बहुजन नायक कांशीराम: सुख छोड़, दलितों-पिछड़ों को एकजुट करने के मिशन में कुर्बान कर दी जिंदगी

By: jhansitimes.com
Oct 08 2017 09:21 am
910

झांसी। अंबेडकर के बाद भारतीय समाज में कांशी राम ने दलितों को एक सशक्त बुलंद आवाज दी। उन्होंने भारतीय समाज के रूढ़िवादी और ब्राह्मणवादी व्यवस्था को तोड़ने के लिए कई प्रयास किए, लेकिन असफलताओं से सीखने के बाद बहुजन समाज पार्टी की स्थापना की। उन्होंने अपना पूरा जीवन पिछड़े वर्ग के लोगों की उन्नति के लिए और उन्हें एक मजबूत और संगठित आवाज़ देने के लिए समर्पित कर दिया। वे आजीवन अविवाहित रहे। कांशी राम का जन्म पंजाब के रोरापुर में एक रैदासी सिख परिवार में हुआ था। अल्प शिक्षित होने के बाद भी कांशीराम के पिता ने अपने बच्चों को उच्च शिक्षा दी। 

1958 में ग्रजूएट होने के बाद पूना में रक्षा उत्पादन विभाग में सहायक वैज्ञानिक के पद पर नियुक्त हुए। 1965 में उन्होंने डॉ अम्बेडकर के जन्मदिन पर अवकाश रद्द करने के विरोध में संघर्ष किया। इससे इतने प्रेरित हुए कि उन्होंने संपूर्ण जातिवादी प्रथा और डॉ बी आर अम्बेडकर के कार्यो का गहन अध्ययन किया। सन 1971 में उन्होंने अपनी नौकरी छोड़ दी। अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ी जाति और अल्पसंख्यक कर्मचारी कल्याण संस्था की स्थापना की। संस्था का मुख्य उद्देश लोगों को शिक्षित और जाति प्रथा के बारे में जागृत करना। बाद में 1973 में (बेकवार्ड एंड माइनॉरिटी कम्युनिटीस एम्प्लोई फेडरेशन) की स्थापना की, जिसका कार्यालय दिल्ली में भी शुरू किया गया। कांशी राम ने अपना प्रसार तंत्र मजबूत किया और लोगों को जाति प्रथा, भारत में इसकी उपज और अम्बेडकर के विचारों के बारे में जागरूक किया। 

जीवन के मील के पत्थर : 

- सन 1980 में उन्होंने ‘अम्बेडकर मेला’ नाम से पद यात्रा शुरू। 

- इसमें अम्बेडकर के जीवन और उनके विचारों को चित्रों और कहानी के माध्यम से दर्शाया गया। 

- 1984 में समानांतर दलित शोषित समाज संघर्ष समिति की स्थापना की। 

- 1984 में ही बहुजन समाज पार्टी के नाम से राजनैतिक दल का गठन किया। 

- 1986 में सामाजिक कार्यकर्ता से एक राजनेता के रूप में परिवर्तित किया। 

- 1994 में उन्हें दिल का दौरा भी पड़ चुका था। दिमाग की नस में खून का गट्ठा जमने से 2003 में उन्हें दिमाग का दौरा पड़ा। 

- 2004 के बाद ख़राब सेहत के चलते उन्होंने सार्वजनिक जीवन छोड़ दिया।  9 अक्टूबर 2006 को दिल का दौरा पड़ने से उनकी मृत्यु हो गई।


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।