बुंदेलखंड का नाम करेगी रोशन, जग में हमारी राजदुलारी, पढियेगा जरूर

By: jhansitimes.com
Apr 03 2018 10:15 am
642

झाँसी। मेरा नाम करेगी रोशन, जग में मेरी राजदुलारी। जी हां, बेटियों को अभिशाप समझने वाले यह नहीं जानते कि बेटे यदि बुढ़ापे का सहारा बनते हैं तो बेटियां भी उनसे कम नहीं होतीं। उन्हें भी अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका भर चाहिए, बस। फिर देखो कैसे सफलता की बुलंदियों पर पहुंचकर वे अपना, पिता और परिवार के साथ देश का नाम रोशन करती हैं। ऐसी ही एक प्रतिभा हमारे बुंदेलखंड के जालौन जनपद स्थित उरई में जन्मी। जिसके जन्म पर अफसोस जताने वाले परिवार के सदस्य आज उसकी वजह से समाज में सीना चौड़ा करके चलते हैं और फक्र से कहते हैं कि ये हमारी बेटी है। 

परिवार को जन्म के समय लगा था बहुत बुरा

मूल रूप से उत्तर प्रदेश के जनपद जालौन स्थित उरई निवासी अरविंद कुमार के यहां लगभग दस-बारह वर्ष पूर्व बेटी का जन्म हुआ। बेटी पैदा होने से पूरे परिवार में मातम छा गया और परिवार के साथ-साथ स्वयं अरविंद की पत्नी ने भी अफसोस जताया। लेकिन अरविंद ने तो कुछ और ही ठान रखी थी। उन्होंने इस बेटी की ही उस बेटे के रूप में परवरिश करने का निर्णय लिया, जिस पर उन्हें ही नहीं बल्कि सारे समाज और पूरे देश को गर्व हो। 

उरई छोड़ झाँसी आकर बस गए अरविंद

अरविंद ने अपनी पत्नी को समझा-बुझा कर नवजात बेटी का विरोध करने वाले परिवार को ही छोड़ अलग बसने का निर्णय लिया। वे पत्नी व अपनी मासूम बेटी को लेकर झांसी आ गए और आवास विकास कॉलोनी में रहने लगे। बेटी का नाम रखा गया लगन लाक्षाकार। नाम के अनुरूप ही बेटी में सबकुछ सीख लेने की लगन थी। उसका स्कूल में दाखिला कराया गया और प्रारंभिक शिक्षा शुरू हो गई। 

गुरु ने शुरू की स्वीमिंग और कराटे की ट्रेनिंग 

झांसी में जब लगन स्कूल जाने लगी तो उसकी प्रतिभा को देखते हुए अरविंद भी उसके लिए योग्य गुरु की खोज करने लगे। इसी दौरान उनकी मुलाकात कराटे और स्वीमिंग के गुरु दीनदयाल मिश्रा से हुई। दीनदयाल के कहने पर अरविंद ने अपनी बेटी को उनसे शिक्षा दिलाना शुरू की। धीरे-धीरे आज लगन लगभग 12 वर्ष की  हो गई। साथ ही कराटे में पारंगत भी। 

21 गोल्ड मेडल जीत चुकी है अभी तक लगन 

लगन ने कराटे सीखा और प्रदेश के साथ ही देश व विदेश की विभिन्न प्रतियोगिताओं में प्रतिभाग किया। अभी तक वह  21 गोल्ड मेडल जीत चुकी है। कक्षा 4 की बारह वर्षीय छात्रा लगन की यह शुरूआत है। पिछले दिनों नई दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम हुई प्रतियोगिता में लगन ने गोल्ड मेडल जीता और उसे भारत सरकार की ओर से थाईलैंड में आयोजित प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए चयनित किया गया। 

उमा भारती व राजीव पारीछा ने की मदद

विदेश जाने के लिए अरविंद के पास रुपए न थे। बेटी के गुरु दीनदयाल ने उन्हें जनप्रतिनिधियों से मदद लेने की सलाह दी। इस पर लगन के पिता अरविंद ने केंद्रीय मंत्री उमा भारती व बबीना विधायक राजीव पारीछा से बातचीत की। दोनों नेताओं ने उनकी आर्थिक मदद की। जिसकी वजह से लगन थाईलैंड गई और वहां भी सफलता के झण्डे गाड़ आई। उसने वहां भी गोल्ड मेडल जीता। 

थाईलैंड के बाद यूएसए व इंग्लैंड में दर्ज की जीत

लगन की सफलता का रथ लगातार दौड़ रहा है। थाईलैंड से वापस आने पर उसे कराटे प्रतियोगिता में यूएसए और इंग्लैंड भी भेजा गया। इस नन्हीं चैम्पियन को सरकार ने रानी लक्ष्मीबाई पुरस्कार से भी सम्मानित किया है। 

मासूम लगन बच्चों को सिखाती है योगा

स्कूल में पढ़ाई, दिन भर की थकान भरी ट्रेनिंग और प्रतियोगिताओं में जी-तोड़ मेहनत के बाद जब खाली समय बचता है तो छुट्टी के दिन लगन अपने घर पर योगा क्लासेस लगाती हैं। इसमें उसके जैसे ही 84 बच्चे उसके साथ योगा सीखते हैं। वह चाहती हैं कि देश का नाम दुनिया में ऊंचाई तक ले जाएं और अपने पिता और देश को एक नई पहचान  दिलाएं। 

अंकित चौधरी के साथ मोनू शाक्या और सनी सरदार की ख़ास रिपोर्ट 


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।