CM साहब! सदानीरा बेतवा के अस्तित्व पर कैसे लग रहा है ग्रहण, मनमाने खनन की झलक देखें

By: jhansitimes.com
Feb 09 2019 09:21 am
368

उरई। सरकार की मुनाफाखोर सोच जनजीवन पर भारी पड़ रही है। राजस्व के लिए उसने एनजीटी के दिशा निर्देशों को ताक पर रख दिया है। बेतवा के किनारे के गांवों में सर्दी के मौसम मे ही जल संकट की दस्तक शुरू हो गई जो आने वाले दिनों में भयावह स्थितियों का संकेत है।

भरपूर राजस्व बटोर फूट ली सरकार

ई-टेंडरिंग से भरपूर राजस्व बटोरने के बाद बेतवा में हो रहे मौरम खनन के मामले में राज्य सरकार ने पर्यावरण से जुड़ी तमाम चिंताओं की ओर से मुंह मोड़ लिया है। बेतवा दुर्लभ सदानीरा नदियों में है जिसमें पानी की शुद्धता बनी हुई है। साथ ही प्रहलाद कुंड जैसे तमाम स्पाट हैं जहां नदी गर्मियों के मौसम में भी 30 मीटर तक गहरी बनी रहती है। मशीनों से नदी के बीच से खनन के कारण बेतवा के अस्तित्व पर बन आई है।

इसलिए श्रीमान जी को लोग कहने लगे फेंकू

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यूपी विधानसभा के 2017 के चुनाव अभियान में जब उरई में जनसभा करने आये थे, जनमानस की नब्ज को पहचान कर उन्होंने सैटेलाइट से बेतवा के अवैध खनन की निगरानी कराने का भरोसा मंच से दिलाया था। लेकिन वे विरोधियों द्वारा उन पर फेंकू होने के कटाक्ष को स्वयं ही इस मुददे पर प्रमाणित कर रहे हैं।

 

नियमों में ही खोज डाली भेदी सुरंग

अकेले कालपी तहसील में अढ़ाई सौं से अधिक जेसीबी बेतवा का सीना चीरने में लगी हैं। रास्ता बनाने के लिए एक-दो जेसीबी की परमीशन की आड़ में दर्जनों की संख्या में इन मशीनों को नदी में उतार दिया गया है। नियमों में सेंध का एक नमूना जिले के हमीरपुर बार्डर पर देखने को मिला। चित्रकूट कमिश्नरी के एक अधिकारी ने मौरम माफिया से 20 लाख रुपये की कथित रिश्वत लेकर नदी में पुल बनाने की इजाजत दे दी। जबकि यह इजाजत ठहरे हुए पानी में ही दी जा सकती है। जल धारा को रोककर पुल बनाने का रास्ता साफ करने के लिए इस छूट का सहारा लिया गया। अभी तक कमिश्नरी के उच्चाधिकारियों ने भी इस पर गौर फरमाने की जरूरत नही समझी है।

माफिया राज की इंतहा

इस मामले में माफिया राज की इंतहा है। बिना अनुमति के किसानों को 1 हजार रुपये प्रति ट्रक का लालच देकर खेतों से भी मौरम उठाई जा रही है। इसके लिए खेत से 5 से 6 फीट तक ऊपर की मिटटी हटानी पड़ती है। वन क्षेत्र को भी नही बख्शा जा रहा है। यहां तक की खनिज निदेशक रोशन जैकब ने औचक निरीक्षण में मौके पर इस जंगल राज की झलक देखने के बाद कुछ खनन पटटे निरस्त करके संबंधित कंपनियों को काली सूची में डाल दिया था। लेकिन हैरत की बात यह है कि उनके पीठ फेरते ही वहां फिर खनन शुरू हो गया। जब ग्रामीण भड़के तो मजबूरी में अधिकारियों ने मौके पर जाकर मौरम से भरे ट्रक तो पकड़ लिये लेकिन पटटा धारक के खिलाफ एफआईआर कराने की जिम्मेदारी उन्होंने फिर भी नही निभाई।

 

अफसरों की गहरी नींद

सैटेलाइट से निगरानी की आशंका से बचने के लिए रात में खनन कराया जाता है जबकि इसकी मनाही है। पूरी रात खनन की हलचल नदी के किनारे के सन्नाटे को चीरती रहती है लेकिन अधिकारियों की नींद नही टूटती।

बेतवा की मौरम से भारी मात्रा में काला धन जमा करने वाले अधिकारियों और नेताओं के खिलाफ न्यायालय के आदेश से सीबीआई द्वारा जांच की जा रही है। इसके बावजूद खनन माफियाओं के मनोबल पर कोई असर इसलिए नही है क्योंकि अधिकारी अभी भी इसके जरिये अकूत रुपये बटोरने के लोभ का संवरण नही कर पाये हैं। दलील यह दी जाती है कि अगर ज्यादा सख्ती करेगें तो मौरम मंहगी हो जायेगी। जिसका खामियाजा जनता को ही भोगना पड़ेगा। खनन क्षेत्र के आसपास के ग्रामीणों ने बताया कि अंधाधंुध खनन के कारण उनके यहां हैंडपंप जबाव देने लगे हैं। सर्दी में यह हाल है तो गर्मी में क्या होगा। यह गांवों के उजड़ने की बारी आने की प्रस्तावना है। अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर पर्यावरण को लेकर स्यापा करने वाली हमारी सरकार की जमीनी हकीकत क्या है यह इसकी एक बानगी कही जा सकती है।


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।