खास मुलाकातः छोटे पर्दे के हास्य कलाकार हप्पू सिंह बोले- मां के आर्शीवाद से यहां पहुंचा

By:
Jun 02 2017 06:48 pm
2451

झांसी। बुंदेलखंड की माटी से निकलकर छोटा पर्दे पर धमाल मचाने वाले योगेश त्रिपाठी उर्फ हप्पू सिंह का नाम अब लोगों के लिए अनजान नहीं है। अपनी कला के बल पर वह देश प्रदेश ही नहीं विश्व में भी अपनी पहचान बना चुके हैं। टीवी सीरियल भाभी जी घर पर हैं से घर -घर हास्य कलाकर के रूप से जाने जाने वाले दरोगा हप्पू सिंह ने  झांसी टाइम्स से विशेष भेंट में खुलकर बातचीत की। 

विपरीत परिवारिक माहौल में मॉ बनी प्रेरणा

झांसी टाइम्स डाट काम की टीम से बातचीत करते हुए  हप्पू सिंह  कहना है  कि  उन्होंने कला के क्षेत्र में अभिरुचि पर कहा कि मेरा परिवारिक परिदृश्य अलग रहा है। पिता शिक्षक हैं इस लिए कला के क्षेत्र में जाने के निर्णय पर उन्हें आपत्ति रही। लेकिन मुझे आत्म विश्वास था कि मेहनत और लगन से कोई भी मंजिल प्राप्त की जा सकती है। इस क्षेत्र में मेरी मॉ ने मझे हौसला बढ़ाते हुए आगे बढऩे की प्रेरणा दी। उन्होंने कहा कि बीएससी करने के साथ मैने कला क्षेत्र में कदमा बढ़ाना शुरू कर दिया। 

थियेटर से काफी सीखने को मिला

भाभी जी घर पर हैं में हप्पू सिंह दरोगा ने बताया कि मैं स्थीनाय निवास हमीरपुर जनपद के राठ कस्बे में है। बचपन से ही कलाकार बनने का सपाना सजोये था। इसे गति तब मिली जब मैं लखनऊ आगे की पढाई करने के लिए गया। वहां पर थियेटर से  जुड़ा और कला की बारीकियों को समझा। थियेटर में ही हमे बहुत कुछ सीखने को मिला। वहां फिर मुम्बई का रूख किया। भाभी जी घर पर हैं से पहले एफआईआर सीरियल भी किया है। 

कुछ अलग हट कर करने से मिली सफलता

हप्पू ने बताया कि भाभी जी घर पर हैं सीरियल में डयरेक्टर ने कहा कि कुछ अलग हटकर करो, मैने बुंदेलखंड़ी भाषा का प्रयोग डायलाग में किया, जो सभी को काफी अच्छा लगा। इस प्रकार क्षेत्रीय भाषा से ही सीरियल में काफी पहचान मिली। जबकि शुरू में लगता था कि यह सीरियल जल्दी ही समाप्त हो जाएगा। लेकिन इसकी बढ़ती लोकप्रियता से अब यह कम से कम चार साल तक चलेगा। 

बुंदेलखंडी भाषा को पहचान बनाने की तमन्ना

झांसी टाइम्स से बातचीत करते हुए हप्पू सिंह ने कहा कि अपनी माटी और मॉं से हर किसी को प्यार होता है। मुझे भी गर्व है कि में बुंदेलखंड का बेटा हूं। यहीं नहीं मेरी तमन्ना है कि कला के क्षेत्र में बुंदेलखंड को पहचान मिले। जिस प्रकार बालीवुड में भोजपुरी ने अपनी अलग पहचान बनाई है उसी प्रकार से बुंदेलखंड़ी भाषा भी लोगों की जुवान पर आये। वैसे मुझे अभी काफी आगे बढऩा है। मैं अपने किरदार को ईमानदारी से निभाने का प्रयास करता हूं। मुझें जो भी किरदार मिलता है उसी में रम कर उस किरदार को जीता हूं। झांसी मेरी ननिहाल है, यहां आकर जो लोगों का प्यार मिल रहा है इससे मै अभिभूत हूं। लगाता है कि भाभी जी घर पर हैं लोगों को काफी पसंद आ रहा है। जिसका परिणाम है कि लोग मुझसे मिलने का काफी तादात में आ रहे हैं। 

बड़े पर्दे पर भी किया काम

हप्पू सिंह ने बताया कि छोटे पर्दे के साथ मुझे बड़े पर्दे पर भी काम करने का मौका मिला है। फिल्म दिल फिरे में मेरी अहम भूमिका है। इसका फिल्मांकन आगरा में हुआ है। यह फिल्म इसी माह जून में रिलीज होने वाली है। उस फिल्म में आगरा मेरठ और ब्रज क्षेत्र की भाषा का काफी प्रयोग किया गया है। एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि मैं अपने कार्य से काफी खुश हूं और किदार निभाने में काफी मजा आ रहा है। 


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।