बसपा सुप्रीमो के तीखे बोल- भाजपा शासित राज्यों में कानून व्यवस्था बदहाल, अपराधों से भयभीत है जनता

By: jhansitimes.com
Jan 28 2018 03:04 pm
169

लखनऊ। देश भर के भाजपा शासित राज्य उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, गुजरात, हरियाणा,  राजस्थान और महाराष्ट्र आदि में कानून व्यवस्था पूरी तरह से खराब है। जिस कारण अपराधों को ग्राफ बढ़ा हुआ है। इतना ही जनहित व विकास का भी हाल बुरा है। ऐसा कहना है बसपा सुप्रीमो मायावती का। जिन्होंने आज भाजपा पर निशाना साधते हुए तीखे सवाल किये। 

बसपा सुप्रीमो मायावती ने उत्तद प्रदेश की योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रदेश में कानून का संवैधानिक राज न होकर जंगलराज जैसा मौहाल बना हुआ है। इसका ताजा उदाहरण गणतंत्र दिवस पर कासगंज में हुआ उपद्रव, हिंसा और दंगा है जो अब भी लगातार जारी है। जिसमें राज्य की योगी सरकार विफल होते हुए नजर आ रही है। कांसगंज में उपद्रव व हिंसा की बसपा कड़ी निंदा करती है और दोषियों को सख्त सजा देने की मांग भी करती है। 

मायावती ने बयान जारी करते हुए कहा कि भाजपा एवं उनके अन्य संगठनों का सर से लेकर पांच तक अपराधीकरण हो जाने का ही दुष्परिणाम है कि देश में आज हर जगह हिंसा, अपराध की घोर अव्यवस्था कायम है। कोर्ट-कचहरी दोषियों को सजा देने में अपने आपकों अपंग महसूस कर रहे हैं। क्योंकि सरकारी गवाहों को भाजपा सरकारें सुरक्षा नहीं दे पा रही हैं और गवाहों की खुलेआम हत्यायें  भी हो रही हैं। इतना ही नहीं विभिन्न अपराधों, हिंसा व साम्प्रादायिक दंगा आदि के दोषी भाजपा नेताओं से मुकद्मे वापस लेकर जंगलराज को सरकारी तौर पर स्थापित करने का प्रयास उत्तर प्रदेश सहित कई राज्यों में किया जा रहा है। जिससे देश की समूची आपराधिक न्याय व्यवस्था पटरी से उतर गई है। भाजपा सरकार अथवा सरकार के मंत्री से नैतिकता के आधार पर इस्तीफा मांगना भी फिजूल ही लगता है क्योंकि केन्द्र व प्रदेश की बीजेपी सरकारें नैतिकता व लोकलाज को ताक पर रखकर केवल अपने निजी स्वार्थ के लिए काम करने पर पूरे तौर से अमादा लगती है। 

मायावती ने कहा कि एक तरफ जहां सत्ताधारी भाजपा का घोर अपराधीकरण व सरकार का भगवाकरण हो गया है। वहीं आरएसएस का व्यापक राजनीतिकरण हो गया है। जिससे देशभर में एक विचित्र नकारात्मक स्थिति पैदा हो गई। इससे विभिन्न प्रकार की हिंसात्मक प्रवृत्ति व अपराधों का बोलवाला हो गया है। इससे हत्याओं व अनेको प्रकार की जुल्म ज्यादती व शोषण का अंतहीन सिलसिला कायम हो गया लगता है, जिससे देश की लगभग सवासौ करोड़ जनता बुरी तहर से पिसती चली जा रही है। 

सर्वोच्च न्यायालय के बार-बार के स्पष्ट निर्देशों के बावजूद फिल्म पद्मावत पर भाजपा सरकारों व आरएसएस आदि का जो ढुलमुल व खासकर कानून व्यवस्था बनाये रखने के मामले में लचर व संलिप्ततावादी रवैया रहा है। मायावती ने कहा कि विकास व सबका साथ सबका विकास के नाम पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व भाजपा सरकारों को छलावा अब बेनकाब होकर लोगों के सामने आता जा रहा है। ये सब ढकोंसला मात्र ही रह गया है क्योंकि भाजपा की सरकारें काम ठीक इसका उल्टा ही कर रही है। इसके अलावा अर्थ व्यवस्था के विकास को ढिंढोरा भी अब देश की सवासौ करोड़ जनता के लिए एक कड़वा मजाक बन गया है। 


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।