PM मोदी के नहले पर कांग्रेस का दहला

By: jhansitimes.com
Oct 22 2018 11:38 am
310

नई दिल्ली : आजाद हिंद फौज का 75वां स्थापना दिवस नेताओं के लिए मौका बनकर सामने आया और नेताजी सुभाष चंद्र बोस को लेकर राजनीति गरम हो गई। पीएम नरेंद्र मोदी ने जहां लाल किले से कांग्रेस पर नेताजी और सरदार पटेल जैसी विभूतियों को भुलाने का आरोप लगाया तो वहीं कांग्रेस ने पलटवार करते हुए कहा कि विरासत विहीन बीजेपी जल बिन मछली जैसे तड़प रही है। बीजेपी का आजादी के आंदोलन में कोई योगदान नहीं रहा, इसलिए वह विरासत हथिया रही है। कांग्रेस ने अपनी पिछली सरकारों में नेताजी के सम्मान में किए गए कामों को गिनाते हुए पीएम को इतिहास पढ़ने की सलाह भी दे डाली।

कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा, ‘एक उच्च संवैधानिक पद पर आसीन होकर शुभ अवसरों पर भी पीएम का 24 घंटे राजनीति की बात करना क्या शोभा देता है। क्या आज के शुभ दिन पर यह जरूरी था। कभी पटेल को राजनीति में घसीट लाते हैं, कभी नेताजी को।’ सिंघवी ने कहा कि विरासत विहीन बीजेपी जल बिन मछली की तरह तड़प रही है। राष्ट्रीय आंदोलन, आजादी के आंदोलन की विरासत को हथियाने में लगी हुई है।

सिंघवी ने कहा कि नेताजी का पूरा राजनीतिक जीवन कांग्रेस के साथ शुरू हुआ और वह कांग्रेस के शीर्ष पर पहुंचे। जब आजादी मिली तो नेहरू ने पहला मुख्य भाषण दिया तो उन्होंने उस वक्त श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि काश हमारे साथ नेताजी होते।

सिंघवी ने कहा कि कौन था जिसने नेताजी के इंडियन नैशनल आर्मी के ट्रायल में स्वतंत्रता सेनानियों को डिफेंड किया था? क्या संघ के वकील थे? क्या बीजेपी के वकील थे? नहीं, वहां वकील जवाहरलाल नेहरू थे।’

सिंघवी ने कहा, ‘नेताजी ने 1938 में नैशनल प्लानिंग कमिटी बनाई थी। इसी को आजादी के बाद प्लानिंग कमिशन का रूप मिला। नेताजी ने जिस संस्था को बनाया आज उसे ध्वस्त कर नीति आयोग बना पीएम नेताजी की दुहाई दे रहे हैं।’

सिंघवी ने पूछा, ‘1957 में नेताजी रिसर्च ब्यूरो किसने बनाया? नेहरू सरकार ने इसे बनाया। 1975 में इंदिरा गांधी सरकार ने वैश्विक स्तर पर सेमिनार किया जिसे फर्स्ट नेताजी इंटरनैशनल सेमिनार कहा जाता है।’

सिंघवी ने बताया कि मोइरांग में आजाद हिंद फौज के शहीदों के लिए मेमोरियल बनाने के काम से लेकर नेताजी म्यूजियम तक का काम कांग्रेस सरकारों में हुआ।

  जानिए क्या कहा था पीएम ने  

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कहा कि एक परिवार की मौजूदगी को बड़ा बताने के लिए सुभाष चंद्र बोस, बी.आर.अंबेडकर व सरदार पटेल जैसे नेताओं के देश के लिए योगदान को भुला दिया गया।

प्रधानमंत्री ने आजाद हिंद फौज को समर्पित एक संग्रहालय की आधारशिला रखी। मोदी ने कहा कि आजाद हिंद फौज की स्थापना करने वाले सुभाष चंद्र बोस ने कैम्ब्रिज में अपने दिनों को याद करते हुए लिखा था, “हम भारतीयों को ये सिखाया जाता है कि यूरोप, ग्रेट ब्रिटेन का ही बड़ा स्वरूप है। इसलिए हमारी आदत यूरोप को इंग्लैंड के चश्मे से देखने की हो गई है।”

मोदी ने कहा, “यह हमारा दुर्भाग्य है कि आजादी के बाद भी जिन्होंने देश व हमारी प्रणाली की नींव रखी वो भारत को विदेशी चश्मे से देखते रहे। इससे हमारी विरासत, संस्कृति, शिक्षा प्रणाली, हमारा अध्ययन सभी बुरी तरह से प्रभावित हुआ।”

मोदी ने कहा, “आज मैं निश्चित तौर पर यह कह सकता हूं कि अगर हमारे देश को सुभाष बाबू, सरदार पटेल जैसे शख्सियतों का मार्गदर्शन मिला होता और अगर भारत को देखने के लिए वो विदेशी चश्मा नहीं होता, तो स्थितियां बहुत भिन्न होतीं। यह दुखद है कि सिर्फ एक परिवार की मौजूदगी को बढ़ाने के लिए पटेल, अंबेडकर व बोस जैसे भारत के सपूतों को भुला दिया गया।”


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।