INDvsSA CT17 : वर्ल्ड नंबर वन द.अफ्रीका को टीम इंडिया ने दी करारी शिकस्त, कटाया सेमीफाइनल का टिकट

By: jhansitimes.com
Jun 11 2017 09:43 pm
269

लंदन: रविवार को भारत ने आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी, 2017 के ग्रुप बी में सेमीफाइनल के लिए  दक्षिण अफ्रीका के बीच रोमांचक टक्कर देकर करारी शिकस्त दी है | . टीम इंडिया ने लंदन के केनिंग्टन ओवल मैदान पर खेले गए मैच में वर्ल्ड नंबर वन टीम को आठ विकेट से करारी मात देते हुए सेमीफाइनल में जगह बना ली.भारत ने 38 ओवर में 2 विकेट खोकर 193 रन बनाए। रोहित शर्मा (12)  शिखर धवन (78) विराट कोहली नाबाद (76) युवराज सिंह (23)  नाबाद लौटे।  इस जीत में भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह सहित अन्य गेंदबाजों की शानदार गेंदबाजी और टीम की फील्डिंग के साथ-साथ शिखर धवन और विराट कोहली की पारियों का अहम योगदान रहा. 

इससे पहले भारत ने कसी हुई गेंदबाजी, बल्लेबाजों की गफलत और गलतियों का पूरा फायदा उठाकर दक्षिण अफ्रीका को 44.3 ओवर में 191 रन पर ढेर कर दिया। 

हाशिम अमला (35) और क्विंटन डिकाक (53) ने पहले विकेट के लिए 76 रन जोड़कर दक्षिण अफ्रीका को धीमी लेकिन ठोस शुरुआत दिलायी। इन दोनों के पवेलियन लौटने के बाद दक्षिण अफ्रीकी पारी ताश के पत्तों की तरह ढह गयी। फाफ डुप्लेसिस ने 36 रन बनाए लेकिन मध्यक्रम के अन्य बड़े बल्लेबाज नहीं चल पाये तो ऐसे में पुछल्ले बल्लेबाजों की क्या बिसात। दक्षिण अफ्रीका के आखिरी आठ विकेट 51 रन के अंदर निकले।  

भारत के सभी बल्लेबाजों ने अच्छा प्रदर्शन किया। भुवनेश्वर कुमार (23 रन पर दो विकेट) के साथ जसप्रीत बुमराह (28 रन पर दो) ने नई गेंद संभाली जबकि उमेश यादव की जगह टीम में लिए गए ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन (43 रन देकर एक) पहले बदलाव के रूप में उतरे। हार्दिक पंड्या (52 रन देकर एक) ने भी इन तीनों का अनुसरण किया जबकि रविंद्र जडेजा (39 रन देकर एक) ने अपनी चतुराई भरी गेंदबाजी से बल्लेबाजों की मुश्किलें और बढ़ायी। तीन बल्लेबाज रन आउट हुए।  

आसमान खुला था, लेकिन भारतीय गेंदबाजों ने दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाजों को हाथ नहीं खोलने दिए। विराट कोहली ने टॉस जीता और दक्षिण अफ्रीका को पहले बल्लेबाजी का न्यौता दिया। भारत के खिलाफ अक्सर अच्छा प्रदर्शन करने वाले हाशिम अमला और डिकाक कसी हुई गेंदबाजी के सामने अपेक्षित गति से रन नहीं बना पाए।

 

भारतीय गेंदबाजों ने अमला को कलात्मक लेकिन करारे शाट खेलने की रणनीति पर अमल नहीं करने दिया जबकि डिकाक पर भी शुरू से अंकुश लगाये रखा। आलम यह था कि दक्षिण अफ्रीका 13वें ओवर में 50 रन तक पहुंच पाया लेकिन इन दोनों बल्लेबाजों ने क्रीज पर टिके रहकर दबाव हटाने की कोशिश की।  

अमला जब हमला करने के मूड में दिख रहे थे तब अश्विन ने पारी के 18वें ओवर में उन्हें पवेलियन भेजा दिया। अमला ने कट करने में थोड़ी देर की और गेंद बल्ले से लगकर महेंद्र सिंह धौनी के दस्तानों में समा गयी। उन्होंने 54 गेंदें खेली तथा तीन चौके और एक छक्का लगाया। डिकाक और फाफ डुप्लेसिस ने स्ट्राइक रोटेट करके रन जुटाये जिससे 22वें ओवर में टीम का स्कोर तिहरे अंक में पहुंच गया।

 

डिकाक ने 68 गेंदों पर अपना 14वां वनडे अर्धशतक पूरा किया लेकिन जडेजा के अगले ओवर में स्वीप शाट खेलना उन्हें महंगा पड़ा। पहली गेंद पर जडेजा की पगबाधा की अपील अंपायर ने ठुकरा दी और ऐसे में बायें हाथ के स्पिनर ने अगली गेंद पर डिकाक की गिल्लियां ही गिराकर संदेह की कोई गुंजाइश नहीं रहने दी। डिकाक की 72 गेंद की पारी में चार चौके शामिल हैं। 

पिछले दो मैचों में चार और शून्य रन पर आउट होने वाले एबी डिविलियर्स (16) फिर से बड़ी पारी नहीं खेल पाये। डुप्लेसिस ने उन्हें रन के लिये आवाज लगायी और वह मना नहीं कर पाये। उन्होंने अपने अंदाज में डाइव लगाकर बचने की कोशिश भी लेकिन उससे पहले पंडया का थ्रो धोनी तक पहुंच गया था। डुप्लेसिस ने इसके बाद डेविड मिलर (1) को भी रन आउट कराया। डुप्लेसिस कट करके रन के लिये दौड़े लेकिन फिर हिचकिचा गये और वापस क्रीज पर लौट आये। तब तक मिलर भी उनके छोर पर पहुंच चुके थे। 

डुप्लेसिस खुद बड़ी पारी खेलने में नाकाम रहे। पंडया की खूबसूरत धीमी गेंद को आगे बढ़कर खेलना चाहते थे लेकिन चूक गये और बोल्ड होकर पवेलियन लौटे। क्रिस मौरिस (चार) ने बुमराह की गेंद पर सही तरह से पुल नहीं कर पाये। बुमराह ने इसके बाद फुलटास पर एंडिल फिलकुवायो (4) को पगबाधा आउट किया जिसके लिये भारत ने डीआरएस की मदद ली थी।  

भुवनेश्वर ने कैगिसो रबाडा और मोर्ने मोर्कल को लगातार गेंदों पर आउट किया जबकि इमरान ताहिर रन आउट होने वाले तीसरे बल्लेबाज बने। जेपी डुमिनी 20 रन बनाकर नाबाद रहे।


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।