बक्सर डीएम की गाजियाबाद में रेलवे ट्रैक पर मिली लाश, सुसाइड नोट में बताई बड़ी वजह

By: jhansitimes.com
Aug 11 2017 09:26 am
261

गाजियाबाद: गुरुवार रात को बिहार में बक्सर जनपद के जिलाधिकारी मुकेश कुमार पांडेय ने दिल्ली में आत्महत्या कर ली|  डीएम की लाश गाजियाबाद स्टेशन से 200 मीटर आगे यार्ड में रेलवे ट्रैक पर मिली। उन्होंने किन कारणों से आत्महत्या जैसा खतरनाक कदम उठाया यह पता नहीं चल सका है. हालांकि सूत्रों का कहना है कि उन्होंने अपने फोन से एक मैसेज किसी को भेजा है जिसमें लिखा है कि 'पश्चिमी दिल्ली स्थित जनकपुरी में होटल पिकाडिल्ली के दसवें तल्ले से छलांग लगाकर आत्महत्या कर रहे हैं. मैसेज में लिखा है कि मैं जीवन से निराश हूं और मानवता से विश्वास उठ गया है. मेरा सुसाइड नोट दिल्ली के होटल लीला पैलेस में नाईक के बैग में रूम नंबर 742 में रखा है. मैं आप सबसे प्यार करता हूं, कृपया मुझे माफ कर दें.' हालांकि वहां पुलिस के पहुंचने के बाद डीएम नहीं मिले. लेकिन उनके शव को गाजियाबाद में रेलवे ट्रैक से बरामद किए जाने की सूचना है.

होटल से मिले सुसाइड नोट में उन्होंने लिखा कि, 'मैं अपनी पत्नी और अपने मां-बाप के बीच हो रहे झगड़े से बेहद परेशान हूं, इस वजह से यह कदम उठा रहा हूं'। गुरुवार को मुकेश के ससुर ने सरोजिनी नगर पुलिस स्टेशन में उनके लापता होने की रिपोर्ट भी दर्ज कराई थी। बिहार के बक्सर जिले के डीएम मुकेश पांडे बुधवार देर रात बक्सर से दिल्ली के लिए निकले थे। दिल्ली पहुंचने के लगभग 14 घंटे बाद मुकेश पांडे ने ट्रेन के आगे कूदकर खुदकुशी कर ली।

बता दें कि 2012 बैच के आईएएस अधिकारी मुकेश पांडेय को 31 जुलाई को बक्सर का डीएम बनाया गया था. बतौर जिलाधिकारी यह उनकी पहली पदस्थापना थी. इसके पहले वे बेगूसराय के बलिया अनुमंडल में एसडीएम व कटिहार में डीडीसी के पद पर सेवा दे चुके थे.मुकेश मूलतः छपरा के रहने वाले थे. 2012 में ऑल इंडिया में 14वीं रैंक लाने वाले मुकेश पांडेय तेज तर्रार, बेदाग और कड़क अफसर थे. उन्हें वर्ष 2015 में संयुक्त सचिव रैंक में प्रमोशन मिला था.

मुकेश के पास से एक सुसाइड नोट भी मिला है, जिसमें उन्होंने अपनी मर्जी से खुदकुशी करने की बात लिखी है। पुलिस सूत्रों की मानें तो सुसाइड नोट में चार फोन नंबर भी लिखे हुए हैं। यह सभी नंबर परिवार वालों के हैं। सुसाइड नोट में एक जगह लिखा है कि विस्तृत सुसाइड नोट बैग में है। उन्होंने लिखा, 'वह बैग दिल्ली के लीला पैलेस होटल के कमरा नंबर-742 में है। मेरे बैग में एक और सुसाइड नोट है, जिसमें पूरी जानकारी है।' लीला होटल से मिले सुसाइड नोट में लिखा है कि 'मैं अपनी पत्नी और अपने मां-बाप के बीच हो रहे झगड़े से बेहद परेशान हूं, इस वजह से यह कदम उठा रहा हूं'। बताते चलें कि मुकेश की 3 महीने की एक बच्ची है।

पुलिस के मुताबिक, सबसे पहले वो शाम 6 बजे दिल्ली के जनकपुरी स्थित डिस्ट्रिक्ट सेंटर खुदकुशी करने पहुंचे। यहां पर उन्होंने परिजनों को व्हाट्सएप करके खुदकुशी करने की जानकारी दी। इसके बाद आनन-फानन में पुलिस वहां पहुंची तो मुकेश पांडे अपना फोन होटल में छोड़कर गायब हो गए।

पुलिस वहां पहुंची लेकिन मुकेश का कुछ पता नहीं चला। रात करीब साढ़े आठ बजे गाजियाबाद में रेलवे ट्रैक पर उनका शव बरामद हुआ। बताते चलें कि बीते 4 अगस्त को ही उन्हें बक्सर का डीएम नियुक्त किया गया था। बक्सर से पहले मुकेश बेगूसराय के बलिया अनुमंडल में एसडीएम व कटिहार में डीडीसी के पद पर सेवा दे चुके थे। UPSC परीक्षा 2012 में 14वीं रैंक लाने वाले मुकेश पांडे को साल 2015 में संयुक्त सचिव रैंक में प्रमोशन मिला था। फिलहाल पुलिस मामले की बारीकी से जांच कर रही है।


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।