Happy Birthday: आईये जानते हैं, कुछ ख़ास रोचक बातें...कामसूत्र में भी काम करने से नहीं हिचकी रेखा

By: jhansitimes.com
Oct 10 2017 09:06 am
503

नई दिल्‍ली:  10 अक्टूबर 1954 को जन्मीं बॉलीवुड अभिनेत्री रेखा आज 63 साल की हो गई हैं|  उनके पिता तमिल एक्टर जैमिनी गणेशन और मां तेलुगु एक्ट्रेस पुष्पावल्ली थे|  जब रेखा मात्र 13 साल की उम्र में पढ़ाई छोड़कर फिल्मों में आईं तो उस समय किसी को उम्मीद नहीं थी कि वे बॉलीवुड की सबसे सुंदर हीरोइनों में से एक होंगी. उस समय वे ओवरवेट थीं और देखने में भी औसत थीं. लेकिन वे समय के साथ खुद को बदलती गईं और आज उन्हें एवरग्रीन ब्यूटी भी कहा जाता है. उनकी अमिताभ बच्चन के साथ जोड़ी हिट रही और उन्होंने उनके साथ नौ फिल्में की थीं. लेकिन उन्होंने सबसे ज्यादा फिल्में की जितेंद्र के साथ, उन्होंने जितेंद्र के साथ बतौर हीरोइन 26 फिल्में की हैं, इनमें से 15 फिल्में हिट रही थीं. आइए जानते हैं उनसे जुड़ी कुछ खास बातें...

रेखा ने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत में तेलुगु फिल्म रंगुला रत्नम (1966) से की। जबकि बॉलीवुड में साल 1970 में फिल्म 'सावन भादों' से शुरुआत की थी। 

‘कामसूत्रः अ टेल ऑफ लव (1996)’ में रेखा ने काम करके सबको चौंका दिया था. फिल्म में वे टीचर बनी थीं जो प्यार करने का हुनर सिखाती थी. लोगों ने इस रोल को लेकर नाक-भौंह सिकोड़ी थीं. लेकिन फिल्म देखकर सबकी शिकायत दूर हो गई थी.

रेखा ने एक्टिंग करियर की शुरुआत बतौर चाइल्ड एक्टर की थी और वे तेलुगु फिल्म ‘रंगुला रत्नम (1966)’ में नजर आई थीं. रेखा 1969 में कन्नड़ फिल्म ‘ऑप्रेशन जैकपॉट नल्ली सीआईडी 999’ में पहली बार हीरोइन बनकर आईं. फिल्म सफल रही थी. तमिल होने की वजह से करियर के शुरू में उन्हें हिंदी बोलने में दिक्कत आती थी.

लेकिन बाद में उन्होंने ‘उमराव जान (1981)’ के लिए उर्दू भी सीखी, और जबरदस्त एक्टिंग की. ये उनकी यादगार फिल्मों में से है. ये बहुत कम लोग ही जानते हैं कि उन्हें कॉमिक्स पढ़ना पसंद है और डेनिस द मेनेस तथा आर्ची पसंदीदा कॉमिक्स कैरेक्टर हैं. वे खुद को चुस्त-तंदुरुस्त रखने के लिए योग करती हैं, और इसे ही उनकी खूबसूरती का राज भी बताया जाता है. उनके योग और डाइट को लेकर किताब भी चुकी है.

50 साल के बॉलीवुड करियर में रेखा ने करीब 180 फिल्मों में काम किया है। इनमें कुछ नाम है- दो ऑखें, नागिन, आप की खातिर, दो शिकारी, मुसाफिर, प्यार की जीत, ओम शांति ओम, कृष-3 आदि। साल 2010 में उन्हें पद्म श्री अवॉर्ड से भी नवाजा गया। 

रेखा का जन्म तमिलनाडु में 10 अक्तूबर 1954 को हुआ। रेखा को अभिनय की कला विरासत में मिली। उनके पिता जैमिनी गणेशन अभिनेता और मां पुष्पावली जानी मानी फिल्म अभिनेत्री थीं।

घर में फिल्मी माहौल से रेखा का रूझान फिल्मों की ओर हो गया और वह भी अभिनेत्री बनने के ख्वाब देखने लगीं। फिल्म सावन भादो में उनके नायक की भूमिका नवीन निश्चल ने निभायी। यह फिल्म सुपरहिट साबित हुई और रेखा के अभिनय को भी सराहा गया।

वर्ष 1976 में प्रदर्शित फिल्म दो अनजाने उनके कैरियर की महत्वपूर्ण फिल्म साबित हुई। इस फिल्म में पहली बार उन्हें अमिताभ बच्चन के साथ काम करने का मौका मिला। वर्ष 1978 में प्रदर्शित फिल्म घर रेखा के सिने कैरियर के लिये अहम फिल्म साबित हुई। इस फिल्म में दमदार अभिनय के लिये वह पहली बार सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के फिल्मफेयर पुरस्कार के लिये नामांकित की गईं। वर्ष 1980 में प्रदर्शित फिल्म खूबसूरत रेखा की एक और सुपरहिट फिल्म रही। ऋषिकेश मुखर्जी के निर्देशन में बनी इस फिल्म में दमदार अभिनय के लिये वह सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित की गयी।

वर्ष 1981 में रेखा की एक और महत्वपूर्ण फिल्म उमराव जान प्रदर्शित हुई। मिर्जा हादी रूसवा के मशहूर उर्दू उपन्यास उमराव जान पर आधारित इस फिल्म में उन्होंने उमराव जान का किरदार निभाया। इस किरदार को रेखा ने इतनी संजीदगी से निभाया कि सिने दर्शक आज भी उसे भूल नहीं पाये हैं। इस फिल्म के सदाबहार गीत आज भी दर्शकों और श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर देते हैं।

ऐसे ही रेखा की कई यादगार फिल्में रहीं जिनमें सिलसिला, खून भरी मांग, खिलाड़ियों का खिलाड़ी, उत्सव, कामसूत्र और आस्था जैसी कई फिल्में शामिल हैं।


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।