदौली

17-मिर्जापुर

18 श्रावस्ती

19- इटावा

20- कन्नौज

21-मैनपुरी

22- एटा

23 -फिरोजाबाद

24 - बदायूं

,25-कौशाम्बी

26-देवरिया

27 -झांसी

28 -नगीना

29 -फूलपुर

30-बस्ती

 

कांग्रेस पार्टी

1 -मुरादाबाद

2-बरेली

3-उन्नाव

4-प्रतापगढ़

5-अमेठी

6-रायबरेली

7-कानपुर

8-फतेहपुर सीकरी

9-वाराणसी

10-इलाहाबाद

11-धौरहरा

12-फर्रुखाबाद

13-लखनऊ

14-सुल्तानपुर

15-बाराबंकी

16-कुशी नगर

17 -सहारनपुर

 

राष्ट्रीय लोकदल

1- बागपत

2 -मथुरा

3-कैराना

 


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।