शहीदों के शव का अपमान...शर्मनाक, पॉलिथीन में रखे गए तवांग हेलिकॉप्टर क्रैश में शहीद जवानों के शव

By: jhansitimes.com
Oct 09 2017 10:57 am
384

नई दिल्ली। अरुणाचल प्रदेश के तवांग में भारतीय वायुसेना का एक हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया, जिसमें 7 जवान जिंदा जल कर शहीद हो गए। घटना के तुरंत बाद हेलिकॉप्टर क्रैश में शहीद जवानों के शवों की तस्वीर ट्वीट की | जवानों के शवों को पॉलिबैग में रखकर घटनास्थल ले आया गया जिसकी फोटो रविवार को लोगों के सामने आईं। जिसके बाद सोशल मीडिया पर लोगों ने शहीद जवानों के साथ इस तरह के व्यवहार की आलोचना की। काफी आलोचनाओं के बाद रविवार शाम वायुसेना ने भी शव के साथ हुए सलूक को ठीक न मानते हुए कहा कि भविष्य में शवों को उचित तरीके से पहुंचाना सुनिश्चित किया जाएगा।

सेना के एक पूर्व मेजर लेफ्टिनेंट जनरल ने सबसे पहले ट्वीटर पर जवानों की इस फोटो को पोस्ट किया जिसके बाद सोशल मीडिया पर लोगों का गुस्सा फूट पड़ा। क्रिकेटर गौतम गंभीर ने भी इस मामले पर ट्वीट करते हुए कहा, 'IAF क्रैश के शहीदों के शव...शर्मनाक! माफ़ करना ऐ दोस्त, जिस कपड़े से तुम्हारा कफन सिलना था, वो अभी किसी का बंद गला सिलने के काम आ रहा है!!!'

- सोशल मीडिया में शहीद जवानों के साथ ये सलूक किए जाने का विरोध किया गया। इसके बाद सेना ने कहा कि ये भूल थी। 

- सेना के एक अधिकारी के मुताबिक, ये तस्वीरें तब ली गईं, जब शहीदों के शव गुवाहाटी में थे। आर्मी के एडिशनल डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ पब्लिक इन्फॉर्मेशन (ADGPI) ने कहा, "लोकल रिसोर्सेस के सहारे शहीदों की बॉडी को लपेटा जाना भूल है। शहीदों को हमेशा ही सेना ने पूरा सम्मान दिया है

- ये तस्वीर पूर्व नॉर्दर्न आर्मी कमांडर रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल एचएस पनाग ने तस्वीर ट्वीट की। 

- उन्होंने कहा, "अपनी मातृभूमि भारत की सेवा के लिए 7 युवा कल दमकते हुए निकले थे। ये देखिए वे किस तरह घर लौटे हैं।"

- उन्होंने कहा, "हर हाल में शहीदों की बॉडी को प्रॉपर मिलिट्री बॉडी बैग्स में लाना चाहिए, जब तक सेरेमोनियल कॉफिन्स ना मिल जाएं।'

- आपको बता दें एयरफोर्स का हेलिकॉप्टर Mi-17 V5 6 अक्टूबर को अरुणाचल प्रदेश के तवांग के पास खिरमू इलाके में क्रैश हो गया। इसमें 7 लोग सवार थे, सभी की मौत हो गई। इनमें 5 एयरफोर्स क्रू मेंबर्स और 2 आर्मी पर्सनल शामिल थे।

विवाद बढ़ने के बाद सेना ने रविवार शाम में इस मामले में ट्वीट करते हुए कहा कि शहीदों के शव को पूरा हमेशा पूरा सम्मान दिया जाता है। शवों को ताबूत में उनके घरों तक ले जाना सुनिश्चित किया जाएगा। सेना ने साथ ही उन तस्वीरों को भी जारी किया जिनमें इन जवानों के शवों को पूरे सैन्य सम्मान के साथ तिरंगे में लपेटा गया है। सेना ने बताया कि यह हेलीकॉप्टर 13000 फीट की उंचाई पर क्रैश हुआ था जहां सड़क मार्ग से जाना संभव नहीं था इसलिए जवानों के शव को हेलीकॉप्टर से लाया गया। इब इन शवों को पूरे सम्मान के साथ आगे भेजा जाएगा।


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।