Happy Birthday: शॉर्ट नोटिस में हुई थी अमिताभ की जया से शादी , पढ़ें 10 सीटीमार डायलॉग

By: jhansitimes.com
Oct 11 2017 07:11 am
73

मुंबई : 11 अक्टूबर, 1942 को उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद मे जन्में बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन आज 75 साल के हो गए हैं। उनके जन्मदिन को फैंस धूमधाम से मना रहे हैं। अमिताभ अपना जन्मदिन परिवार के साथ मॉलदीव में मना रहे हैं। अमिताभ बच्चन इंजीनियर बनना चाहते थे और एयरफोर्स में जाना उनका ख्वाब था. अमिताभ बच्चन को उनकी भारी-भरकम आवाज के लिए पहचाना जाता है, लेकिन ऑल इंडिया रेडियो ने उनकी आवाज को रिजेक्ट कर दिया था. यही नहीं, उन्होंने मृणाल सेन की ‘भुवन शोम (1969)’ और सत्यजीत रे की ‘शतरंज के खिलाड़ी (1977)’ में कहानी नैरेट की थी. बॉलीवुड में स्क्रीन पर एंग्री यंगमैन को लाने का श्रेय उन्हीं को जाता है और दिलचस्प बात यह है कि उन्हें ‘जंजीर’ के रूप में पहली हिट मिलने से पहले 12 असफल फिल्मों का मुंह देखना पड़ा था. लेकिन वे पिछले साढ़े चार दशक से फिल्म इंडस्ट्री में हैं और आज उनका बड़े परदे से लेकर छोटे परदे तक पर सिक्का चलता है| 

जंजीर हिट हुई तो अमिताभ ने लंदन के एअर-टिकट बुक करा दिए। जब उन्होंने पिता से जया के साथ लंदन जाने की बात कही, तो डॉ. बच्चन ने साफ शब्दों में कहा, पहले शादी, फिर जया के साथ विदेश घूमने जाओ। 3 जून 1973 को अमिताभ और जया की शादी हुई। एक बेहद सादे समारोह में अमिताभ ने जया के साथ सात फेरे लिए। दो दो दिन के शॉर्ट नोटिस पर ये शादी इतनी गोपनीय ढंग से हुई कि इसकी खबर पड़ोसियों तक को भी कई दिनों बाद लगी. शादी के अगले ही दिन जया और अमिताभ तीन सप्ताह के लिए लंदन रवाना हो गए।

अमिताभ ने बॉलीवुड जो ऊंचाई छुई इसका क्रेडिट उनका वाइफ जया को भी जाता है। एक वक्त था जब अमिताभ के साथ काम करने को कोई एक्ट्रेस तैयार नहीं थी तब जया ने उनके साथ काम किया। आपको बता दें कि शादी से पहले अभिताभ और जया ने करीब 4 साल तक  डेटिंग की।

अमिताभ की बारात में हरिवंश राय बच्चन समेत केवल पांच लोग आए थे। बारातियों में फिल्म इंडस्ट्री की तरफ से केवल गुलजार थे। जया कीओर से उनके मम्मी पापा और बहनों के अलावा,असरानी और फरीदा जलाल बारात के स्वागत के लिए पहुंचे थे। अमिताभ के उन दिनों मीडिया से बहुत अच्छे रिश्ते थे और खुद उन्होंने ही अपनी और जया की शादी की बात मीडिया को बताई थी। अमिताभ और जया शादी के फौरन बाद लंदन चले गए और वहां दोनों ने हनीमून मनाया। बिग बी ने अपने 42वें मैरिज एनिवर्सरी पर ये तस्वीर शेयर की थी। 

  आपको बता दे कि जया बच्चन को  पहली ही नजर में पसंद आ  गए थे अमिताभ। पुणे फिल्म इंस्टीट्यूट में हुई थी दोनों की पहली मुलाकात।  यही वजह कि उस दौर की हिट हीरोइन जया फ्ल़ॉप चल रहे अमिताभ के साथ फिल्में करने को हमेशा राजी रहती।  जया को ये तो लगा कि अमिताभ में कुछ खास है, लेकिन वो शोहरत की बुलंदी पर पहुंचेंगे, सुपर स्टार बनेंगे, इसका अंदाजा नहीं था। 

जया ने अमिताभ के साथ फिल्म 'एक नजर' साइन की। इसी फिल्म की शूटिंग के दौरान इनकी मोहब्बत चढ़ी थी परवान। अमिताभ उस दौरान स्ट्रगल कर रहे थे नाकामी और परेशानी के उन दिनों में जया अमिताभ के साथ साए की तरह बनी रहती थी।

अमिताभ और जया का 44 साल का साथ है। हर अच्छे और बुरे वक्त पर जया अमिताभ के लिए पिलर बनकर खड़ी रही है। अमिताभ बच्‍चन से उनकी शादी भले ही फूलों की सेज न रही हो लेकिन जया को अमिताभ से कोई शिकायत भी नही ।

अमिताभ की फिल्मों की सबसे बड़ी खासियत उनके डायलॉग हुआ करते थे. ये ऐसे होते थे कि तुरंत लोगों की जुबान पर चढ़ जाते थे. कई डायलॉग तो हमारी जीवनशैली का ही हिस्सा बन चुके हैं. आइए नजर डालते हैं, उनके 10 सबसे लोकप्रिय डायलॉग्स परः

पूरा नाम, विजय दीनानाथ चौहान, बाप का नाम, दीनानाथ चौहान, मां का नाम सुहासिनी चौहान, गांव मांडवा, उमर छत्तीस साल. (अग्निपथ)

हम जहां खड़े हो जाते हैं, लाइन वहीं से शुरू होती है. (कालिया)

आज मेरे पास बंगला है, गाड़ी है, बैंक बैलेंस है, क्या है तुम्हारे पास?  (दीवार)

आई कैन टॉक इंग्लिश, आई कैन वॉक इंग्लिश, आई कैन लॉफ इंग्लिश बिकॉज इंग्लिश इज अ वेरी फन्नी लैंग्वेज. भैरों बिकम्स बायरन बिकॉज देयर माइंड्स और वैरी नैरो. (नमकहलाल)

रिश्ते में तो हम तुम्हारे बाप लगते हैं, नाम है शहंशाह. (शहंशाह)

मूंछें हो तो नत्थूलाल जैसी वर्ना न हो. (शराबी)

डॉन को पकड़ना मुश्किल ही नहीं, नामुमकिन है. (डॉन)

कभी कभी मेरे दिल में ख्याल आता है – कि जिंदगी तेरी जुल्फों की नर्म छांव में गुजारनी पड़ती तो शादाब हो भी सकती थी. (कभी कभी)

मैं इसको यहां नहीं मारूंगा, वर्ना लोग कहेंगे सिकंदर ने अफने इलाके में उसे मारा. (मुकद्दर का सिकंदर)


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।