सावधान! नशीली दवाओं का सीधा असर फेफड़े पर

सावधान! नशीली दवाओं का सीधा असर फेफड़े ...

( रिपोर्ट - प्रदीप श्रीवास्तव )   नई दिल्ली।  नशा न सिर्फ हमें हर प्रकार से कमजोर ...
CM साहब! सदानीरा बेतवा के अस्तित्व पर कैसे लग रहा है ग्रहण, मनमाने खनन की झलक देखें

CM साहब! सदानीरा बेतवा के अस्तित्व पर ...

उरई। सरकार की मुनाफाखोर सोच जनजीवन पर भारी पड़ रही है। राजस्व के लिए उसने एनजीटी ...
बुंदेलखंड के दर्द की गूंज, न चूल्हे में आग है न थाली में रोटी

बुंदेलखंड के दर्द की गूंज, न चूल्हे ...

बुंदेलखंड।  सूखे और बदहाली का दर्द पिछले कई सालों से झेल रहे बुंदेलखंड ...
बुंदेलखंड की नैय्या फंसी मझधार में, चुनावी वर्ष में भाजपा और कांग्रेस की बढ़ रही मुश्किल !

बुंदेलखंड की नैय्या फंसी मझधार में, ...

JHANSI: 2019 लोकसभा चुनाव होने वाले हैं और काफी समय से बुंदेलखंड को अलग राज्य बनाए ...
पर्यावरण में नॉनटेबर्यूक्लियस माइकोबैक्टेरिया से पल्मोनरी रोगों का खतरा

पर्यावरण में नॉनटेबर्यूक्लियस माइकोबैक्टेरिया ...

रिपोर्ट - प्रदीप श्रीवास्तव ,नई दिल्ली। पर्यावरण में नॉनटेबर्यूक्लियस माइकोबैक्टेरिया ...
 पढ़ लीजिये, बुंदेलखंड में पानी के लिए दलितों की संघर्ष गाथा !

पढ़ लीजिये, बुंदेलखंड में पानी के लिए ...

(रिपोर्ट - प्रदीप श्रीवास्तव )  अतिपिछड़े और सामंती बुंदेलखंड में पानी के लिए ...
भाजपा को समझना चाहिए, 3 महीने बाद फिर चुनाव हैं! अपने देव दुर्लभ कार्यकर्ताओं की वेदना सुनो

भाजपा को समझना चाहिए, 3 महीने बाद फिर ...

कांग्रेस ,कांग्रेस करके भाजपा तीन राज्य हार गई । अब उसे कांग्रेस सुधारने की जगह ...
पढ़ लीजिये, नदियों में बाढ़ आने के फायदे !

पढ़ लीजिये, नदियों में बाढ़ आने के फायदे ...

(प्रदीप कुमार श्रीवास्तव , विशेष संवाददाता )  नदियों में बाढ़ आने से बहुत नुकसान ...
शर्मनाक: आज भी देश में 20 हज़ार से ज्यादा लोग सिर पर ढोते हैं मैला

शर्मनाक: आज भी देश में 20 हज़ार से ज्यादा ...

नई दिल्ली: आज भी सिर पर मैला ढोने के काम में लगे हुए हैं, भारत में 20,500 से अधिक ...
पर्शियन थियेटर शैली की झलक मिलती है कोंच की रामलीला में, साढे सोलह दशक पुरानी मान्यतायें

पर्शियन थियेटर शैली की झलक मिलती है ...

उरई । उत्तर प्रदेश के जनपद जालौन के कोंच की ऐतिहासिक और अनुपम रामलीला विश्व ...

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।