चलिए हम आपको बताते हैं, अपने देश के ये 6 कानून, यकीनन नहीं जानते होंगे आप

By: jhansitimes.com
Feb 09 2018 04:41 pm
229

भारत जैसे विशाल देश में जहां कई जाति, धर्म और संप्रदाय के लोग एक साथ रहते हैं वहां सरकार के लिए सभी को खुश करने या सभी की भावनाओं को ध्यान में रखते हुए कानून बनाना बेहद मुश्किल काम हैं.

इस विशाल देश में लोगों की भावनाओं और अधिकारों की रक्षा करना भी सरकार का काम है. तभी तो 125 करोड़ की आबादी वाले इस देश में लोगों की भावनाओं और अधिकारों की हिफाज़त के लिए हमारे संविधान में कई कानून बने हैं जिन्हें हर किसी को मानना पड़ता है. आम कानूनों के साथ ही हमारे संविधान में कुछ ऐसे अजीब कानून भी हैं, जिसके बारे में बहुत कम लोग जानते हैं.

चलिए आज हम आपको बताते हैं देश के विचित्र कानून – देश के कुछ ऐसे ही अनोखे कानून के बारे में जिसके बारे में शायद ही आप जानते होंगे.

१ – लड़ाई में नहीं कर सकते चाकू का इस्तेमाल 

सुनकर शायद आपको हैरानी हुई होगी, मगर भारतीय संविधान के अनुसार भारत के सैनिक लड़ाई में चाकू का इस्तेमाल नहीं कर सकते. हालांकि नागालैंड में यह कानून लागू नहीं होता. नागालैंड के सैनिकों को लड़ाई में चाकू इस्तेमाल की छूट है.

२ – खुदकुशी का कानून

यकीनन आप इस अनोखे कानून के बारे में भी नहीं जानते होंगे. भारत में खुदकुशी करना लीगल है पर, खुदकुशी की कोशिश करने पर सजा मिलती है. इंडियन पीनल कोड में सुसाइड एटेम्पट करने पर सजा का प्रावधान है. पर अगर वह मर जाये तो उसमें कानून कुछ नहीं कर सकता. अब ज़ाहिर सी बात है जो इंसान मर गया कानून उसका क्या बिगाड़ लेगी.

३ – पोर्न साइट के लिए नहीं है कोई कानून

गवर्नमेंट इंटरनेट से एडल्ट कंटेंट बन करने के लिए कई स्टेप्स उठाती है. लेकिन इसके लिए कोई एक पालिसी इंडिया में मौजूद नहीं है, जिसमें यह लिखा हुआ हो की कौन सी वेबसाइट नहीं दिखानी चाहिए. शायद इसलिए तो लोग धड़ल्ले से पॉर्न साइट्स देखते हैं.

४ – बच्चों की संख्या का कानून

चीन की बढ़ती आबादी को रोकने के लिए वहां की सरकार ने वन चाइल्ड पॉलिसी लागू की थी, मगर भारत में ऐसी पॉलिसी बस एक राज्य केरल में ही है. यहां सिर्फ 2 बच्चे पैदा करने की परमिशन है. यदि कोई कपल तीसरा बच्चा पैदा करता है तो उसे ₹10000 तक का जुर्माना देना पड़ता है. काश! की ये कानून पूरे देश खासतौर पर मुस्लिम बहुल इलाकों में लागू कर दिया जाता तो काफी हद तक बढ़ती आबादी पर अंकुश लगाया जा सकता था.

५ – शराब पीने की एज लिमिट

भारत में वोट डालने की उम्र तो सब जगह 18 साल ही है, मगर शराब पीने की उम्र हर राज्य में अलग-अलग है. वैसे तो शराब पीने की मिनिमम ऐज 18 साल है, लेकिन कुछ राज्यों जैसे हिमाचल प्रदेश, यूपी, सिक्किम, पांडिचेरी और महाराष्ट्र में यह आयु सीमा 25 साल है.

६ – ट्रैफिक इंस्पेक्टर बनने के लिए जरूरी है सफेद दांत

आप सोच रहे होंगे कि इस नौकरी का दांतों से क्या लेना-देना, मगर ये सच है कि इंडियन मोटर व्हीकल एक्ट 1974 के तहत अगर आप आंध्र प्रदेश में ट्रैफिक इंस्पेक्टर बनना चाहते हैं तो आपके दांतों का मोतियों की तरह सफेद होना जरूरी है. इसके बिना आपको यह जॉब नहीं मिल सकती.

ये है देश के विचित्र कानून – ऐसे विचित्र कानून की वजह से भी शायद भारत को विविधताओं वाला देश कहा जाता है


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।