स्तब्धकारी! बहिन के साथ डांस करते-करते चली गई भाई की जान

स्तब्धकारी! बहिन के साथ डांस करते-करते ...

इन दिनों सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। ये वीडियो बाड़मेर राजस्‍थान ...
वेदव्यास मंदिर पर मंडराए संकट के बदल, भविष्य खतरे में देख समाजसेवियों में चिंता

वेदव्यास मंदिर पर मंडराए संकट के बदल, ...

उरई ।  पूरे विश्व को ज्ञान देने वाले तथा वेद पुराणो, महाभारत पुराण के रचियता ...
अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर विशेष:  शालिनी, लक्ष्मी और संजना ने महिलाओं की बेरंग जिंदगी में भरे

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर विशेष: ...

(न्यूज एडिटर मदन यादव की विशेष रिपोर्ट) झाँसी। नारी शब्द एक और रूप अनेक। जी हां, ...
प्राइमरी हेल्थ केयर में बेहतर हैं डॉक्टर शशांक

प्राइमरी हेल्थ केयर में बेहतर हैं डॉक्टर ...

रिपोर्ट - प्रदीप श्रीवास्तव, नई दिल्ली। भारतीय मूल के अमेरिकी डाक्टर शशांक के्रलेटी ...
बुंदेलखंड: अब नहीं होती घर-घर फाग, डीजे और म्यूजिक सिस्टमों ने ली फाग की जगह

बुंदेलखंड: अब नहीं होती घर-घर फाग, डीजे ...

झाँसी। दौर बदला, तो होली को मनाने के तौर-तरीके भी बदल गए। फाग और ढोलक की थाप की ...
बुंदेलखंड के झाँसी में इसलिए नहीं खेली जाती होली, वजह जानकर हो जाएंगे हैरान

बुंदेलखंड के झाँसी में इसलिए नहीं खेली ...

झाँसी। रंगों के त्यौहार होली को पूरे देश में हर्षोल्लास से मनाया जाता है और ...
बुजुर्गों के सहारे के लिए डॉक्टर सुधीर रेड्डी का एप्प सहाय

बुजुर्गों के सहारे के लिए डॉक्टर सुधीर ...

रिपोर्ट - प्रदीप कुमार श्रीवास्तव,नई दिल्ली। डॉक्टर सुधीर रेड्डी कोयौउरा ने ...
अंधविश्‍वास की पराकाष्ठा:  आज़ादी के 70 साल बाद भी यहाँ पति के जूतों में पानी पीती हैं महिलाएं

अंधविश्‍वास की पराकाष्ठा: आज़ादी के ...

आज भी देश ही नहीं बल्कि दुनियाभर की महिलाएं अपने हक के लिए लड़ रही हैं। आज हम आपको ...
विस्तार से पढ़िए, क्या है हवाला और कैसे होता है इसका कारोबार? बुंदेलखंड में भी पसारे इस कारोबार ने प

विस्तार से पढ़िए, क्या है हवाला और कैसे ...

सभी के मन मे जिज्ञासा उठना स्वाभाविक है कि आखिर हवाला क्या है और कैसे होता है ...
प्राकृतिक प्रकोप के बावजूद स्वर्गाश्रम के कुण्ड नहीं होते कभी खाली, पानी में रोगों से लडऩे की है

प्राकृतिक प्रकोप के बावजूद स्वर्गाश्रम ...

(न्यूज एडिटर, मदन यादव के साथ अंकित की ख़ास रिपोर्ट)  झाँसी मुख्यालय से महज 25 किमी ...

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।