गुरदासपुर के चुनाव परिणाम से शुरू हुई राजनीति की उल्टी गिनती

By: jhansitimes.com
Oct 21 2017 08:04 pm
335

(editor-in-chief, K.P SINGH ) पंजाब के गुरदासपुर लोकसभा क्षेत्र के उपचुनाव का नतीजा भाजपा पर कहर टूटने जैसा रहा है। हालांकि भाजपा के हमदर्द इसे राजनीति की हवा बदलने के संकेत के तौर पर स्वीकार करने को तैयार नही हैं। वे यह साबित करने में लगे हुए हैं कि इसके पीछे स्थानीय कारक जिम्मेदार हैं। पर उनकी दलीलों की विश्वसनीयता के पैबंद पहली नजर में ही उजागर हो जाते हैं। दूसरी ओर कांग्रेस व अन्य विपक्षी खेमे के हौसले गुरदासपुर के नतीजों ने बढ़ा दिये हैं। गुजरात में हुए राज्य सभा चुनाव में अहमद पटेल की जीत से इसकी शुरुआत हुई थी जिसकी पृष्ठभूमि में यह उत्साह और ज्यादा प्रभावी साबित हो रहा है।

लंबे समय तक गुरदासपुर सीट पर कांग्रेस के उम्मीदवारों को सफलता मिलती रही। इसलिए भाजपा के ठेकेदार इसे कांग्रेस की पारंपरिक सीट बताकर अपनी पार्टी की क्षति को कमतर बनाने का असफल प्रयास कर रहे हैं। लेकिन यह नही भूला जाना चाहिए कि इस सीट पर भाजपा से विनोद खन्ना ने चार बार सफलता हासिल की थी। इसलिए यह सीट भाजपा का अभैद्य किला घोषित हो गई थी। इस किले को ढहाने में कामयाबी हासिल करके विपक्ष ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता की उल्टी गिनती की शुरूआत के आकलन पर जबर्दस्त तरीके से मुहर लगा दी है।

भाजपा कैंप के लोग यह सिद्ध करने में लगे हैं कि पार्टी को गुरदासपुर में उम्मीदवार के चयन में की गई चूंक की वजह से नीचा देखना पड़ा। इसका दूसरा मतलब यह है कि पार्टी ने कमजोर उम्मीदवार बनाकर जो रिस्क लिया उसके चलते अंधे के हाथों बटेर लगने की तरह कांग्रेस को इस सीट पर कामयाबी मिल गई। अगर भाजपा रिटायर्ड मेजर स्वर्ण सलारिया की बजाय विनोद खन्ना की पत्नी को उम्मीदवार बना देती तो उसका किला इस बार भी कांग्रेस भेद पाने में विफल रहती। लेकिन गुरदासपुर में वोटों के जो आंकड़े सामने आये हैं उससे यह साबित होता है कि लोग हर कीमत पर भाजपा को हराने पर आमादा थे। इसलिए भाजपा किसी को भी उम्मीदवार बनाती उसका यही हश्र होना था।

2014 के लोकसभा के आम चुनाव में विनोद खन्ना ने गुरदासपुर में 4 लाख 82 हजार 255 मत हासिल किये थे और 1 लाख 73 हजार 376 मतों से कामयाबी हासिल की थी। आम चुनाव में कांग्रेस उम्मीदवार प्रताप वाजवा 3 लाख 46 हजार 190 वोटों पर सिमट गये थे। जबकि उपचुनाव में कांग्रेस के उम्मीदवार सुनील जाखड़ ने विनोद खन्ना को पीछे छोड़ते हुए 4 लाख 99 हजार से अधिक वोट हथिया लिए दूसरी ओर भाजपा प्रत्याशी स्वर्ण सलारिया दूसरे नंबर पर उतने वोट हासिल नही कर सके जितने आम चुनाव में कांग्रेस उम्मीदवार ने हासिल किये थे। उन्हें सिर्फ 3 लाख साढ़े 6 हजार वोट मिले।

उपचुनाव में आप उम्मीदवार को प्राप्त मतों की संख्या देखना चुनाव के वास्तविक रुख को समझने के लिए महत्वपूर्ण है। 2014 के आम चुनाव में आप के उम्मीदवार सुच्चा सिंह ने 1 लाख 73 हजार से अधिक मत हासिल किये थे। दूसरी ओर उपचुनाव में आप उम्मीदवार सुरेश खजुरिया केवल साढ़े 23 हजार मतों पर निबट गये। इसका मतलब क्या है। इसका मतलब है कि मतदाता भाजपा को कोई मौका नही मिलने देना चाहते थे। इसलिए भाजपा विरोधी सभी मतों का ध्रुवीकरण हो गया और मुटठी भर लोगों के अलावा किसी ने आप को वोट नही दिया।

हाल में नोट बंदी और जीएसटी को लेकर सरकार समर्थक संस्थाओं तक के विशेषज्ञों की राय सरकार के खिलाफ आई है। लोग तुगलगी अंदाज में किये गये इन फैसलों के बुरे परिणाम पहले से भुगत रहे थे लेकिन मोदी के वितंडावाद और सम्मोहन की वजह से वे भ्रमित थे। लेकिन विशेषज्ञों की राय ने उनमें मोह भंग के लिए प्रमाणिक आधार तैयार कर दिया और इसकी प्रतिक्रिया उन्होंने गुरदासपुर के जनादेश के रूप में जाहिर की है। जिसका दोहराव फिलहाल आने वाले सभी चुनावों में होने के आसार नजर आ रहे हैं। भाजपा की लीडरशिप को भी इसका एहसास हो चुका है। इसलिए नरेंद्र मोदी और अमित शाह ने कुछ दिनों से कांग्रेस और विपक्ष के खिलाफ युद्ध स्तरीय सक्रियता दिखाना शुरू कर दी है। प्रधानमंत्री के भाषण भी इसके चलते संयम खो रहे हैं। भाजपा को सबसे बड़ी चिंता एंटी इनकाॅमबेंसी फैक्टर की जद में मोदी और शाह के गृह प्रदेश गुजरात के आ जाने की है। गुजरात की पार्टी की गौरव यात्रायें बेहद फीकी रहीं। इसलिए भाजपा के कैंप में घबराहट है। हालांकि मीडिया का एक वर्ग गुजरात में भाजपा की स्थिति को कमजोर आंकते हुए भी यह बता रहा है कि अंततोगत्वा मोदी के करिश्में का अभी भी कोई जोड़ नही है। इसलिए गुजरात में भाजपा को झटका भले ही लग जाये लेकिन सरकार उसी की बनेगी। इन राजनैतिक पंडितों का कहना कुछ हद तक ठीक भी है। लोगों को इंतजार यह है कि पार्टी को संकट से उबारने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शिगूफेबाजी के अपने पिटारे से कौन सा ऐसा नया शिगूफा निकालते हैं जो उनके लिए मुश्किल हालातों का तोड़ साबित होगा।


Tags:
comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।