डीएम ने छापामार तीन को पकड़ा, एमपी की फर्जी रायल्टी संचालित कर रहा था गिरोह

By: jhansitimes.com
Jun 14 2018 05:29 pm
261

(रिपोर्ट-सैय्यद तामीर उद्दीन) महोबा। जनपद में यू0पी0 एवं एम0पी0 की फर्जी रॉयल्टी बनाये जाने की सोशल/प्रिन्ट/इलेक्ट्रानिक मीडिया से लगातार प्राप्त हो रहीं शिकायतों का संज्ञान लेते हुए जिलाधिकारी सहदेव ने देर रात्रि सुभाष नगर एवं लौड़ी तिगैला महोबा तथा कबरई में औचक छापेमारी की। इस दौरान फर्जी रॉयल्टी के कारोबार में संलिप्त सुरेन्द्र सिंह राजपूत पुत्र धर्मराज सिंह निवासी सुभाष नगर लौंड़ी तिगैला, लक्ष्मी कुशवाहा पुत्र जियालाल कुशवाहा निवासी सत्तीपुरा महोबा एवं धर्मराज सिंह पुत्र छोटेलाल कुशवाहा निवासी सुभाष नगर लौड़ी तिगैला महोबा द्वारा गहन पूंछतांछ के बाद आरोप कुबूल किया गया।तीनो आरोपियों के विरूद्ध मुकदमा संख्या 347/18 के अन्तर्गत धाराओं 420, 467 एवं 468 में महोबा कोतवाली में पंजीकृृत कर आरोपियों को रात में ही जेल भेज दिया गया।छापेमारी के दौरान 05 मोबाइल, 01 लैपटॉप, 01 प्रिंटर, 01 कीबोर्ड, एक जियो वाई-फाई डिवाइस, 01 जीएसटी बिल बुक तथा कुछ पुरानी फर्जी रॉयल्टियां पायी गयीं।जिलाधिकारी ने रात मे ही आईटी विशेषज्ञों को बुलाकर बरामद उपकरणों की जांच करायी, जिसमें लैपटॉप की हिस्ट्री में फर्जी रॉयल्टियां पायी जाने की पुष्टि हुयी।पूछतांछ के दौरान आरोपियों ने बताया कि वे मध्य प्रदेश की रॉयल्टी को उत्तर प्रदेश में बनाकर यू0पी0 से माल लोड कराते थे।जिलाधिकारी ने बरामद मोबाइलों को सर्विलांस पर लगवाते हुए कहा कि इस प्रकरण की बहुत सख्ती से निष्पक्ष जांच की जायेगी।साथ ही कहा कि आरोपी चाहे जितना भी पहुंच वाला क्यों न हो, किसी को बख्सा नहीं जायेगा। छापेमारी के दौरान उपजिलाधिकारी सदर राजेश यादव, डिप्टी कलेक्टर चन्द्रशेखर सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

जल्द सफेद पोश नेताओं के चेहरे होगें उजागर 

एमपी की रायल्टी बेंचने वालों की सामत आ गयी है समाचार पत्रों में प्रकाशित हुयी खबरों के बाद अब कबरई के बाद डीएम ने महोबा के दो स्थानों पर छापामारा और यहां से भी तीन लोगों को मौके से पकड़ा गया है। जांच पड़ताल दौरान तीनों लोग मध्य प्रदेश की फर्जी रायल्टी निकाल कर बेंच रहे थे। डीएम सहदेव की इस छापामार कार्यवाही से इस गोरख धंधे को करने वालो में हड़कम्प मचा हुआ है। सूत्रों की माने तो इस गोरख धंधे में मुख्यालय तथा कबरई के तमाम ऐसे चेहरे है जिनको बेनकाब होना बाकी है, हालांकि जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक को इन चेहरों की भनक लग गयी है और वह इनको भी जल्द से जल्द शिकंजे में कसेगंे और इनके चेहरे भी जनता के सामने आ जायेगें। 


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।