Bigg Boss 11: अर्शी खान का स्पेशल नाइटी लुक, पुणे-गोवा कनेक्‍शन ने ला दिए आंखों में आंसू

By: jhansitimes.com
Oct 30 2017 09:17 am
219

कॉन्ट्रोवर्शियल मॉडल-एक्ट्रेस अर्शी खान पहले दिन से ही सलमान खान के ‘बिग बॉस-11’ में सुर्खियां बटोर रही हैं. हितेन तिवारी के साथ खुल्‍लम-खुल्‍ला फ्लर्ट तो घर के लगभग हर सदस्‍य के साथ झगड़े तक अर्शी हर एपिसोड में चर्चा बटोरती रही हैं. यूं तो घर के बाहर से ही अर्शी अपनी बोल्‍ड इमेज के चलते सुर्खियों में थीं लेकिन अब घर में आकर भी उनका स्‍पेशल 'नाइटी लुक' छा गया है. लेकिन अब शुक्रवार को घर में प्रियांक शर्मा के एंट्री के बाद अर्शी खान के कानूनी मामलों का जिक्र आने से वह फिर से सुर्खियों में हैं. शुक्रवार के एपिसोड में सपना और अर्शी के बीच चल रही लड़ाई के बीच में प्रियांक ने सपना को कहा कि वो अर्शी के सामने 'गोवा और पुणे' चिल्लाये और प्रियांक की बात सुन सपना ने भी यही किया. ऐसे में अर्शी दंग रह गई और शायद बिग बॉस के घर में पहली बार फूट फूट कर रोने लगीं.  

अक्टूबर 2016 में पुणे मिरर में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार पुणे सिटी पुलिस ने एक सेक्स रैकट मामले में अर्शी को हिरासत में लिया था. अर्शी के अलावा विपुल दहल नामक एक शख्स (जिन्हें अर्शी का एजेंट बताया गया था) उसे गिरफ्तार किया गया था. लेकिन गिरफ्तारी के एक दिन बाद ही अर्शी ने पुलिस पर आरोप लगाया था कि पुलिस खुद को बचाने के लिए उन्‍हें फंसाने की कोशिश कर रही है. पुणे मिरर की रिपोर्ट के अनुसार अर्शी की टीम ने उन्‍हें बताया कि पुलिस ने उनके होटल के कमरे में रेड की और उनसे पैसे मांगने लगे. जब उन्‍होंने पैसे देने से मना किया तो वह उनसे सेक्‍शुअल फेवर की बात करने लगे. वहीं अर्शी गोवा के एक सेक्स रैकट में भी फंसी थी. हालांकि उन्‍होंने पुलिस को समझा दिया कि उनका इससे कोई संबंध नहीं है और वह मुंबई आ गईं.


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।