क्या आप जानते हैं, पति को नग्न देख स्वर्ग की उर्वशी ने किया था अपने पति का त्याग

By: jhansitimes.com
Dec 03 2017 10:26 am
703

अक्सर पौराणिक कथाओं में अप्सराओं का जिक्र होता है, स्वर्ग की उर्वशी का । माना जाता है कि अप्सराएँ स्वर्ग में रहने वाली सुंदरियां होती है । जो नृत्य संगीत में निपुण होती है और खूबसूरती में उनका मुकाबला कोई नही कर सकता ।

ऐसी कुछ अप्सराओं का जिक्र आपने कई बार कहानियों में सुना होगा । जैसे मैनका, उर्वशी, मोहिनी। इन अप्सराओं ने समय -समय पर अपनी खूबसूरती के जरिए एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है । मैनका ने विश्वामित्र का श्राप भंग किया था और मोहिनी भगवान विष्णु का अवतार थी जो राक्षसों से अमृत लेकर आई थी । वही अगर बात करें  स्वर्ग की उर्वशी की तो माना जाता है कि उर्वशी  भगवान विष्णु की जांघ से जन्मी थी. उर्वशी स्वर्ग की सबसे सुंदर अप्सरा थी। उर्वशी की वजह से स्वर्ग में रौनक लगी रहती थी। लेकिन उर्वशी स्वर्ग की जिंदगी से उब चुकी थी ।

स्वर्ग की उर्वशी ने कुछ वक्त धरती पर रहने की सोची । और उर्वशी धरती पर रहने के लिए आ गई । कुछ वक्त धरती पर रहने के बाद जब उर्वशी स्वर्ग वापस  लौटने लगी तो उर्वशी पर राक्षसों की नजर पङी वो उसे अपने साथ पाताल लोक ले जाना चाहते थे । उस वक्त राजा पुरुरवा ने उर्वशी को राक्षसों से बचाया । राजा पुरुरवा चंद्रवशी राजा थे उनके  माता पिता का नाम ईला और बुध था  । राक्षसों से बचाते वक्त राजा पुरुरवा का हाथ उर्वशी के शरीर को टच कर गया। ऐसा पहली बार था जब उर्वशी को किसी आदमी ने स्पर्श किया था । राक्षसों से बचने के बाद स्वर्ग की उर्वशी ने कुछ वक्त दोबारा धरती पर रहने का सोचा ।

इस दौरान उर्वशी ने एक नाटक में भाग लिया जिसमें उर्वशी ने माता लक्ष्मी का किरदार निभाया लेकिन नाटक के दौरान उर्वशी ने माता लक्ष्मी के पति  भगवान विष्णु  की जगह राजा पुरुरवा का नाम ले लिया। जिसे क्रोध में आकर ऋषि भरत मुनि ने उर्वशी को धरती पर एक आम महिला की जिंदगी जीने का श्राप दे दिया । लेकिन उर्वशी को इस श्राप से कोई फर्क नहीं पङा । क्योंकि वो अपना दिल राजा पुरुरवा को दे चुकी थी । राजा पुरुरवा भी उर्वशी को चाहने लगे थे उन्होंने उर्वशी के आगे शादी का प्रस्ताव रखा ।

लेकिन उर्वशी ने राजा पुरुरवा के सामने तीन शर्ते रखी । उर्वशी के पास दो बकरियां थी जिसकी रक्षा राजा पुरुरवा को हमेशा करनी होगी। औल इसके बाद उर्वशी ने राजा पुरुरवा से कहा कि उन्हे हमेशा घी का सेवन करना होगा । और वो दोनो शारीरिक संबंध के समय के अलावा कभी एक दूसरे को नि र्वस्त्र  नही देखेंगे । राजा ने सारी शर्ते मान ली और उर्वशी से शादी कर ली । इस बीच उर्वशी और राजा पुरुरवा के नौ बच्चे हुए ।

लेकिन उर्वशी और राजा पुरुरवा के विवाह से देव खुश नही थे । वो उर्वशी को वापस स्वर्गलोक लेकर आना चाहते थे । उन्होंने एक साजिश रची । एक बार रात में  जब उर्वशी और राजा पुरुरवा अपना संबंध बना रहे थे । उस वक्त देवो ने उर्वशी की बकरियां चुराने की कोशिश की । उर्वशी ने बकरियों की आवाज सुनकर  पुरुरवा को बकरियों को बचाने को कहा । पुरुरवा बिना वस्त्र पहने बकरियों को बचाने चले गए । उर्वशी भी उनके पीछे गई । बकरियों को तो राजा ने बचा लिया । पर उसी वक्त देवलोक से गंधर्वों ने रोशनी कर दी जिसे उर्वशी ने राजा को नग्न अवस्था में देख लिया।

देवो के छल के कारण स्वर्ग की उर्वशी ने राजा पुरुरवा को बिना वस्त्र के देख लिया । जिस वजह से उसी वक्त उर्वशी को र्स्वगलोक लौटना पङा और अपने प्रेम से बिछङना पङा ।


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।