बुजुर्ग मरीजों की सेवा में लगी हैं भारतीय मूल की डाक्टर

By: jhansitimes.com
Oct 29 2018 03:18 pm
129

(रिपोर्ट- प्रदीप श्रीवास्तव) नई दिल्ली। भारतीय मूल की डाॅक्टर यामिनी अटुलरी अमेरिका में बुजुर्ग मरीजों की सेवा में लगी हैं। उनका मानना है कि अभी भी अस्पतालों में बुजुर्ग मरीजों की देखभाल का कोईखास इंतजाम नहीं है, जबकि युवाओं की अपेक्षा बुजुर्गों की देखभाल, बीमारी व इलाज का तरीका काफी अलग है। अस्पतालों में बुजुर्ग मरीजों को आम मरीजों की तरह से इलाजउपलब्ध कराया जाता है, जिस कारण से उनके ठीक होने में काफी वक्त लगता है।

डाॅ यामिनी अटुलरी, अमेरिका के मिशिगन में स्पेक्ट्रम हेल्थ मेडिकल ग्रुप में काम करती हैं। उन्होंने बुजुर्ग मरीजों की देखभाल को लेकर काफी शोध व जागरूकता कार्य किया है। 65 वर्ष से ज्यादा उम्र के अधिकतर मरीज हृदय रोग, संक्रमण, निमोनिया, सेप्टिसिमीया और कई पुरानी व जटिल बीमारियों से ग्रसित रहते हैं। बुजुर्गों में गिरने का खतरा उनके इलाजको और भी जटिल बना देता है। पूरी दुनिया सहित अमेरिका में भी अस्पतालों में बुजुर्ग मरीजों की देखभाल काफी चुनौतिपूर्ण है। वह वेबसाइट elderlyhospitalcare.com  केमाध्यम से इन मुद्दों को लेकर लोगों को जागरूक कर रही हैं।

बुजुर्गों में मामूली स्वास्थ्य समस्याएं भी बड़ी समस्याएं पैदा कर सकती हैं। ज्यादातर मरीज उच्च रक्तचाप, गुर्दे की बीमारी, दिल की विफलता जैसी पुरानी बीमारियों से ग्रस्त रहतेहैं। मस्तिष्क, फेफड़ों, यकृत जैसे अन्य अंग भी ठीक से काम नहीं करते हैं। इसके अलावा मोतियाबिंद, संक्रमक, दिल की बीमारी, ऑस्टियोपोरोसिस, मधुमेह, स्ट्रोक, डिमेंशिया औरप्रोस्टेट जैसी समस्याएं भी आम हैं। अन्य मरीजों की अपेक्षा बुजुर्ग मरीजों की दृष्टि समस्या और कमजोरी भी उनके इलाज में बाधा बनती है। बुजुर्ग मरीजों की सर्जरी आसान नहींहै। बुजुर्गों को आकस्मिक गिरने से रोकना चाहिए और उन्हें पर्याप्त दर्द नियंत्रण देना चाहिए। अस्पताल में लंबे समय तक रहने से बुजुर्ग मरीजों में भ्रम की स्थिति पैदा हो जाती है।कम से कम 10 प्रतिशत मरीजों में यह देखने को मिलता है।

डाॅक्टर यामिनी का कहना है कि जेरियाट्रिक देखभाल एक विशेष देखभाल है, जो अस्पतालों के पास होनी चाहिए। बुजुर्गों में बीमारी और उनकी देखभाल युवाओं से बिलकुल अलगप्रकार से होता है। उन्हें कभी भी इमरजेंसी में भर्ती करना पड़ सकता है। क्योंकि, नींद न आना, छाती में दर्द आदि की शिकायत बुजुर्ग मरीजों में आम बात है। रोगियों के परिवार केसाथ लगातार बातचीत भी जरूरी है। बुजुर्ग मरीजों की देखभाल के लिए विशेष दृष्टिकोण की आवश्यकता है।

 

comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।