गुरुग्राम: स्कूल के वाशरूम में 7 वर्षीय मासूम की गला रेतकर हत्या, मां का रो-रोकर हुआ बेहाल

By: jhansitimes.com
Sep 09 2017 10:31 am
71

गुड़गांव. शुक्रवार सुबह दिल्ली से सटे गुरुग्राम के नामी रयान इंटरनेशनल स्कूल में दूसरी क्लास में पढ़ने वाले 7 साल के मासूम की बेरहमी से गला रेतकर हत्या कर दी गई। इस पर बच्चे की मां का कहना है कि स्कूल में बच्चे बिल्कुल भी सुरक्षित नहीं है। ऐसे में पैरेंट्स अपने बच्चों को स्कूल में कैसे भेज सकते हैं।  इस मामले में बस के कंडक्टर को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस का कहना है कि वह सेक्सुअल असॉल्ट नहीं कर पाया तो उसने बच्चे की हत्या कर दी. डिप्टी कमिश्नर ऑफ पुलिस सिमरदीप सिंह ने कहा-  बस कंडक्टर अशोक के सेक्सुअल असॉल्ट करने की कोशिश को रोकते हुए जब बच्चे ने शोर मचाया तो अशोक ने उसकी हत्या कर दी.  

राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (NCPCR) ने स्कूल प्रबंधन के खिलाफ लापरवाही का मामला दर्ज करने की अनुशंसा की है. इस पूरे मामले के बाद अभिभावकों में बच्चों की सुरक्षा को लेकर चिंता और नाराजगी फैल गई. कैंडल मार्च भी किया गया. हालांकि दिल्ली के निजी स्कूलों ने कहा कि यह अपनी तरह का इकलौता मामला है और इसको लेकर लोगों को कोई आम धारणा नहीं बनानी चाहिए.

ऑल इंडिया पैरेंट्स एसोसिएशन के अशोक अग्रवाल ने कहा, ‘कोई चाकू लेकर अंदर कैसे चला गया? यह एक घटना है, लेकिन इसका जवाब मिलना चाहिए कि यह घटना कैसे हुई?’ ख़बर सुनकर स्कूल पहुंचे अभिभावकों ने वहां तोड़-फोड़ और हंगामा भी किया. वैसे देर शाम होते-होते पुलिस के मुताबिक हत्या की गुत्थी सुलझ गई.  बताया जा रहा है कि पुलिस ने बच्चे की हत्या के शक में कंडक्टर को गिरफ्तार किया है. 

 सब्जी काटने वाले चाकू से की गई हत्या...

आरोपी अशोक 8 महीने से बस कंडक्टर की नौकरी कर रहा था. वो घमरोज़ गांव का रहने वाला है, वो स्कूल के टॉयलेट को अक्सर यूज़ करता था. आज जब वो टॉयलेट गया तो उसे ये बच्चा दिखा. उसने बच्चे को सेक्सुअली असॉल्ट करने की कोशिश की. बच्चे ने जब विरोध किया तो अशोक से अपनी जेब से चाकू निकाला और बच्चे की हत्या कर दी. वो विशेष रूप से इसी बच्चे को टारगेट नहीं करने आया था. उसने टॉयलेट में बच्चा देखा और वारदात कर दी. चाकू सब्ज़ी काटने वाला था जो उसकी जेब में रह गया था. अशोक के क्रिमिनल रिकॉर्ड की जांच कर रहे हैं. सीसीटीवी से भी सुराग मिले हैं. स्कूल की लापरवाही की जांच चल रही है. 

हैरानी की बात ये रही कि शव शनिवार दोपहर करीब सवा 12 बजे बरामद हुआ, जबकि पुलिस को इसकी जानकारी करीब 2 घंटे बाद दी गई. स्कूल पहुंचकर पुलिस ने जांच शुरू की तो पता चला कि राहुल सांतवें पीरियड से क्लास से गायब हो गया था.

बच्चे की मां ने बताया कि उन्होंने कभी भी अपने बेटे को स्कूल बस से स्कूल नहीं भेजा। हमेशा उसे स्कूल छोड़ने के लिए गए। वहीं छूट्टी होने पर खुद ही घर लेकर आए। इसके बाद भी स्कूल बस के कंडक्टर ने ऐसा किया। ऐसे में उनका भरोसा स्कूल से बिल्कुल उठ गया है। 

ये है पूरा मामला 

बच्चे के परिजनों ने बताया कि वह अपने दो बच्चों को रोजाना की तरह शुक्रवार सुबह 7:50 बजे स्कूल गेट पर छोड़कर गए थे। सात साल का बेटा दूसरी क्लास में पढ़ता था और बेटी 5वीं की छात्रा है। स्कूल आने पर बेटी सीढ़ियों से अपनी क्लास में चली गई। लेकिन स्कूल प्रबंधन का दावा है कि बच्चा शुक्रवार को क्लास में नहीं पहुंचा था। 

वहीं स्कूल की एक टीचर ने बताया कि करीब सुबह  8:00 बजे वह दो अन्य टीचरों के साथ खड़ी थी। इसी दौरान माली दौड़कर आया और बोला, जल्दी चलिए मैम टॉयलेट में एक बच्चा गिरा हुआ है। 

यह सुनकर टीचर घबरा गई और तुरंत भागकर टॉयलेट के पास पहुंची तो देखा कि बच्चे का बैग तो बाहर गैलरी में स्कूल बैग पड़ा था और अंदर बच्चा लहूलुहान हालत में था। इसके साथ बच्चे के पास एक चाकू भी पड़ा है। यह देखकर टीचर बेहद डर गई और उन्होंने तुरंत मामले की जानकारी बाकी टीचर्स को दी। इसके बाद बच्चे को अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। 


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।