पति की लाश पर प्रेमी के साथ पत्नी करती थी सेक्स, कमजोर दिलवाले न देखें ये तस्वीर

By: jhansitimes.com
Dec 02 2016 07:28 pm
7295

RAIPUR: जिसे लोग डेढ़ साल से लापता मान रहे थे , उसकी पत्नी अपने पति की लाश के ऊपर प्रेमी के साथ बनाती थी शारीरिक सम्बन्ध। इस अवैध संबंधों के खौफनाक खेल ने तीन बच्चों को बेसहारा कर दिया।

 मृतक के भाई की आशंका पर गुरुवार दोपहर सूचना पर पहुंची पुलिस ने खम्हारडीह में घर के अंदर खुदाई की तो लापता भाई का कंकाल मिला। पुलिस ने हड्डियों को जांच के लिए भेज दिया है। पुलिस ने आशंका जताई है कि हत्या कर लाश दफन की गई। मृतक की पत्नी और उसके प्रेमी को साक्ष्य छिपाने के मामले में हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।

सीएसपी संजय ध्रुव ने बताया कि खम्हारडीह सतनाम चौक पर राजविंदर सिंह उर्फ राजेंद्र (45) पत्नी मनप्रीत कौर (40) व तीन बच्चों के साथ रह रहा था। पेशे से ट्रक चालक राजविंदर डेढ़ साल पहले रहस्मय ढंग से लापता हो गया था। तीन दिन पहले तेलीबांधा में रहने वाले उसके छोटे भाई आजादविंदर सिंह ने पंडरी थाने में उसके लापता होने की शिकायत की। साथ ही यह आशंका जताई कि हो न हो उसकी हत्या कर लाश घर में ही गाड़ दी गई है।

गुरुवार दोपहर को जब पुलिस टीम जांच करने खम्हारडीह पहुंची तो आजादविंदर की आशंका सही निकली। राजविंदर के बारे में पूछने पर मनप्रीत पहले टालमटोल करने लगी, लेकिन कड़ाई बरतने पर पति की मौत के बाद  प्रेमी रामाधार यादव (35) की मदद से उसकी लाश घर में दफन करने की बात उगल दी। पुलिस के मुताबिक लाश को जल्दी गलाने के लिए नमक भी डाला गया था।

 

20 साल पहले राजविंदर सिंह ने मनप्रीत देवांगन से प्रेम विवाह किया था। पड़ोसियों ने बताया कि मूलत: पंजाब निवासी राजविंदर सिंह फग्गड़ अपने परिवार के साथ पांच साल से खम्हारडीह सतनाम चौक के पास खपरैल के मकान में रह रहा था। यह मकान किसका है फिलहाल पता नहीं चल पाया है, लेकिन जिस जमीन पर बना है वह एक मठ की बताई जा रही है।

राजविंदर के तीन बच्चे हैं। बड़ा बेटा हरदीप सिंह (19) ट्रक ड्राइवर है, जबकि बलदीप (14) नवमी का छात्र है और वह मंदबुद्धि भी है। सबसे छोटी बेटी सिमरन (2) है। बलदीप और सिमरन उसी फर्श पर सोते थे, जिसके नीचे पिता की लाश दफन थी। हरदीप ने बताया कि जब भी वह मां से पिता के बारे में पूछता था तो कहती थी पंजाब में बीमार है, जल्द वापस आ जाएंगे।

 भाई को था हत्या का शक

आजादविंदर को शक था कि भाई के साथ कुछ अनहोनी हुई है। उसने बताया-भैया के बारे में भाभी से पूछने पर वह गोलमोल जबाव देती या टाल जाती थी।

पत्नी ने कहा-बीमारी से मरा, क्रियाकर्म का खर्चा बचाने घर में दफनाया

पंडरी टीआई नाजिर बाटी के अनुसार मनप्रीत ने पूछताछ में कहा- पति को टीबी व शुगर की बीमारी, जिससे डेढ़ साल पहले घर में ही उसने दम तोड़ा। गरीबी के कारण घर चलाना मुश्किल था तो क्रियाकर्म के लिए कहां से पैसे लाती। यह बात उसने पति के दोस्त रामा यादव को बताई और उसकी मदद से लाश को घर में ही दफना दिया।

क्रब में कर रखा था छेद

पडोसियों का कहना है कि मनप्रीत ने रामा यादव के साथ मिलकर राजविंद की हत्या कर दी, क्योंकि वह इन दोनों के संबंधों में रोड़ा बन गया था। जहां राजविंदर दफन था वहां एक छोटा सा छेद भी दिखता था, जिससे अकसर बदबू आती थी। शिकायत करने पर मनप्रीत वहां लोबान जला देती थी। जादू-टोना की आशंका भी जताई जा रही है, क्योंकि जहां शव गड़ा हो, वहां छेद रखने की क्या जरूरत थी?


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।