बौद्ध धर्म में कुशीनगर के 13 बौद्धिष्ठ मंदिरों का विशेष महत्व,खुदाई में मिली थी बुद्ध की 21.6 फिट की प

बौद्ध धर्म में कुशीनगर के 13 बौद्धिष्ठ ...

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर भगवान बुद्ध की महापरिनिर्वाण स्थली के नाम से विश्व ...
 Bakrid: कई मायनों में ख़ास है कुर्बानी का पर्व ईद-उल-जुहा (बकरीद),  पढ़ लीजिये

Bakrid: कई मायनों में ख़ास है कुर्बानी का ...

कई मायनों में ख़ास है कुर्बानी का पर्व 'बकरीद' । एक विशेष संदेश देने वाले ...
आधुनिक परम्परा के चकाचौंध में खत्म हो रहे झूले, बिसार दी गई कजरी

आधुनिक परम्परा के चकाचौंध में खत्म ...

प्रतीक्षा, मिलन और विरह की अविरल सहेली, निर्मल और लज्जा से सजी-धजी नवयौवना की ...
जायके के अनुसार, भारत के इन 10 राज्यों की थाली है सबसे मशहूर !

जायके के अनुसार, भारत के इन 10 राज्यों ...

खाने के शौकीन लोग हर रोज अपनी थाली में कुछ ना कुछ नया देखना करते हैं। इसलिए कई ...
....इसलिए हिन्दू जलती हुई लाश के सिर पर मारते हैं डंडा

....इसलिए हिन्दू जलती हुई लाश के सिर पर ...

हिंदू रीति-रिवाज में जन्‍म से लेकर मुत्‍यु तक 16 संस्‍कार होते हैं। जिसमें से ...
जान लीजिये, बाप-दादा की प्रॉपर्टी में किसका कितना अधिकार

जान लीजिये, बाप-दादा की प्रॉपर्टी में ...

अगर आपको लगता है कि जो संपत्ति आपके बाप-दादा की है, उस पर हर सूरत में सिर्फ़ और ...
हिन्‍दू वोट बैंक को मजबूत करेगी भाजपा! बनाई ये धार्मिक रणनीति

हिन्‍दू वोट बैंक को मजबूत करेगी भाजपा! ...

2019 के लोकसभा चुनाव को लेकर सभी राजनैतिक दल चुनाव की रणनीति तैयार करने में जुट ...
मुंशी प्रेमचंद...एक लेखक का नहीं बल्कि एक साधना का नाम है...नजर डालिये कुछ खास बातों पर

मुंशी प्रेमचंद...एक लेखक का नहीं बल्कि ...

मशहूर कहानीकार और उपन्यासकार मुंशी प्रेमचंद्र की आज यानी 31 जुलाई को 138वीं जयंती ...
कार्डिक अरेस्ट में कारगर है मोडिफाईड अर्ली वार्निंग स्कोर

कार्डिक अरेस्ट में कारगर है मोडिफाईड ...

रिपोर्ट - प्रदीप श्रीवास्तव, नई दिल्ली। अमेरिका में रहने वाले भारतीय डाक्टर ...
क्या आप जानते हैं, तिरंगा कैसे बना भारत का राष्ट्रीय ध्वज... पढ़ लीजिये

क्या आप जानते हैं, तिरंगा कैसे बना भारत ...

भारतीय राष्‍ट्रीय ध्‍वज को इसके वर्तमान स्‍वरूप में 22 जुलाई 1947 को आयोजित भारतीय ...

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।