झाँसी-ललितपुर लोकसभा: भाजपा से टिकट की रेस में दो शर्मा, किसके बहेंगे आंसुओं में अरमां

By: jhansitimes.com
Mar 29 2019 10:43 am
6936

(रिपोर्ट-मदन यादव एडिटर) झाँसी। झाँसी-ललितपुर संसदीय सीट पर लगभग सभी प्रमुख दलों के प्रत्याशी घोषित हो गए हैं। लेकिन भारतीय जनता पार्टी में दावेदारों के मध्य घमासान मचा हुआ है। यहां भी आलाकमान ने शेष सभी को वापस क्षेत्र में भेज दिया है कि वे टिकट पाने की नहीं, बल्कि सीट निकालने की तैयारी करें। सूत्रों की माने तो अब इस वीवीआईपी सीट पर टिकट की रेस में सिर्फ  दो नाम बचे हैं। इनमें से एक नाम फाइनल कर आज शाम तक सूची जारी कर दी जाएगी। खास बात यह है कि इन दोनों नामों में सरनेम शर्मा ही है। अब देखते हैं किसे खुशी मिलती है और किन शर्मा के अरमां आंसुओं में बहते हैं।

भारतीय जनता पार्टी की निवर्तमान सांसद व केंद्रीय मंत्री उमा भारती द्वारा चुनाव लडऩे से इंकार करने पर झाँसी-ललितपुर संसदीय सीट से जैसे दावेदारों की बाढ़ ही आ गई थी। पूर्व मंत्री, विधायक व तमाम पदाधिकारी खुद को जिताऊ उम्मीदवार बताते हुए टिकट की दावेदार करने लगे। इससे आलाकमान भी भ्रमित हो गया। उधर, उमा भारती खुद एक करीबी का नाम आगे बढ़ाने लगी। इससे असमंजस की स्थिति पैदा हो गई। आलाकमान ने सूझबूझ से काम लिया और सभी दावेदारों की जमीनी नब्ज टटोली। इसलिए सभी दावेदार एक-एक कर किनारे कर दिए गए। 

इसी बीच एक पूर्व सांसद व उद्योगपति के पुत्र का भी नाम दावेदारों की कतार में शामिल हो गया। बैद्यनाथ गु्रप के मालिक अनुराग शर्मा ने न सिर्फ दिल्ली स्थित भाजपा हेड क्वार्टर से खुद को सीधा जोड़ा, बल्कि आरएसएस के मुख्यालय नागपुर से भी अपने करीबियों को हाथ में ले लिया। देखते ही देखते अनुराग शर्मा भाजपा में इस संसदीय सीट पर आलाकमान की पहली पसंद बन गये। उधर, स्थानीय विधायक रवि शर्मा भी जोर-शोर से टिकट की मांग कर रहे थे। लगातार दूसरी बार विधायक बने रवि शर्मा खुद को आलाकमान की नजरों में स्थापित करने में सफल रहे और टिकट के प्रबल दावेदार के रूप में सामने आए। लेकिन मामला वहीं अनुराग शर्मा को लेकर फंस गया। उनके पिता पं. विश्वनाथ शर्मा भी भाजपा से  खासे लोकप्रिय सांसद रहे। इसके अलावा क्षेत्र में इस परिवार की जमीनी पकड़ को भी आरएसएस और भाजपा हाईकमान नकारने में खुद को असहज महसूस करने लगा। 

अब, जब सारे अन्य दलों ने अपने पत्ते खोल दिए है, तब भाजपा भी अपनी इस झाँसी-ललितपुर लोकसभा सीट पर नाम घोषित करने में देर नहीं करना चाहती। सूत्रों की माने तो अब दावेदारों की लिस्ट में केवल दो नाम बचे हैं। पहले उद्योगपति अनुराग शर्मा तो दूसरे विधायक रवि शर्मा। ऐसे में अनुराग शर्मा की आरएसएस के माध्यम से की गई पहल संभवत: कुछ करामत दिखा सकती है और उनका नाम आज देर शाम तक जारी होने वाली भाजपा की सूची में शामिल हो सकता है। वहीं झाँसी सदर विधायक रवि शर्मा को लोकसभा टिकट के लिए फिलहाल कुछ वर्षों तक और इंतजार करना पड़ सकता है। देखते हैं, क्या होता है? फिलहाल अंतिम निर्णय भाजपा को करना है। आज शाम तक सबकुछ क्लीयर  होने की संभावना है। 


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।