सर्राफा डकैती कांड के चार आरोपी गिरफ्तार, डेढ़ करोड़ के जेवर बरामद, बंटवारे के विवाद में साथी की ह

By: jhansitimes.com
Jan 14 2018 01:52 pm
1193

झाँसी। डकैती के बाद  माल के बंटवारे में विवाद और फिर अपने ही लुटेरे साथी की हत्या। ऐसा आमतौर पर फिल्मों में देखने को मिलता है। मगर असल जिन्दगी में भी ऐसा ही कुछ हुआ। पिछले दिनों सर्राफा व्यापारी के यहां हुई डकैती के बाद अपने गिरोह के सरगना को ही लूटे गए माल को हथियाने के चक्कर में उसके साथियों ने मार डाला और उसका हिस्सा भी हड़प लिया। मगर पुलिस की नजरों से वह भी नहीं बच सके और पुलिस ने हत्यारे समेत चार और लुटेरों को गिरफ्तार कर उनके पास से डकैती का डेढ़ करोड़ का माल बरामद किया है। मालूम हो कि इससे पहले ही तीन आरोपी जेल जा चुके हैं। 

 

यह था मामला

कोतवाली थाना क्षेत्र के मोहल्ला चौधरयाना में रहने वाले सर्राफा व्यापारी पवन कुमार अग्रवाल के यहां बदमाशों ने उनके यहां से निकाले गए नौकर कृष्णा के साथ मिलकर डकैती की घटना को अंजाम दिया था। इस घटना से पूरा व्यापार मंडल और पुलिस विभाग हिल गया। क्योंकि घटना के बाद किसी भी आरोपी की शिनाख्त नहीं हो सकी थी और डकैती में करोड़ों रुपए के जेवर व 3 लाख 60 हज़ार रुपए नकद बदमाश ले गए थे। पुलिस ने स्वॉट टीम समेत कई थानेदारों को इस मामले की जांच में लगा दिया। 

 

ऐसे बड़ी आगे जांच

पुलिस ने सोशल मीडिया का सहारा लिया और जांच के दौरान कृष्णा नामक युवक का नाम सामने आया। कृष्णा पीडि़त व्यापारी के यहां नौकर था और घटना के कुछ समय पूर्व उसे निकाल दिया गया था। पुलिस ने जांच में कृष्णा के मोबाइल नंबरों को खंगाला और सर्वेलांस की मदद ली। बाद में मुखबिरों की सूचना पर उनाव गेट अंदर निवासी विक्की राय, रामकृपाल व शिवम सूजे को गिरफ्तार कर उनके पास से साढ़े चार लाख के जेवर, 71 हजार रुपए नकद एवं तमंचे व कारतूस बरामद किए थे। 

 

जांच में पहले सरगना के रूप में सामने आया कृष्णा

पुलिस जांच में पहले नौकर कृष्णा गिरोह के सरगना के रूप में सामने आया था। पुलिस ने उसके साथियों की धरपकड़ के लिए जाल फैलाया और कई स्थानों पर छापेमारी भी की, मगर सफलता हाथ नहीं लगी। हां, उसके अन्य साथियों के बारे में जानकारी अवश्य हो गई। पुलिस ने लूटेरा गैंग के इन बदमाशों को पकडऩे की रणनीति बना ली। 

 

सरगना निकला संदीप, तीन अन्य गिरफ्तार

एसएसपी जेके शुक्ला ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए बताया कि पुलिस टीम में शामिल स्वॉट टीम प्रभारी उमेश चंद्र त्रिपाठी, शहर कोतवाल अजय पाल सिंह व प्रेमनगर थाना प्रभारी स्वतंत्र देव ने मुखबिर की सूचना पर अंजनि माता मंदिर के पास बने कब्रिस्तान में छापा मारा। वहां गिरोह का सरगना अंदर उनाव गेट निवासी संदीप कुशवाहा, शिवम साहू, अनुज राय व बाहर उनाव गेट निवासी आशीष साहू को पुलिस ने उस समय गिरफ्तार कर लिया, जब वे चारों लूट के माल का बंटवारा कर रहे थे। 

 

डेढ़ करोड़ के जेवर व नकदी बरामद

पुलिस कप्तान ने बताया कि पकड़े गए बदमाशों के पास से भारी मात्रा में डकैती के दौरान लूटे गए जेवर भी बरामद किए गए हैं। इन में सोने के 5 किलो 400ग्राम एवं चांदी के 230 ग्राम वजन के जेवर शामिल हैं। इनकी कीमत डेढ़ करोड़ से अधिक बताई गई है। 

 

संदीप ने कर दी कृष्णा की हत्या

पत्रकारों से बातचीत करते हुए एसएसपी ने बताया कि पूछताछ में संदीप कुशवाहा ने स्वीकार किया है कि उसने लूट के माल के बंटवारे में हुए विवाद और कृष्णा के हिस्से को हड़पने के उद्देश्य से कृष्णा की हत्या कर उसका शव मेरठ के पास फेंक दिया है। एसएसपी के  अनुसार संदीप और कृष्णा साथ-साथ भागे थे। दोनों पुलिस से छिपने के लिए दिल्ली, इंदौर आदि स्थानों पर रहे। दिल्ली के आगे मेरठ के पास उनमें विवाद हो गया और संदीप में कृष्णा की हत्या कर दी। एसएसपी ने बताया कि एक टीम कृष्णा के परिजनों के साथ घटना स्थल पर शव बरामद करने के लिए भेज दी गई है। 

 

मौज-मस्ती के इरादे से की थी डकैती

गिरोह के सरगना संदीप कुशवाहा ने बताया कि उसके गिरोह के सभी सदस्य आर्थिक रूप से बेहद कमजोर हैं। सभी को अपने शौक पूरे करने और मौज-मस्ती के लिए रुपयों की जरूरत थी। कृष्णा को नौकरी से निकाले जाने के बाद से ही वह खिन्न रहता था। उससे सभी ने जानकारी ली और संदीप ने पूरी योजना तैयार कर इस डकैती की घटना को अंजाम दिया। संदीप ने बताया कि इस रुपए से भी अपनी लाइफ स्टाईल बदल देते और खूब मौज-मस्ती करते। 

 

पुलिस टीम को 25 हजार का इनाम

इस सनसनीखेज डकैती और हत्याकांड का खुलासा करने वाली पुलिस टीम के सभी सदस्यों को पुलिस प्रशस्ति पत्र व 25 हजार रुपए का नकद पुरस्कार दिए जाने की घोषणा की गई है। 

 


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।