अपनी ही नीतियों से शर्मसार होने को मजबूर है भाजपा

By: jhansitimes.com
Mar 09 2019 05:48 pm
156

उत्तर प्रदेश के संत कबीर नगर जिले में गत बुधवार को कलेक्ट्रेट में जिला योजना समिति की बैठक के दौरान भाजपा के सांसद शरद त्रिपाठी और विधायक राकेश बघेल के बीच प्रभारी मंत्री आशुतोष टंडन की मौजूदगी में हुई जूतम पैजार के मामले में दोनों में से किसी पर कार्रवाई की हिम्मत पार्टी का नेतृत्व नहीं जुटा पाया है । खबर है कि इसके दृश्य वायरल हो जाने से हुई बड़ी किरकिरी के बाद भी  पार्टी इस मामले में दोनों में से किसी पर कार्रवाई करने से कतरा रही है क्योंकि यह घटना ठाकुर बनाम ब्राह्मण संघर्ष का रूप ले रही है जिसका विस्तार समूचे पूर्वाञ्चल में हो सकता है जो चुनाव में पार्टी पर बहुत भारी पड़ेगा ।

सरकार बनते ही पता चल गया था मर्ज

भाजपा के माननीयों के जिस मर्ज की वजह से संत कबीर नगर में पानी सिर के ऊपर होने की नौबत आई उसका पता प्रदेश में योगी सरकार बनते ही चल गया था । वृंदावन में संघ की समन्वय समिति की बैठक में पार्टी के नव निर्वाचित विधायकों और सांसदों के लूट खसोट में जुट जाने से छवि खराब होने का मुद्दा ज़ोर शोर से उठाया गया था जिसके बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस पर लगाम लगाने का भरोसा दिलाया था लेकिन आज तक किसी माननीय पर न ही मुख्यमंत्री और न सरकार की ओर से कोई कार्रवाई हुई है जिससे मर्ज बढ़ता गया और लूट खसोट की इन्तहा के चलते पार्टी के लोगों के बीच आपस में ही अखाड़ेबाजी की नौबत आ गई ।

चाल , चरित्र और चेहरा

भाजपा शुरू से ही चाल ,चरित्र और चेहरे के नारे को ध्येय वाक्य की तरह बुलंद करती रही है जिसकी व्याख्या बतौर स्लोगन पार्टी विद अ डिफरेंस के तौर पर की गई । कल्याण सिंह जब पहली बार मुख्यमंत्री बने थे उस समय वे इसे ले कर बहुत संजीदा थे । बुंदेलखंड के एक हिस्ट्रीशीटर विधायक का पुलिस से झगड़े का मामला उनके सामने आया जो बाद में सांसद बना । उसके ख़िलाफ़ दर्ज मुकदमों का अंबार देख कर कल्याण सिंह ने उसकी जमकर क्लास ले ली । कहा कि तुनहे किसी ने गलत टिकट दिला दिया है । मुझे पता होता तो तुम्हें टिकट ही नहीं मिल पाता । अब अपराधियों की पैरवी के लिए पुलिस में जाने की बजाय अच्छे काम करो ताकि अगली बार पार्टी तुम्हारा टिकट बहाल रह सके । उस माननीय को साँप ही सूंघ गया । इसी अंचल के एक और तीरंदाज विधायक अवैध खनन के लिए अपने जिले के जिलाधिकारी पर दबाब बनाने गए । कल्याण सिंह ने उनकी वो गत बनाई कि आखिर में पार्टी ही छोड़ गए । आज पार्टी अपने तमाम जलजले के वाबजूद उद्दंड माननीयों के आगे शरणागत है।

जिताऊ उम्मीदवार फोबिया

सपा , बसपा जैसी पार्टियां इलाक़े के दबंगों को सिर माथे ले कर चलीं क्योंकि उनके जरिये ही इन पार्टियों ने अपना विस्तार किया है । इस बीच भाजपा कमजोर रही जिससे अपने अस्तित्व के लिए उसे भी ऐसे तत्वों का सहारा लेना पड़ा । लेकिन भाजपा तो मोदी युग में भी जिताऊ फोबिया से नहीं उबर पा रही है । हाल के विधानसभा चुनाव में हर किसी को उसकी प्रचंड आंधी दिखाई दे रही थी फिर भी बुंदेलखंड में ही उसने आयात करके ऐसे नेता को टिकट दे डाला जिस पर सामूहिक हत्याओं का आरोप था । साथ ही भाजपा के आधार वोट ने भी उसके टिकट की ख़िलाफ़त की लेकिन फिर भी परवाह नहीं की गई । ऐसे तत्वों की भरमार के ही कारण भाजपा को शर्मसार होना पड़ रहा है जिसका उदाहरण उन्नाव के बलात्कार के मामले में आरोपित विधायक हैं ।

अवसरवादी गठबंधन

भाजपा कमजोर आत्मबल के कारण ही किसी मत पर स्थिर नहीं हो पा रही है जो देश और समाज को दिशाहीनता के गर्त में धकेलने की वजह बन सकती है । न केवल लोकसभा चुनाव में भी उसके द्वारा जिताऊ के नाम पर बदनाम नेताओं को एक बार फिर सिर चढ़ाने के आसार हैं बल्कि ओम प्रकाश राजभर और अपना दल के साथ यह जानते हुए भी कि उनके रास्ते अलग हैं चुनावी समझोता जारी रख वह  धूर्तता की पराकाष्ठा से बाज नहीं आ रही ।


जातिवादी कौन

संत कबीर नगर के घटनाक्रम ने  एक बार फिर यह बात उजागर कर दी है कि जातिवाद की व्याधि का केंद्र कहाँ है । भाजपा जातिवाद के उन्मूलन के नाम पर जिन जातियों के प्रभुत्व को फिर से मजबूत करने का खेल खेलती है वे ही  समस्या की जड़ में हैं ।  उनके बीच सनातन जातियुद्ध चल रहा है और  इस कारण जाति के नाम पर प्रभुत्व की गुंजायश ख़त्म करने के उपायों से ही जातिवाद का उन्मूलन संभव होगा । सामाजिक न्याय के प्रयास इसकी सार्थक पहल जबकि भाजपा इसके विरुद्ध जनमत संगठित करने में कसर नहीं छोड़ रही है ।

 


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।