योगीराज में अवैध खनन: सिस्टम में हैं हमारे ट्रैक्टर, ऑडियो वायरल होने से खुली सांठ-गांठ की पोल

By: jhansitimes.com
Jan 13 2018 11:59 am
450

झाँसी। अवैध खनन करने वालों और पुलिस की सांठगांठ का भी जवाब नहीं। हर काम को सिस्टम से करते हैं। बालू से भरे ट्रैक्टर, ट्रक आदि वाहनों को घाट से बाजार तक लाने और ले जाने में जो शब्द इस्तेमाल होता है उसे ही सिस्टम का नाम दे दिया गया। ऐसे ही चार ऑडिया वायरल हुए हैं। जो बबीना थाने की बीएचईएल चौकी के एक सिपाही, बबीना थाने के चालक एवं ट्रैक्टर मालिक के हैं। गश्त के दौरान सिपाही ने दो ऐसे ट्रैक्टर पकड़ लिए जो सिस्टम में थे अर्थात जिनका पैसा पुलिसको पहुंच रहा था, मगर जानकारी के अभाव में गश्त में धर लिए गए। अब उन्हेें छुड़ाने के लिए ट्रैक्टर मालिक जी-तोड़ मेहनत करता दिख रहा इन वायरल ऑडियो में। 

ऑडियों में है कुछ इस प्रकार की बातें

 ऑडियो में सिपाही धीरेंद्र ने जो दो ट्रैक्टर गश्त के दौरान पकड़ें हैं, उनके बारे में अपनी चौकी के किसी सिपाही से बातचीत करता सुनाई पड़ रहा है। जिसमें दूसरा सिपाही इन दोनों ट्रैक्टरों के सिस्टम में होने से अनभिज्ञता जाहिर कर रहा है और साहब से बात करने को बोल रहा। हां, दूसरा सिपाही पूछता है कि ट्रैक्टर महेश के तो नहीं, इस पर धीरेंद्र सिपाही बताता है कि ट्रैक्टर महेश के ही है। उधर धीरेंद्र का कहना है कि साहब फोन नहीं उठा रहे। दूसरा सिपाही खुद इस मामले में शामिल होने पर भी अपना नाम लिए जाने से बौखलाया है और महेश नामक व्यक्ति को जमकर गालियां दे रहा है

 उधर, अगले ऑडियो में ग्राम खाड़ी का महेश राजपूत नामक व्यक्ति जो कि ट्रैक्टर मालिक है की बातचीत धीरेंद्र सिपाही अपने थाने के किसी मुंशी से करा रहा है। इसमें मुंशी भी पहले तो महेश को पहचानने से इंकार करता है, फिर पुराने थाने के पास खड़े महेश राजपूत को नए थाने पर बुलाता है। 

इसके अलावा अगले ऑडियो में पुन: धीरेंद्र व अन्य सिपाही के मध्य बातचीत हो रही है और वह महेश राजपूत को नए गेट से लाने को बोलता है।

आखिरी ऑडियो में कोई राजनैतिक व्यक्ति विधायक जी से बात होने व साहब से बात होने का दावा करते हुए बबीना थाने के एक सिपाही को आदेशात्मक वाक्य में बोलता है कि छोड़ दो ट्रैक्टर सिस्टम में हैं। मगर सिपाही का कहना है कि साहब से बात कर लो वह फोन नहीं उठा रहे। उधर, राजनैतिक व्यक्ति अपनी बात साहब के प्राइवेट नंबर पर होने की बात का दावा कर रहा है। इस पर सिपाही ने राजनैतिक व्यक्ति को हंसते हुए जवाब दिया है कि जो आपका आदेश और ट्रैक्टरोंको छोडऩे के लिए अपने साथियों से बोलता है। इस पर दोनों हंसते हुए फोन कट कर देते हैं। 

 


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।