भाजपा सांसद का गोद लिया गाँव बना जुआ और नशेबाजी का गढ़

By: jhansitimes.com
Jan 13 2018 07:57 pm
103

उरई । भाजपा सांसद भानुप्रताव वर्मा ने ग्राम हरदोई गुजर को इस उद्देश्य से गोद लिया था कि यहां का समग्र विकास करके एवं बेरोजगार युवाओं को स्वयं सहायता समूहों के जरिये रोजगार से जोड़कर इसे प्रदेश में एक आदर्श ग्राम के रूप में स्थापित करायेगे। ताकि विकास के नाम पर इस गांव की पहचान दूर तक देखी जा सके। इसके लिए सांसद बराबर प्रयासरत है उनके विकास कार्यो को धरातल पर देखा भी जा सकता है।

इसके बावजूद कुछ असामाजिक तत्व यहां के माहौल को बिगाड़ने में लगे हुए है। पिछले दो दशकों से इस गांव में जुआ व नशा का ऐसा मकड़जाल फैला हुआ है इससे यहां का हर चौथा  परिवार प्रभावित है। जुआ के चक्कर में यहां अब तक एक सैकड़ा लोग तबाह हो चुके है। जुआ की हारजीत की बाजी में कर्जदार होकर यहां से पलायन कर चुके है। ताज्जुब की बात तो यह है कि इसके बावजूद भी जिम्मेदार अधिकारी इसे रोकने की पहल नही कर सके। जुआ रूपी सामाजिक बुराई पर अंकुश लगाने वाली पुलिस ऐसे स्थानों से नजराना भी वसूलने में पीछे नही है। जो कल तक लाखों करोड़ों की संपत्ति के मालिक थे आज उनके बच्चे दाने-दाने के लिए मुहजात है ये भी आश्चर्य की बात है कि जब नन्हे मुन्नों के हाथों में कापी कितावों की जगह हाथों में ताश की गड्डी देखी जाती है।

 

यहां पर खुले आम गांजा चरस जैसे घातक नशों की खुली बिक्री हो रही है गांजा चरस को बेचकर जहां लाखों कमाये जा रहे है तथा नई पीढी को नशा में उतारकर उनकी सेहत व भविष्य के साथ भी खिलवाड़ कर रहे है। एक आंकडे़ के अनुसार यहां पर घातक नशा के आदी बने करीब एक दर्जन व्यक्ति असमय ही मृत्यु के कारण बने जैसे शिववीर यादव, मुन्ना यादव, नत्थू तिवारी, प्रमोद तिवारी, वंशीधर राठौर, तुलसीराम प्रजापति, कैलाश शर्मा सहित कई युवा भी इस नशे से अपना जीवन गवां चुके। ग्राम के बुद्धिजीवियों एवं समाजसेवियों तथा वरिष्ठ नागरिकों समेत जनपद के वरिष्ठ भाजपा नेता रामप्यारे तिवारी ने यहां फैली इस समाजिक बुराई के बारे में संबंधित अधिकारियों का ध्यानाकर्षण कराते हुए कहा कि क्षेत्रीय पुलिस अधिकारियों को कई बार लिखित, मौखिक व समाचार पत्रों द्वारा अवगत कराया लेकिन अभी तक उनके द्वारा ऐसे कदम नही उठाये गये जिससे यहां के वासियों को लगे कि पुलिस इस बुराई को जड़ से खत्म करने को तत्पर है।


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।