पूर्व सैनिक की पत्नी ने पीएम मोदी को भेजी 56 इंच की ब्रा

By: jhansitimes.com
May 12 2017 08:03 am
4380

अब तक आपने सुना होगा कि महिलाएं अक्सर गुस्से में आकर पुरुषों को चूड़ियां भेजतीं हैं, लेकिन हरियाणा के फतेहाबाद से पूर्व सैनिक की गुस्साई पत्नी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को 56 इंच की ब्रा भेजी है। वो कश्मीर में फौजियों पर पत्थरबाजी और शहीदों के शव के साथ हुई बर्बरता को लेकर गुस्सा है। पूर्व सैनिक की पत्नी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक चिट्ठी भी लिखी है। महिला ने पत्र में पीएम को अपने 56 इंच के सीने पर चोली पहनने और सेना के जवानों के हाथों को खोलने की अपील की है। पूर्व सैनिक की पत्नी सुमन रानी गुरुवार को अपने रिटायर्ड फौजी पति धर्मबीर के साथ जिला सैनिक बोर्ड पहुंची और वहां पर पीएम के नाम एक चोली और एक लेटर जमा कराया। 

महिला ने कहा कि वो पीएम को चुनाव से पहले उनके 56 इंच के सीने की बात को याद दिलाना चाहती हैं। सैनिक की पत्नी ने पीएम को जो पत्र भेजा है उसमें कहा कि पहले सैनिक के शहीद होने की बात से उनके परिवार का सर गर्व से ऊंचा हो जाता था लेकिन अब यह डर रहता है कि वहां कश्मीर में कोई लात मारेगा कोई पत्थर मारेगा या सिर काट के ले जाएगा। पत्र में लिखा है कि "पिछले दिनों कुछ वीडियो और खबरों में सैनिकों को कुछ एक आंतकियों द्वारा बेइज्जत किया जा रहा है। लातें मारी जा रही हैं पत्थर मारे जा रहे हैं, सैनिकों के सिर तक काट कर ले गए। 

बीजेपी की सरकार बनने से पहले प्रधानमंत्री जी आपने बड़ी-बड़ी बातें की थी कि एक के बदले 10 सिर काट कर लाने चाहिये। प्रेम पत्र नहीं लिखना चाहिए। दुश्मन को उसी की भाषा में जबाब देना चाहिए। इन्हीं बातों से प्रभावित होकर देश की जनता ने बहुमत से सरकार बना दी। तब लगा कि देश के दुश्मनों को तो सबक सिखाया जा सकेगा। अब कोई हेमराज की तरह शहीद नहीं होगा। दुश्मन ऐसा करने की सोच भी नहीं सकेगा लेकिन ऐसे हादसे कई बार हो गए और प्रधानमंत्री जी दुश्मनों को कभी शाल भेंट कर रहे हो कभी उनके साथ चाय पीने और बधाई देने चले जाते हो। ऐसी शर्मनाक घटना होने पर वही पहले वाली सरकार की तरह कड़े शब्दों में निन्दा, सख्त धमकी, और बातो बातो में करारा जबाब दे देते हो सैनिको के हाथ बंधे लग रहे हैं।"

माीडिया से बातचीत करते हुए सुमन ने बताया कि उसके पति फौज में थे और कई सालों तक उन्होंने देश की सेवा की है। अब वह अपने बेटे को भी फौज में भेजना चाहती है, लेकिन जवानों के साथ बर्बरता देखकर उनकी रूह कांप जाती है। सुमन ने कहा कि इसलिए प्रधानमंत्री को 56 इंच की छाती ढकने के लिए चोली भेजी है। पीएम उसी के लायक हैं।


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।