भारत में विदेश से आईं लड़कियां करती हैं ये काम, पढ़ लीजिये

By: jhansitimes.com
Dec 31 2017 10:06 am
262

दुनिया के मानचित्र पर भारत एक ऐसी शक्ति के रूप में उभर रहा है जहाँ पर हर तबके के लिए काम है. यहाँ पर भले ही देसी लोगों को उतना काम न मिल पाए, लेकिन विदेश से आई लड़कियों के लिए बहुत से आप्शन हैं. विदेश में पढने आने वाली लड़कियां जब अपनी छुट्टी पर भारत आती हैं तो वो १-२ महीने यहाँ रहती हैं. वो घूमने का खर्च और अपने वापस जाने का खर्च निकाल के जाती हैं. यहाँ आने के बाद वो एक ऐसा कम करती हैं, जिसे अपने देश जाकर वो नहीं बताती.

यहाँ उन्हें कोई जानता नहीं और मोती रकम भी मिल जाती है. इसलिए विदेशी लडकियाँ आसानी से ये काम करती हैं.गोरी स्किन और लंबी काया, ये एक बिज़नस के लिए बहुत ही मायने रखता है. उस बिज़नेस के नाम है देह व्यापार. जी हाँ, आजकल बड़े बड़े पार्लर में इस तरह का काम होता है और वो काम विदेशी लडकियाँ करती हैं. हुस्न के इस बिजनेस में उतरी एक 23 साल की लड़की अमीर नौजवानों की तरह अच्छे पब में शाम गुजारने की ख्वाहिश रखती है. इस लड़की ने खुद कहा, यहाँ हमें कोई जानता नहीं और इस बिज़नेस में बुराई ही क्या है. हम कुछ महीनों के लिए ही तो ये करते हैं. पढ़ाई के साथ साथ किसी मसाज पार्लर में काम करते हुए किसी के साथ अगर हम रात बिताते हैं तो हमें मोती रकम मिलती है.

ये विदेशी लडकियाँ मसाज पार्लर में काम करने के साथ पूरे दो महीने तक कॉल गर्ल का भी कम करती हैं.  एक रात का ये लड़कियां ५० हज़ार तक चार्ज करती हैं. ऐसी बहुत सी लड़कियां हैं जो लिव-इन रिलेशनशिप में रहती हैं, जो दूसरों के साथ सो रही हैं. मैं सिर्फ अपने काम का पैसा ले रही हूं और मुझे अपने काम से बहुत प्यार है. देह व्यापार से जुड़ी लड़कियों की जुबानी, ‘जब मैं दिल्ली आई तो यहां की चकाचौंध देखकर सन्न रह गई. मुझे भी उस तरह की लाइफस्टाइल चाहिए थी. ऐसा नहीं है कि मैं अफोर्ड नहीं कर सकती थी या फिर अपने परिवार से पैसे नहीं मांग सकती थी, लेकिन एक छात्र के सामने कुछ मजबूरियां भी होती हैं. इसमें बुराई भी क्या है.

आजकल तो लड़कियों और लड़कों के कई पार्टनर होते हैं. वो सबके साथ सेक्स करती हैं. हमारे कल्चर में इसे बुरा भी नहीं माना जाता. पैसे मिल जाते हैं. जिससे हमारा खर्च निकल आता है. मुझे नहीं लगता ये कोई बुरी बात है. या इस तरह का काम बुरा है.

विदेशी लडकियाँ रात में ये काम करती हैं और दिन में छोटी-मोती कंपनियों का फोटोशूट करती हैं. उन्हें इससे ज्यादा पैसे तो नहीं मिलते, लेकिन हाँ, कांटेक्ट मिल जाते हैं जिसका फायदा वो अपने बिज़नेस में उठाती हैं. सेक्स इनके लिए महज बिजनेस है. मुंबई में रहने का औसत खर्च 60 से 70 हजार रुपए महीना है. ये लड़कियां तमाम पार्टियों में जाकर अपना पैसा बनाती हैं. कुछ महीनों के बाद अपने देश वापस चली जाती हैं.

विदेशी लड़कियों के साथ ही यहाँ के स्टूडेंट भी इस धंधे में शामिल हो रहे हैं. कॉल सेंटर के काम का बहाना करके लड़कियां और लड़के भी इस तरह के धंधे में लिप्त हैं.


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।