पांच मौतों के बाद बेकाबू हुआ मंदसौर में किसान आंदोलन, शिवराज की अपील- शांति बनाए रखें

By: jhansitimes.com
Jun 07 2017 05:46 pm
408

मंदसौर: किसान आंदोलन के दौरान मध्य प्रदेश में पुलिस फायरिंग के कारन पांच किसानों की मौत हो जाने बाद ये आंदोलन उग्र हो गया है | किसानों की मौत के बाद गुस्से में किसान, धक्का-मुक्की के बाद डीएम को भागना पड़ा- दरअसल, मंदसौर के पिपलियामंडी में पुलिस फ़ायरिंग में 5 किसानों की मौत के बाद हालात बिगड़ते जा रहे हैं. आज किसानों को समझाने के लिए डीएम पहुंचे तो किसानों का गुस्सा उन पर ही फूट पड़ा. उनके साथ धक्का-मुक्की हुई, जिसके चलते उन्हें तुरंत वहां से भागना पड़ा| 

किसानों के मुद्दों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वरिष्ठ मंत्रियों के साथ मीटिंग कर रहे हैं. सूत्रों के अनुसार-देश के कई हिस्सों में किसानों का प्रदर्शन और मंदसौर में हुई फायरिंग पर इसमें चर्चा हुई. गृहमंत्री राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी, कृषि मंत्री राधामोहन सिंह समेत कई वरिष्ठ मंत्री इस बैठक में शामिल हुए| 

उधर, किसान आंदोलन के चलते रतलाम-नीमच लाइन पर असर पड़ा है. रतलाम-नीमच लाइन पर पटरियों को नुक़सान पहुंचाया गया. यहां पर ट्रेनें रोकी गईं.

मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस पर हिंसा भड़काने का आरोप लगाया है और साथ ही जनता से अपील की है कि शांति बनाए रखें और अफवाहों पर ध्यान न दें.

इधर प्रदेश बीजेपी के अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान और मंत्री गौरीशंकर बिसेन को प्रशासन ने मंदसौर पहुंचने से पहले ही रोक लिया. मंदसौर से सांसद रह चुकीं कांग्रेस की मीनाक्षी नटराजन भी पीड़ित परिवारों से मिलने जा रही थीं. उन्हें भी पुलिस ने हिरासत में ले लिया. किसानों की मौत के विरोध में किसान संगठनों और कांग्रेस ने आज मध्य प्रदेश में बंद बुलाया है. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी गुरुवार को मंदसौर जाएंगे. 

वहीं मंदसौर की पिपलियामंडी में कर्फ्यू लगा है. वहीं मंदसौर के साथ- साथ रतलाम, नीमच ज़िले में मोबाइल इंटरनेट पर रोक लगा दी गई है ताकि अफ़वाहों से बचा जा सके. पूरे मंदसौर ज़िले में धारा 144 लगाई गई है. कड़ी सुरक्षा तैनात की गई है... इधर पीड़ित परिवार मुख्यमंत्री के आने तक अंतिम संस्कार न करने की ज़िद पर अड़ा है.


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।