पांच दिवसीय कार्यक्रम नहीं छोड़ पाये अपनी छाप, समापन अवसर पर डीएम ने कलाकारो को किया सम्मानित

By: jhansitimes.com
Aug 13 2017 06:10 pm
143

रिपोर्ट सैय्यद तामीर उद्दीन/महोबा(ब्यूरो)। पांच दिवसीय कजली महोत्सव के अवसर पर आयोजित होने वाले कार्यक्रमों का समापन शनिवार की रात कवि सम्मेलन के अलावा लोक नृत्य गायन के कार्यक्रम के बाद समापन हो गया है, कार्यक्रम देखने के लिये भारी संख्या में नगर वासियों की भारी भीड़ बनी रही। सुरक्षा व्यवस्था कीदृष्टि से पुलिस ने कड़े इंतजाम किये है। कार्यक्रम दौरान जिलाधिकारी ने बाहरी व स्थानीय कलाकारों को सम्मानित किया है। 

बताते चले कजली महोत्सव के मौके पर पांच दिवसीय कार्यक्रम कीरत सागर पर स्थित मेला मैदान मंच में आयोजित किये गये है 8 तारीख को आल्हा गायन 9 तारीख को मालिनी अवस्थी द्वारा लोक गायन की प्रस्तुति की गयी थी। 10 तारीख को लोक नृत्य प्रस्तुत किया गया था। 11 तारीख को लखनलाल पार्टी द्वारा बुन्देली लोक नृत्य व गायन की प्रस्तुति की थी, 11 तारीख को आल्हा गायन किया गया था। तथा लोक गीत का आयोजन हुआ था, 12 तारीख को कवि सम्मेलन व मुशायरा व लोक नृत्य व गायन का कार्यक्रम किया गया था। शनिवार की रात आयोजित हुये कार्यक्रम में बाहरी व स्थानीय कलाकारों ने बेहतर कार्यक्रम की प्रस्तुति की इस मौके पर जिलाधिकारी अजय कुमार द्वारा बाहरी कलाकारों के अलावा स्थानीय कलाकारों को प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया है, कार्यक्रम का संचालन करने पर राजकीय बालिका इण्टर कालेज की श्क्षििका सरगम खरे को जिलाधिकारी द्वारा प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया है। बताते चले कजली महोत्सव पर पांच दिवसीय हुये कार्यक्रमों में एक दो कार्यक्रम ही अपनी छाप छोड़ पाये है जबकि अन्य कार्यक्रम रस्मअदायगी में सिमट कर रह गये। इस वर्ष कजली महोत्सव में आयोजित होने वाले कार्यक्रम अपनी छाप नहीं छोड़ पाये जिसका मलाल नगर वासियों में देखने को मिल रहा है, इतना ही नहीं नगर पालिका व महोबा संरक्षण एवं विकास समिति द्वारा कार्यक्रमों को सफल बनाने के लिये काफी प्रयास किया गया लेकिन आयोजित होने वाले कार्यक्रम जनता का दिल नहीं जीत सके। 

मेला स्थल पर स्थानीय लोगों की पहुंच रही भीड़

 कजली महोत्सव के मौके पर पांच दिवसीय कार्यक्रमों का भले ही समापन हो गया हो लेकिन कीरत सागर मेला स्थल पर अभी भी स्थानीय लोगों की भीड़ मेला देखने पहुंच रही है। मेला देखने के लिये शाम से ही नगर वासियों की भीड़ उमड़ पड़ती है। हालांकि इस बार गतवर्ष की तरह दुकाने नहीं आयी है, लेकिन जितनी दुकाने आयी है उन्हीं दुकानों पर पहुंचकर स्थानीय लोग खरीददारी कर रहे है, सुरक्षा व्यवस्था की दृष्टि से मेला स्थल पर पुलिस तैनात है। एसपी के निर्देश पर पुलिस मेला स्थल पर पूरी निगरानी कर रही है, और सुरक्षा व्यवस्था के ही कड़े इंतजाम किये है। 

 


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।