कर्नाटक में पूर्ण बहुमत के करीब कांग्रेस, जनता ने बीजेपी को ज्यादा भ्रष्ट माना, भाजपा से बेहतर का

By: jhansitimes.com
May 07 2018 06:11 pm
1071

नई दिल्ली। कर्नाटक विधान सभा चुनाव का सियासी रण अब दिलचस्प मोड़ पर है। कांग्रेस और बीजेपी दोनों दलों के दिग्गज ताबड़तोड़ रैली कर रहे हैं। 12 मई को राज्य की जनता उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला ईवीएम में कैद कर देगी। इसी बीच वोटिंग से पहले एबीपी न्यूज़ कर्नाटक का फाइनल ओपिनियन पोल किया है। जिसके मुताबिक कर्नाटक चुनाव में लिंगायत समुदाय बीजेपी के साथ है। सर्वे के मुताबिक कांग्रेस के साथ 18 % लिंगायत हैं तो बीजेपी के साथ 61% और जेडीएस+ के साथ 11% प्रतिशत हैं। कर्नाटक में किसी पार्टी को बहुमत मिलता नहीं दिख रहा है, कांग्रेस को सबसे ज्यादा सीटें लेकिन बहुमत से दूर दिख रही है

 सर्वे के मुताबिक कर्नाटक चुनाव की सीटों की बात करें तो कांग्रेस को 97 सीटें ,बीजेपी को 84 सीटें, जेडीएस को 37 सीटें वहीं अन्य को 4 सीटें मिल सकती है। कर्नाटक चुनाव में गांव के 32% बीजेपी के साथ 39% वोटर कांग्रेस के साथ 23% वोटर जेडीएस के साथ हैं।

झांसी विकास प्राधिकरण द्वारा स्वीकृत प्लाट बिकाऊ है आसान किस्तों पर, इंजीनियरिंग कालेज के पास कानपुर रोड दिगारा भगवंतपुरा बाईपास रोड झांसी पर स्थित

सम्पर्क करें- 08858888829, 07617860007, 09415186919, 08400417004

कर्नाटक में कांग्रेस से ज्यादा लोगों ने बीजेपी को भ्रष्ट माना है हालांकि पीएम मोदी का काम 23 फीसदी लोगों ने बहुत अच्छा बताया है। कर्नाटक चुनाव के ओपिनियन पोल में विकास के लिए लोगों ने कांग्रेस को बीजेपी से बेहतर माना है। कर्नाटक की जनता ने सर्वे में बीजेपी को 44% कांग्रेस को 41% जेडीएस को 4% भ्रष्ट माना है। कर्नाटक में सीएम के तौर पर पहली पसंद सिद्धारमैया हैं। कर्नाटक चुनाव में वोट शेयर में बीजेपी से आगे निकलती दिख रही है कांग्रेस, कांग्रेस का वोट शेयर बीजेपी से 5 फीसदी ज्यादा हो सकता है।

कर्नाटक में इस समय कांग्रेस की सरकार है और सिद्धारमैया प्रदेश के सीएम हैं। 224 विधानसभा सीटों पर बहुमत के लिए 113 सीटों की जरूरत है। 2013 में हुए विधानसभा चुनावों में कांग्रेस ने 122 सीटों पर जीत हासिल करते हुए बहुमत हासिल किया था। कांग्रेस ने जहां एक बार फिर से सिद्धारमैया को सीएम के चेहरे के तौर पर पेश किया है तो वहीं भाजपा बीएस येदुरप्पा को चेहरा बनाकर चुनाव लड़ रही है। प्रदेश में मुख्य मुकाबला भाजपा और कांग्रेस में माना जा रहा है लेकिन जनता दल (सेक्युलर) और बसपा गठबंधन प्रदेश में बड़ी ताकत बन सकते हैं और ये गठबंधन मुकाबले को त्रिकोणीय बनाने की कोशिश में है।

झांसी विकास प्राधिकरण द्वारा स्वीकृत प्लाट बिकाऊ है आसान किस्तों पर, इंजीनियरिंग कालेज के पास कानपुर रोड दिगारा भगवंतपुरा बाईपास रोड झांसी पर स्थित

सम्पर्क करें- 08858888829, 07617860007, 09415186919, 08400417004


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।