मशहूर अभिनेत्री श्रीदेवी का दिल का दौरा पड़ने से निधन, आखिरी वक्त बेटी का चेहरा भी नहीं देख पाईं

By: jhansitimes.com
Feb 25 2018 09:09 am
482

 बॉलीवुड की जानी मानी अभिनेत्री श्रीदेवी को दिल का दौरा पड़ने के कारण दुबई में उनका निधन हो गया है. श्रीदेवी 54 साल की थीं. श्रीदेवी अपने पति बोनी कपूर और छोटी बेटी खुशी कपूर के साथ दुबई में भांजे मोहित मारवाह की शादी अटेंड करने गई थीं. श्रीदेवी के निधन की खबर सुनकर पूरा बॉलीवुड सदमे में है. इस खबर के बाद उनके फैंस को इस पर यकीन नहीं हो रहा है. श्रीदेवी की बड़ी बेटी जाह्नवी कपूर शूटिंग के सिलसिले में मुंबई में ही हैं.  बॉलीवुड अभिनेत्री श्रीदेवी (54) का दुबई में निधन हो गया। जाह्नवी अपनी डेब्यू फिल्म 'धड़क' की शूटिंग के चलते वहां नहीं जा, जिस कारण वह आखिरी वक्त में श्रीदेवी के साथ नहीं थी।

हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में श्रीदेवी का काफी बड़ा योगदान रहा है. श्रीदेवी ने हिंदी के अलावा तेलगु, तमिल, कन्नड़ और मलयाली फिल्मों में भी काम किया. वर्ष 2012 में उन्होंने इंग्लिश-विंग्लिश के साथ बॉलीवुड में कमबैक किया था.  उन्होंने वर्ष 1967 में  एक चाइल्ड आर्टिस्ट के रूप में अपने करियर की शुरुआत की थी. श्रीदेवी को 2013 में चौथे उच्चतम नागरिक पुरस्कार पद्म श्री से सम्मानित किया गया था.

श्रीदेवी का बॉलीवुड में प्रवेश 1978 के फिल्म सोलहवां सावन से हुआ था, लेकिन उन्होंने वर्ष 1983 की फिल्म हिम्मतवाला से खूब सुर्खियां बटोरीं. श्रीदेवी की सदमा, नागिन,निगाहें, मिस्टर इन्डिया, चालबाज़, लम्हे, खुदा गावाह और जुदाई फ़िल्में हैं. श्रीदेवी को पांच फिल्मफेयर अवॉर्ड भी मिलेेे. 

श्रीदेवी के निधन की खबर के बाद बॉलीवुड अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा ने ट्वीट करके कहा कि मेरे पास शब्द नहीं है. जिन्होंने भी श्रीदेवी को प्यार किया उन सभी को सांत्वना.  श्रीदेवी के देवर और बोनी कपूर के भाई संजय कपूर शनिवार को दुबई से मुंबई पहुंचे ही थे कि उनके पास श्रीदेवी के हार्ट अटैक की खबर आई। यह सुनते ही वे उलटे पांव दुबई वापस लौट गए।

बोनी कपूर की पहली पत्नी मोना की तरह ही श्रीदेवी का भी दुर्भाग्य रहा कि वे अपनी बेटी जाह्नवी की डेब्यू फिल्म नहीं देख पाईं, जिसकी संभावित रिलीज जुलाई में है।गौरतलब है कि 2012 में जब मोना शौरी कपूर की डेथ हुई थी, तब उनके बेटे अर्जुन कपूर की डेब्यू फिल्म 'इशकजादे' रिलीज होने वाली थी।


Tags:
BOLLYWOOD
comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।