INDvsPAK Final : इंडिया ने जीता टॉस, चुनी गेंदबाजी, चिंता में पकिस्तान- हारे तो कहां जाएंगे!

By: jhansitimes.com
Jun 18 2017 02:57 pm
324

लंदन: आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी, 2017 (ICC Champions Trophy) के फाइनल में ऐसी दो टीमें भिड़ने जा रही हैं, जिनके मुकाबले की खबर से ही सनसनी फैल जाती है और क्रिकेट फैन्स के बीच रोमांच चरम पर होता है. वैसे मिनी वर्ल्ड कप की हैसियत रखने वाले इस टूर्नामेंट के इससे बेहतर समापन (India vs Pakistan) की कल्पना कोई नहीं कर सकता. हो भी क्यों न| आज खिताबी मुकाबले में भारत और पाकिस्तान की टीमें केनिंग्टन, ओवल मैदान भारतीय समयानुसार दोहपर 3 बजे से दो-दो हाथ करेंगी. 

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने टॉस जीतकर पाकिस्तान को पहले बैटिंग के लिए आमंत्रित किया है. वैसे इस मैच को लेकर दोनों ही टीमें तनाव में होंगी, लेकिन पाकिस्तान टीम पर अधिक दबाव होगा. इस बीच टीम इंडिया मैदान पर उतरते ही एक रिकॉर्ड अपने नाम कर लेगी. आइए जानते हैं कि आखिर पाकिस्तान टीम का दम क्यों फूल रहा होगा. इंडिया कौन-सा रिकॉर्ड अपने नाम करेगी. दोनों टीमों के बीच वनडे में कौन आगे है और फाइनल में कौन-कौन से खिलाड़ी प्लेइंग इलेवन में हैं... (लाइव स्कोरकार्ड)

टीम इंडिया मैदान पर उतरते ही सबसे ज्यादा बार चैंपियंस ट्रॉफी टूर्नामेंट का फाइनल खेलने का रिकॉर्ड बना लेगी. उसके बाद वेस्टइंडीज की टीम है, जिसने तीन बार खिताबी मैच खेले हैं. पिछले 6 साल के दौरान भारत ने चौथी बार किसी आईसीसी टूर्नामेंट के फाइनल में जगह बनाई है. भारत-पाकिस्तान की बात करें, तो ऐसा नहीं है कि दोनों पहली बार आईसीसी टूर्नामेंट का कोई फाइनल खेलने जा रही हैं. इससे पहले दोनों ही टीमें साल 2007 में टी-20 वर्ल्ड कप के फाइनल में भिड़ीं थीं, जिसमें टीम इंडिया ने बाजी मार ली थी.

वैसे तो भारत और पाकिस्तान की टीमें जब भी टकराती हैं, तो दोनों देशों के ही फैन अपनी टीम को हारता हुआ देखना पसंद नहीं करते, लेकिन इस मामले में पाक क्रिकेट फैन कुछ ज्यादा ही एग्रेसिव रहते हैं. जब भी पाकिस्तान टीम को भारत के हाथों हार मिलती है, तो उनके खिलाड़ियों का स्वदेश लौटना मुश्किल हो जाता है. उन्हें वहां टमाटर और अंडों का सामना करना पड़ता है. तभी तो वह सऊदी अरब जैसी अलग-अलग जगहों से होते हुए कुछ समय बीत जाने पर ही एक-एक करके पाक लौटते हैं. ऐसे में पाक खिलाड़ियों के मन में फाइनल मुकाबले में हार के बाद के परिणाम का डर भी सता रहा होगा.

10 साल से भारत है हावी...

पिछले 10 साल के पीरियड में पाकिस्तान का क्रिकेट नीचे की ओर गया है. इसका कारण पाकिस्तानी धरती पर कई सालों से इंटरनेशनल मैच नहीं होना है. गौरतलब है कि पाक में आतंक के साये में बड़ी टीमें वहां खेलने से मना करती रही हैं. पिछले 10 सालों के दौरान दोनों देशों के बीच 20 वनडे हुए हैं, जिनमें से भारत ने 12 में जीत दर्ज की है, वहीं पाकिस्तान ने 8 मैच जीते हैं. चैंपियंस ट्रॉफी के रिकॉर्ड में दोनों टीमें 2-2 से बारबरी पर हैं.

दोनों के बीच हुए 11 फाइनल, पाक आगे...

टीम इंडिया और पाकिस्तान के बीच (वनडे और टी20 मिलाकर) अब तक 11 फाइनल हो चुके हैं, जिनमें 4 में भारत ने खिताब जीता है, जबकि 7 खिताबी जीत पाकिस्तान के नाम रही हैं. इनमें से टीम इंडिया ने शरजाह में ही 4 फाइनल हारे हैं. अंतिम बार खिताबी मुकाबले में दोनों टीमें टी-20 वर्ल्ड कप के पहले संस्करण में 2007 के फाइनल में भिड़ीं थीं, जिसे महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में भारत ने जीता था.

वनडे इतिहास में भारत पर भारी पाकिस्तान...

आईसीसी टूर्नामेंट में भले ही टीम इंडिया की तूती बोलती हो, लेकिन वनडे इतिहास पर नजर डालें, तो भारत और पाकिस्तान के बीच अब तक 128 वनडे हुए हैं, जिनमें पाकिस्तान ने 72 मैच और भारत ने 52 जीते हैं, जबकि 4 मैचों का कोई परिणाम नहीं निकला है.

टीम इंडिया का मजबूत पक्ष

इस बात की संभावना बहुत कम है कि कप्तान विराट कोहली पिछले दो मैचों में जीत दर्ज करने वाले प्लेइंग इलेवन में कोई बदलाव करें. टीम इंडिया के लिए सबसे बड़ी खबर यह है कि उसके दोनों ओपनर रोहित शर्मा और शिखर धवन लगातार रन बना रहे हैं. धवन तो इस समय टॉप स्कोरर हैं. इसके साथ ही रोहित शर्मा और कप्तान विराट कोहली भी फॉर्म में आ गए हैं. भुवनेश्वर कुमार के नेतृत्व में गेंदबाजी इकाई भी बढ़िया प्रदर्शन कर रही है. श्रीलंका के खिलाफ मैच को छोड़ दें, तो टीम इंडिया हर मामले में बेहतरीन प्रदर्शन कर रही है. नीचे पढ़िए कौन-से खिलाड़ी होंगे प्लेइंग इलेवन में...

पाक टीम भी कम नहीं...

भारत के हाथो पहले मैच में हार के बाद पाकिस्तानी टीम ने भी शानदार खेल दिखाया है. हालांकि उसे किस्मत का भी साथ मिला है. उसने दक्षिण अफ्रीका, श्रीलंका और मेजबान इंग्लैंड को मात देकर पहली बार फाइनल में जगह बनाई है. पाकिस्तान के मुख्य गेंदबाज मोहम्मद आमिर फिट हो गए हैं. हसन अली और जुनैद खान भी फॉर्म में हैं और टीम इंडिया को इनसे सावधान रहना होगा. स्पिन में भी पाकिस्तान के पास इमाद वसीम और मोहम्मद हफीज के रूप में दो विकल्प हैं. रुम्मन रईस पहली बार टीम इंडिया के खिलाफ खेलेंगे. ऐसे में टीम इंडिया गच्चा खा सकती है. बल्लेबाजी में अजहर अली, मोहम्मद हफीज और शोएब मलिक के रूप में उसके पास तीन अनुभवी बल्लेबाज हैं.

टीमें इस प्रकार हैं :

भारत : विराट कोहली (कप्तान), शिखर धवन, रोहित शर्मा, महेंद्र सिंह धोनी (विकेटकीपर), युवराज सिंह, केदार जाधव, हार्दिक पांड्या, रविचंद्रन अश्विन, रवींद्र जडेजा, जसप्रीत बुमराह और भुवनेश्वर कुमार.

पाकिस्तान : सरफराज अहमद (कप्तान), फखर जमां, बाबर आजम, अजहर अली, मोहम्मद हफीज, शोएब मलिक, हसन अली, मोहम्मद आमिर, शादाब खान, जुनैद खान और इमाद वसीम.


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।