हिन्दी हमारी मातृभाषा है: न्यायाधीश

By: jhansitimes.com
Sep 14 2018 06:51 pm
124

(रिपोर्ट-सैय्यद तामीर उद्दीन) महोबा । जिला उपभोक्ता फोरम महोबा द्वारा ‘‘हिन्दी दिवस’’ का भव्य आयोजन जिला उपभोक्ता फोरम के अध्यक्ष की अध्यक्षता में किया गया।इस कार्यक्रम में इस न्यायिक प्रतिष्ठान के आशुलिपिक उमेश कुमार तिवारी, वरिष्ठ सहायक अजय कुमार मिश्रा, डी0एम0ए0 फूल मोहम्मद, कर्मचारी श्रीनारायण तिवारी तथा मुकेश कुमार यादव एवम्् गणमान्य अधिवक्तागण एवम वादकारीगण शामिल हुए।

      ‘‘हिन्दी दिवस’’ के अवसर पर कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए जिला उपभोक्ता फोरम के अध्यक्ष न्यायाधीश सूबेदार यादव ने कहा कि हिन्दी हमारी मातृृभाषा, लोक भाषा तथा राष्ट्रभाषा है। हिन्दी में ग्राहयता, घातवर्धनशीलता, विविधता एवं सहजता है।यह एक सुगम सम्पर्क की भाषा है, जो हमारे दिल और दिमाग की भाषा है।यह हमारी मातृृभूमि पर पहली किलकारी की भाषा है, माँ के प्रथम दुलार की हिन्दी, राष्ट्र के सम्मान की हिन्दी, गरीब, किसान, बूढ़े, नौजवान, मजदूर एवं प्रतिभावान की हिन्दी तथा सेवा और कारोबार की हिन्दी।यह यमुना के निकुंजो में गीत गाते बड़ी हुयी, सरस्वती तट पर उगे वेद भारत का परमज्ञान बने जैसे यमुना सरस्वती से मिली हिन्दी वेदमय हो गयी तथा उसने संतों का मुक्त हृृदय तथा सिद्धों की परम दिव्य दृृष्टि पायी।हिन्दी कभी राज्य प्रेयसी नहीं रही फिर भी फारसी राजभाषा होकर भी हिन्दी का कुछ बिगाड़ नहीं पायी।अंग्रेजी हुकूमत ने भी हिन्दी की ताकत को भाँप लिया था, इसलिए वादी, प्रतिवादी, वकील तथा जनसामान्य की भाषा हिन्दी मानी गयी।लेकिन आजादी के बाद हमने स्वयं अंग्रेजी को समृृृद्ध एवम्् हिन्दी को गरीबी रेखा से नीचे कर दिया। 14 सितम्बर 1949 को अंग्रेजी प्रभुत्व के साथ हिन्दी राजभाषा बन गयी।इस प्रकार माँ एवम प्रेयसी के द्वन्द में अंग्रेजी रूपी प्रेयसी जीत गयी तथा अंग्रेजी महानुभावों तथा हिन्दी ‘‘जन गण मन’’ की भाषा हो गयी।

      इस अवसर पर जिला कृृषि अधिकारी के0के0 सिंह, सूचनाधिकारी सतीश कुमार यादव एवं वरिष्ठ अधिवक्ता सूरज सिंह राजपूत ने भी हिन्दी भाषा की महत्ता एवं प्रासांगिकता पर अपने-अपने विचार व्यक्त किये।

बुन्देलखण्ड नवोदय विद्यालय में मनाया गया हिन्दी दिवस 

बुन्देलखण्ड नवोदय विद्यालय पचपहरा मेें हिन्दी दिवस मनाया गया। कार्यक्रम का प्रारम्भ महाविद्यालय के प्राचार्य उमाकान्त त्रिपाठी द्वारा मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण कर किया। इस मौके पर डॉ. दीपक त्रिवेदी ने हिन्दी के महत्व एवं उत्थान के लिये सदैव अपने आप को समर्पित करने को कहां। डॉ. प्रियंका द्विवेदी ने हिन्दी भाषा में सूर्यकांत की अनामिका में पंत की गुंजन, पल्लव हूं, मैं हूं प्रसाद की कामायनी, मैं ही कबीरा की तूं वानी, मै रसदास की दृष्टि बनी तुलसी हित चिनमय सृष्टि बनी। मैं मीरा के पद की मिठास रस खान के नैनों की उदास मैं हूं भारत देश की हिन्दी इसके अलावा विभिन्न कवियों की पंक्तियों द्वारा गौरव स्थापित किया। कार्यक्रम के दौरान समस्त छात्र-छात्रायें उपिस्थत रहे। कार्यक्रम के दौरान छात्रा पारूल द्वारा मैं आन-बान और शान बनूं मैं राष्ट्र का गौरव मान बनूं यहह दो तुम मुझको  वचन मैं तुम सबकी पहचान बनूं, खूब सराहा गया। हिन्दी दिवस के मौके पर विद्यालय के शिक्षक, शिक्षकाओं के अलावा छात्र-छात्रायें मौजूद रही। 


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।