सजायाफ्ता कैदी के साथ महिला जेल अधिकारी ने बनाये शारीरिक संबंध

By: jhansitimes.com
May 02 2018 08:42 am
3325

जेल में बंद एक सजायाफ्ता कैदी के साथ वेल्स में एक महिला जेल अधिकारी द्वारा ही संबंध बनाने की खबर है। जब जेल प्रशासन को इस बात की भनक लगी तो आरोपी महिला अधिकारी को बर्खास्त कर दिया गया है। 

जानकारी के अनुसार, 25 वर्षीय महिला जेल अधिकारी शोना क्लीएरी एक प्राइवेट जेल एचएम प्रीजन पार्क में कार्यरत थी। यह जेल दक्षिणी वेल्स के ब्रिजएंड इलाके में स्थित है। बताया जा रहा है कि महिला अधिकारी ने जेल में बंद एक 22 वर्षीय कैदी कर्ट जर्मन को एक छिपाकर रखे गए फोन पर निजी मैसेज भेजना शुरु कर दिया था। बता दें कि कर्ट जर्मन एक 77 वर्षीय व्यक्ति पर जानलेवा हमला करने के अपराध में 10 साल की सजा काट रहा है। वहीं महिला अधिकारी द्वारा कैदी के साथ संबंधों का खुलासा होने के बाद आरोपी महिला अधिकारी को नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया है।

झांसी विकास प्राधिकरण द्वारा स्वीकृत प्लाट बिकाऊ है आसान किस्तों पर, इंजीनियरिंग कालेज के पास कानपुर रोड दिगारा भगवंतपुरा बाईपास रोड झांसी पर स्थित

सम्पर्क करें- 08858888829, 07617860007, 09415186919, 08400417004

जांच में पता चला है कि सजायाफ्ता कैदी कर्ट जर्मन ने महिला अधिकारी को पहली बार बीते साल अगस्त महीने में कॉल किया था। यह कॉल जर्मन ने उस सेलफोन से किया था, जिसे उसने अपनी जेल में छिपाकर रखा था। जर्मन द्वारा महिला अधिकारी को फोन करने के बाद दोनों का रिश्ता परवान चढ़ गया और फिर महिला अधिकारी ने भी कैदी को मैसेज करना शुरु कर दिए। फिलहाल आरोपी महिला अधिकारी का फोन और लैपटॉप जब्त कर लिया गया है और मामले की जांच की जा रही है। आरोपी महिला अधिकारी को 16 हफ्तों के लिए सस्पेंड कर दिया गया है। साथ ही महिला अधिकारी को 15 दिन रिहैबिलिटेशन प्रक्रिया से भी गुजरना होगा।

महिला अधिकारी से संबंध रखने वाले कैदी को जेल में सेलफोन छिपाकर रखने के जुर्म में 6 महीने अतिरिक्त जेल की सजा भी काटनी होगी। उल्लेखनीय है कि इससे पहले साल 2009 में ब्रिटेन की एक जेल की महिला गार्ड जेल के अंदर ही ड्रग्स रैकेट चलाने की दोषी पायी गई थी। पुलिस ने जब आरोपी महिला गार्ड को गिरफ्तार किया था तो उसके पास से 17 ग्राम हिरोइन और बड़ी मात्रा में गांजे की खेप बरामद की थी।


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।