BJP नेता ने पिता को मुर्गा बनाकर किया टॉर्चर, बनाया वीडियो, बेटी ने देखकर खाया जहर

By: jhansitimes.com
Feb 25 2018 10:20 am
861

जबलपुर: इन दिनों एक कहावत चरितार्थ हो रही है कि जब सैंया भय कोतवाल तो फिर डर काहे का. कुछ ऐसा ही हाल भारतीय जनता पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं का है| जहां मध्य प्रदेश के जबलपुर में एक युवती ने सिर्फ इसलिए जहर खाकर अपनी जान देने की कोशिश की, क्योंकि जबलपुर बीजेपी के अल्पसंख्यक मोर्चे के नगर अध्यक्ष शफीक हीरा ने अपने कुछ साथियों के साथ मिलकर उसके पिता को न केवल मुर्गा बनाया.बल्कि तीन घंटे से ज्यादा वक्त तक मुर्गा बनाने के दौरान टॉर्चर भी किया गया.इतना ही नहीं सत्ता के नशे में चूर बीजेपी नेता और उसके शागिर्दों ने पीड़ित युवती के पिता को मुर्गा बनाने का वीडियो सोशल मीडिया में वायरल कर जलील भी किया.इसी बीच सोशल मीडिया में पिता के मुर्गा बनाए जाने का वायरल हो रहा विडियो पीड़ित युवती के दोस्तों के पास तक जा पहुंचा.

 दरअसल, ऐसा ही एक मामला जबलपुर के हनुमानताल थाना क्षेत्र का है, जैसे ही ये बात जब पीड़ित युवती को उसके दोस्तों ने बताई.एक बेटी को गहरा सदमा लग गया.आलम ये हुआ कि पिता को मुर्गा बने देखने का सदमा पिता की लाडली से बर्दाश्त नही हुआ और उसने जहर खाकर अपनी जान देने की कोशिश की.जैसे ही ये बात परिजनों को पता लगी आनन-फानन में वह युवती को अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां उसकी हालत नाजुक बनी हुई है.बताया जा रहा है कि हनुमानताल इलाके में रहने वाली पीड़िता के छोटे-भाई बहनों का मोहल्ले के दूसरे बच्चों से किसी बात को लेकर हफ्ते भर पहले वाद विवाद हुआ था और उसी बात से खार खाय बैठे बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चे के नगर अध्यक्ष शफीक हीरा के समर्थकों ने अपने आका की शह पर पीड़ित युवती के पिता को 3 दिन पहले घर से जबरजस्ती कर अपने साथ ले गए, जहां युवती के पिता को न केवल बीजेपी नेता शफीक हीरा के समर्थको बल्कि खुद शफीक हीरा ने जबरन मुर्गा बनाया और मुर्गा बनने का बाकायदा विडियो भी बनाया.

इस दौरान शफीक हीरा और उसके समर्थकों ने पीड़िता के पिता को अपशब्द कह जलील भी किया.उसके बाद भी जब इन लोगों का दिल नहीं भरा तो इन लोगो ने मिलकर एक पिता को मुर्गा बनाने का विडियो सोशल मीडिया में वायरल कर दिया.वायरल होते ही वीडियो उसकी बेटी के कॉलेज में पढऩे वाले साथियों तक पहुंच गया.जब पीड़ित व्यक्ति की बेटी ने पिता की सोशल मीडिया में हालत देखी, तो उससे यह नहीं देखा गया और उसे आत्मग्लानि हुई और घर जाकर जहर खा लिया.अब परिजनों की मांग है कि पूरे मामले में दोषियों पर कड़ी कार्यवाही हो. वहीं, पुलिस ने इस मामले को दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।