913.42 करोड़ रुपए का राजस्व वसूल कर झांसी रेलवे ने बनाया मुकाम: डीआरएम झाँसी

By: jhansitimes.com
Jan 13 2018 07:03 pm
193

झाँसी। झाँसी मंडल उत्तर मध्य रेलवे का सबसे महत्वपूर्ण मंडल है। डीआरएम अशोक कुमार मिश्र ने बताया कि हम यात्रियों की सुविधाओं में विकास के लिए निरंतर प्रयासरत हैं। वित्तीय वर्ष 2017-18 में अप्रैल से दिसंबर तक यात्री, परिवहन, माल-लदान एवं अन्य श्रोतों से मंडल ने निर्धारित लक्ष्य 773.83 करोड़ के सापेक्ष 913.42 करोड़ रुपए का राजस्व अर्जित किया है। जो निर्धारित लक्ष्य से 18 प्रतिशत अधकि है तथा पिछले वर्ष की तुलना में 24 प्रतिशत अधिक है। 

झाँसी मंडल के कई स्टेशनों पर लगाईं एटीवीएम मशीनों 

झाँसी मंडल द्वारा पिछले कुछ माह में ही कई नई रेलगाडिय़ों का संचालन शुरू किया गया। साथ ही गत 8 जनवरी 2018 को झाँसी मंडल के कई स्टेशनों पर एटीवीएम मशीनों पर फैसिलिटेटर्स की नियुक्ति की गई। इसमें झाँसी में 6, ग्वालियर में 3 तथा ललितपुर स्टेशन पर दो नियुक्तियां हुई हैं। 

कर्मचारी कल्याण के अंतर्गत शिकायत निवारण शिविर, जागरूकता शिविर आयोजित किए गए। कर्मचारी चार्टर के लागू करने से कर्मियों की शिकायतें व प्रतिवेदनों आदि का समय बद्ध निस्तारण किया जा रहा है। समस्या निवारण शिविर में 1500 से अधिक कर्मचारियों ने सेवा पुस्तिका एवं स्वयं के अवकाश खातों का अवलोकन किया। इन शिविरों में 536 कर्मचारी संबंधी समस्याएं प्राप्त कर 200 से अधिक का समाधान किया गया। इसके अलावा सेवानिवृत्त रेल कर्मियों को कार्मिक विभाग द्वारा 90 से अधिक संशोधित पीपीओ जारी किए जा चुके हैं। झाँसी में स्थित वृहद खेल परिसर में कर्मचारियों के लिए  7 नवंबर 2017 को जिम्नेशियम का उद्घाटन किया गया।

स्किल डेवलपमेंट के अंतर्गत लोगों को किया  प्रशिक्षित 

डीआरएम ने बताया कि झाँसी मंडल में सामाजिक कार्यों में 94 एक्ट अप्रेन्टिस के तहत अभ्यार्थियोंको प्रशिक्षित किया गया। ग्वालियर में स्किल डेवलपमेंट के अंतर्गत लोगों को प्रशिक्षित किया जा रहा है। स्टेशनों पर ट्राइबल आर्ट के माध्यम से क्षेत्रीय लोक कलाओं को प्रसारित किया जा रहा है। रेल के महिला कल्याण संगठन द्वारा संचालित स्वावलंबन केंद्र में मानसिक रूप से कमजोर बच्चों के कौशल का विकास कार्य किया जा रहा है। इसके अंतर्गत बच्चों को कम्प्यूटर प्रशिक्षण के साथ अन्य उपयोगी प्रशिक्षण भी दिए जा रहे हंै। 

उन्होंने बताया कि रेल के सुरक्षित संचालन हेतु संरक्षा के तहत समय-समय पर अलग-अलग स्टेशनों, डिपो, प्रशिक्षण केंद्रों, स्थानों पर नुक्कड़ नाटक, मोबाइल वैन के माध्यम से लोगों को रेल के प्रति जागरूक कर रहे हंै। इसके अलावा सेफ्टी निरीक्षण, सेफ्टी हेतु रात्रि निरीक्षण, एम्बुस चेक, इंजनों की फुट प्लेटिंग मंडल के अधिकारियों द्वारा नियमित रूप से प्रतिदिन की जा रही है। साथ ही मानव रहित 10 एवं मानव सहित 11 समपार फाटकों को बंदकर दिया गया है और 6 लिमिटेड हाईट सबवे व नार्मल हाइट सबवे का निर्माण किया गया।

झाँसी मंडल ने 7 की शील्ड प्राप्त 

झाँसी मंडल ने वर्ष 2016-17 के प्रदर्शन को देखते हुए भारतीय रेल के 62 वें रेल सप्ताह के दौरान मंडल को 7 शील्ड प्रदान की गई। मंडल द्वारा इस वर्ष आईटीआई के पास मानव सहित रेल फाटक को एक अंडर ब्रिज में परिवर्तित कराया गया। झाँसी 6/8 प्लेटफार्म पर नई शीट लगवाई गई और दिव्यांगों के लिए शौचालय बनवाया गया। दिव्यांगों के लिए उरई, झाँसी, ग्वालियर, मुरैना स्टेशनों पर टॉयलेट ब्लाक, बुकिंग खिडक़ी, पार्किंग लॉट, रेलिंग, वॉक वे, सहायता बूथ आदि बनवाए गए। 

सुगम्य भारत अभियान के तहत कुलपहाड़, मऊरानीपुर, रागौल, तालबेहट एवं बुढ़पुरा स्टेशन पर कार्य पूरा किया गया। दृष्टिहीनों के लिए झाँसी तथा ग्वालियर डिपो की गाडिय़ों के 150 कोचों में ब्रेल साइनेज की सुविधा प्रदान की गई है। 

झाँसी, ग्वालियर, बांदा में टीटीई लॉबी को कम्प्यूटीकृत किया जा रहा है। इसमें झाँसी लॉबी का कार्य लगभग पूर्ण हो चुका है। इस सुविधा से पेपरलैस वर्किंग को बढ़ावा मिलेगा और रनिंग स्टाफ की नाईट ड्यूटी, टीए, रिटन्र्स आदि प्रेषित करने में सुविधा प्राप्त होगी। 

 


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।