इंडिया वाले देखो, असली भारत झलक रहा आदिवासी महिला की इस तस्वीर में

इंडिया वाले देखो, असली भारत झलक रहा ...

 एक तरफ जहां देश के प्रधानमंत्री सपेरों के देश से निकल कर कम्प्यूटर माऊस को ...
कहां है संपत्ति में स्त्रियों की जगह ?...बता रहे, विशेष संवाददाता P. K SRIWASTAV

कहां है संपत्ति में स्त्रियों की जगह ...

झांसी। बांदा की सुधा सिंह के पति की मौत 2005 में हो गई। वह कम पढ़ीलिखी है। उनके चार ...
मध्य प्रदेश में एक और गड़बड़ , पंजीकरण कर नहीं ली लाखों गर्भवती महिलाओं की सुध

मध्य प्रदेश में एक और गड़बड़ , पंजीकरण ...

(रिपोर्ट- पी के श्रीवास्तव ) । कैग की एक रिपोर्ट के अनुसार मध्य प्रदेश में पिछले ...
उत्तर प्रदेश में देश का भविष्य ऐसे जा रहा गर्त में,४६ फीसदी बच्चे कुपोषित,जिनके इलाज में लाचार सर

उत्तर प्रदेश में देश का भविष्य ऐसे ...

(REPORT, P.K SRIWASTAV ) पिछले माह उत्तर प्रदेश सरकार ने विधानसभा में बताया है कि प्रदेश में ...
उत्तर प्रदेश में देश का भविष्य ऐसे जा रहा गर्त में,४६ फीसदी बच्चे कुपोषित,जिनके इलाज में लाचार सर

उत्तर प्रदेश में देश का भविष्य ऐसे ...

(REPORT, P.K SRIWASTAV ) पिछले माह उत्तर प्रदेश सरकार ने विधानसभा में बताया है कि प्रदेश में ...
बच्चों की असमय मौतों के लिए स्वास्थ्य व्यवस्था जिम्मेदार है या सरकारें ?

बच्चों की असमय मौतों के लिए स्वास्थ्य ...

(रिपोर्ट-पी के श्रीवास्तव) झांसी जनपद के रक्सा निवासी रामधुन के बच्चे सोनू की ...
आंखन देखी: यह तस्वीर खोल रही योगी शासन के दावों की पोल, बरसात में गांव के हालात बने नारकीय

आंखन देखी: यह तस्वीर खोल रही योगी शासन ...

झांसी। बुंदेलखंड के झांसी जनपद में बरसात का मौसम कहीं खुशी कहीं गम लिए है। ग्रामीण ...
महिलाओं को अब रेप से बचाएगी ये ब्रा, छूते ही जोर से बजेगा सायरन

महिलाओं को अब रेप से बचाएगी ये ब्रा, ...

भारतीय वैज्ञानिक ने एक ऐसी ब्रा बनाई है जो महिलाओं को रेप और यौन शोषण जैसी वारदातों ...
कोठों की बदनाम सीढ़ियां छोड़ स्पा सेंटरों में पहुंचीं कॉल गर्ल्‍स, बंद कमरे में होती है सेक्‍स डील

कोठों की बदनाम सीढ़ियां छोड़ स्पा सेंटरों ...

दुनिया का पेशा जो कभी खत्म नहीं हो सकता है, उसका नाम है वेश्यावृत्ति | वक्त ...
...इसलिए भारत में पूजे जाते हैं नाग, मनाई जाती नागपंचमी

...इसलिए भारत में पूजे जाते हैं नाग, मनाई ...

आस्थाओं के देश भारत हम भारतीय हर काम अनूठे रूप में करते हैं चाहे वह खान-पान ...

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।