बुंदेलखंड के दर्द की गूंज, न चूल्हे में आग है न थाली में रोटी

By: jhansitimes.com
Jan 24 2019 02:23 pm
1003

बुंदेलखंड। सूखे और बदहाली का दर्द पिछले कई सालों से झेल रहे बुंदेलखंड की दर्द की ये दास्तान है जहां अब रोजगार न मिलने के कारण  ना तो चूल्हे में आग है और ना ही थाली में रोटी। बुंदेलखंड के कई गांव ऐसे हैं जहां लोग बस एक ही शब्द से जूझते रहते हैं और वो है भूख। इन गांवों में लोगों की सुबह शुरू ही इस बात से होती है कि आज घर में चूल्हा जलेगा या नहीं।

लंच का वक्त है, श्यामा को पता है कि चारों भूखे बच्चे जो खाने के इंतजार में हैं जल्द ही बेचैन हो जाएंगे। वो खुश है कि उसकी बहन चुन्नी बाई उसकी मदद कर रही है। उसको तीसरा बच्चा होने वाला है और वो जल्दी थक जाती है। आखिरी महीना चल रहा है और उसके लिए जलावन की लकड़ियां बीनने के लिए भटकना असंभव है। कढ़ाइली से लकड़ियां बीनना और उन्हें फतेहगंज जाकर बेचना कठिन काम है। उसे लकड़ी के एक गठ्ठर से 25 रुपए मिलते हैं जो उसके बहुत काम के हैं। उसका पति काम की तलाश में कोटा गया है।

जैसे ही रोटियां तैयार होती हैं छोटे बच्चे चूल्हे के इर्द गिर्द जमा होने लगते हैं। चार से छह साले के बच्चे जैसे ही रोटी पाते हैं जहां नमक रखा है वहां चले जाते हैं, रोटी पर नमक छिड़कते हैं, उसे मोड़ते हैं और रोल बना कर खाना शुरू कर देते हैं। उसकी बेटी पार्वती बमुश्किल चार साल की है, वो रोटी पर नमक छिड़क कर अपने भाई को देती है। यहां इसे ही दो जून की रोटी कहा जाता है।

हालांकि श्यामा को आप भाग्यशाली कह सकते हैं क्योंकि उसके पास थोड़ा गेहूं जमा है। लेकिन यूपी के इस गुदरामपुर गांव में जो बांदा जिले के नरैनी ब्लॉक में पड़ता है वहां के कुछ लोगों के पास ये भी नहीं है। यह तीसरा सीजन है जब इस इलाके के लोगों इन हालात से जूझ रहे हैं। 2014 में जरूरत से ज्यादा बरसात के बाद पिछले साल दो सीजन सूखे में गुजर गए। दाल तो इस इलाके के लोगों के लिए सपना हो गई है। जब खेत से ही अरहर गायब है तो थाली में कैसे दिखेगी। दुकान में 100 रुपए किलो बिक रही दाल कौन खरीदेगा।

इस खूबसूरत गांव के पीछे गरीबी का गहरा दर्द छिपा है। गांव के ज्यादातर घरों में खाने के भंडार खत्म हो चुके हैं। पूरा बुंदेलखंड में इस दर्द की गूंज सुनी जा सकती है- खासतौर पर उन गांवों में जो जंगला के करीब हैं। दो जून का खाना बड़ी मुश्किल से मिलता है और अगर मिल गया तो फिर नमक से ही खाना पड़ता है।

ये आदिवासी परिवार हैं जिनके पास जमीन तो नहीं है लेकिन बटाई पर खेती कर गुजारा करते हैं। यानि दूसरे के खेत को किराए पर लेकर खेती। ये बीज खरीदते हैं, खाद डालते हैं, मेहनत करते हैं और जो पैदा होता है उसे खेत के मालिक के साथ बांटते हैं। श्यामा और चुन्नी ने 5,000 रुपए साहूकार से लेकर रबी के सीजन में गेहूं, अरहर और ज्वार बोई है लेकिन अगर बरसात नहीं हुई तो कुछ भी पैदा नहीं होगा। लेकिन कर्ज पर सूद तो बरकरार रहेगा।

भुखमरी से लड़ने के लिए यहां सरकारी सपोर्ट भी लगभग नदारद है। प्राइमरी स्कूल जहां बच्चों को मिड डे मील के जरिए एक वक्त का भोजन मिल सकता है वो स्कूल भी हमें बंद ही मिला। गांववालों का कहना है कि टीचर भी कभी ड्यूटी करने स्कूल नहीं आते और शिक्षामित्र जो स्कूल चलाना जिसके जिम्मे है वो पढ़ाता ही नहीं।

उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश की सीमा बसे कमाशिन ब्लॉक के शदासानी गांव की सुभद्रा देवी लगातार तीसरे दिन हाथ पर हाथ धरे बैठी हैं। उनके और उनके पति के पास न खेतों में करने के लिए कोई काम है न नरेगा में। राशन कार्ड पर भी वो ज्यादा अनाज ले चुकी है और चक्की से भी उधार आटा लिया है। इसका दलिया बनेगा या फिर वही नमक रोटी। 7 से 10 रुपए किलो का आलू एक और चीज है जो उसकी पहुंच में है लेकिन आज तो वो भी नहीं।

लेकिन इस अंधेरे में भी उम्मीद की किरण दिखती है। श्यामा ने एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया। श्यामा और उसकी नवजात बेटी दोनों ठीक हैं। पति ने बच्ची की देखभाल के लिए पांच हजार रुपए भेजे हैं। बच्ची को अभी कुछ नहीं पता लेकिन जब वो बड़ी होगी तो एक शब्द जो उससे सबसे अधिक सुनने को मिलेगा वो है अकाल।


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।