यहां लोग रहते हैं नंगे, तो लड़कियां बन जातीं लड़का , क्लिक कर पढ़ें विस्तार से

By: jhansitimes.com
Jun 16 2017 07:32 pm
3961

दुनिया बहुत बड़ी है और ऐसे कई स्थान हैं जहां के बारे में कोई ज्यादा जानकारियां कहीं भी मौजूद नहीं है। ऐसे में यदि आप सफर करते-करते वहां पहुंच जाए तो जरूर उस जगह विशेष के बारे में आप जान सकते हैं। फिलहाल हम आपके लिए लेकर आए हैं ऐसी ही कुछ जानकारियां। इनके बारे में जानकर आप भी एक पल के लिए चौंक जाएंगे। 

गांव ऐसा है जहां सिर्फ महिलाएं ही रहती हैं। या फिर ऐसी जगह जहां पर लोग नंगे रहते हैं। एक जगह तो ऐसी भी है जहां पर लड़की बीमार होने पर लड़का बन जाती है। चौंकिए मत। यह सब सच है। और तो और ऐसी कई बातें हैं जो आप आगे स्टोरी में पढ़ने वाले हैं। 

फिर देर किस बात की है। आइए जानते हैं इस पूरे मामले को। कभी मौका मिले तो आप भी ऐसे किसी गांव का दौरा कर आइएगा। अरे मजाक कर रहा हूं भाई। 

है ना ये हैरान कर देने वाली जानकारी। इनमें से कुछ गांव तो भारत में ही हैं और अगर आप भारत में रहकर उन गावों के बारे में नहीं जानते तो यह सही नहीं है। खैर कोई बात नहीं। यह स्टोरी पढ़ लीजए सब पता चल जाएगा।

जहां मर्द दुर्भाग्यशाली हैं

मेघालय का एक छोटा सा गांव है मालवीनांग। यह राजधानी शिलांग से 90 किलोमीटर दूर है। भारत और बांग्लादेश की सीमा पर मौजूद यह गांव एशिया के सबसे स्वच्छ गांव के तौर पर चर्चित है। पंजाब केसरी के अनुसार इस गांव में लड़कियां ही सबकुछ होती हैं। एक तरह से लड़कियां यहां की रानी हैं। दूूसरे शब्दों में इस गांव को महिला प्रधान भी कह सकते हैं। बच्चे भी अपने नाम के आगे मां का सरनेम लगाते हैं। यहां लड़कियां ही संपत्ति की वारिस होती है। लड़कियों को यहां हर काम करने की छूट हैं।

जहां कोई बच्चा नहीं लेता जन्म

तमिलनाडु के मदुरई की सीरूमलाई पहाड़ियों पर एक गांव है, 'मीनाक्षीपुरम'। अमर उजाला के अनुसार इस गांव में कभी किसी बच्चे का जन्म नहीं हुआ। यहां महिलाएं सातवें महीने में गोद भराई की रस्म के बाद पहाड़ छोड़ देती हैं और इसके बाद मैदानी इलाकों में चली जाती हैं। फिर सीधे डिलेवरी के बाद लौटती हैं। वैसे इसके पीछे की वजह कोई परम्परा नहीं है। दरअसल यहां आसपास कोई क्लिनिक ही नहीं है। इमरजेंसी के लिए कोई अस्पताल भी नहीं है। ऐसे में गांव वालों के पास मैदानी इलाकों में जाने के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं होता। इस स्थिति में महिलाएं या तो अपने रिश्तेदार के यहां चली जाती हैं या फिर वहीं किराये के मकान में रहने लगती हैं।

 50 साल से पैदा नहीं हुआ बच्चा

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल से 70 किलोमीटर दूर है राजगढ़ जिले का सांका जागीर गांव। नवभारत टाइम्स के मुताबिक इस गांव में पिछले 50 साल से कोई डिलीवरी नहीं हुई है। हालांकि यहां इसका कारण है एक मान्यता। गांव वालों का मानना है कि यहां अगर बच्चा हुआ तो वो विकलांग होगा। वैसे कहा तो यह भी जाता है कि यहां श्याम जी का मंदिर था। उसकी पवित्रता को बनाए रखने के लिए बुजुर्गों ने ही महिलाओं की डिलीवरी गांव के बाहर कराने का फरमान सुनाया था। बस इसी के बाद से गांव में यह परंपरा चली आ रही है। अभी तक गांव में बच्चे ने जन्म नहीं लिया है। अगर ज्यादा ही इमरजेंसी आ जाए तो किसी खेत में डिलीवरी करवा दी जाती है।

 गांव जहां जन्म लेते हैं जुड़वां बच्चे

उत्तरप्रदेश के इलाहाबाद में एक गांव है उमरी।  गांव में 1940 से जुड़वां बच्चे जन्म ले रहे हैं। यहां दादा से लेकर बच्चों तक कई लोग जुड़वां हैं। गांव वाले जहां इसे कुदरत का करिश्मा और मिट्टी पानी को जिम्मेदार मानते हैं। दूसरी तरफ हैदराबाद, दिल्ली, मुंबई सहित अमेरिका के वैज्ञानिक भी यहां आकर इस मामले में जांच कर चुके हैं। अधिकांश लोग हैरान हैं।

यहां निर्वस्त्र रहते हैं लोग

 हर्टफर्डशायर के ब्रिकेटवुड में एक गांव है जिसका नाम है स्पीलप्लाट्ज।  गांव में 85 साल से लोग बिना कपड़ों के रह रहे हैं। बारह एकड़ में फैले इस गांव में 55 घर हैं। हालांकि यहां ठंड में कपड़े पहनने की आजादी है। लेकिन लोग इस बात का ख्याल रखते हैं कि नियम का पालन है। ऐसा इन्होंने प्रकृति के नजदीक रहने के लिए किया।

यहां रहती हैं सिर्फ महिलाएं

केन्या में एक गांव है, जिसका नाम है उमोजा।  गांव में पुरुष प्रतिबंधित हैं। इसके मुताबिक इस गांव को 1990 में 15 रेप पीड़ित महिलाओं ने बनाया था। यहां सिर्फ महिलाएं ही रहती हैं। घरेलू हिंसा, रेप पीड़ित, यौन उत्पीड़न की शिकार, बाल विवाह का शिकार आदि से पीड़ित महिलाएं यहां रहती हैं।

यहां लड़की बन जाती है लड़का

दोमिनिकन रिपब्लिक में एक छोटा सा शहर है सलिनास।  गांव में 12 साल में लड़की अपने आप एक लड़का बन जाती है।यहां पचास बच्चों में एक बच्चा ऐसा होता है जो पैदा तो लड़की के रूप में होता है लेकिन किशोर अवस्था तक आते-आते वह लड़का बन जाता है। मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो इसका कारण स्‍यूडोहरमोफ्रोडाइट नामक बीमारी है। 

यहां तीन महीने के लिए विधवा बन जाती हैं महिलाएं

  उत्तरप्रदेश के देवरिया, कुशीनगर, गोरखपुर के साथ ही बिहार के कुछ इलाकों में गछवाहा समुदाय के लोग रहते हैं। ये लोग ताड़ी का काम करते हैं। ये लोग ताड़ के पेड़ से ताड़ी निकालने के लिए जाते हैं। ये पेड़ सीधे-सपाट और 50 फीट से ज्यादा ऊंचे रहते हैं, जिसमें जान का खतरा बना रहता है। अपने पतियों की सलामती के लिए महिलाएं मई से जुलाई तक विधवा महिला की तरह जीवन-यापन करती हैं। इस दौरान वो पति की सलामती की दुआ मांगती रहती हैं। ताड़ का काम खत्म होने पर एक देवी के मंदिर में पूजा होती ह


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।