आईये विस्तार से जानते हैं, रेलवे में टिकट कैंसिल कराने के नियम, यहां पढ़ें

By: jhansitimes.com
Jul 13 2018 10:13 am
315

नई दिल्ली: रेलवे में सफर करने वालों को कभी न कभी अपने टिकट को कैंसिल या कहें रद्द करने की जरूरत पड़ी है. ऐसे में यह समझ नहीं आता है कि टिकट कैंसिल करने का नियम क्या है. यह भी जानकारी नहीं होती है कि जो पैसा वापस मिला वह नियम के मुताबिक है या नहीं. कहीं कम पैसे तो नहीं दिए गए. कई बार देखा गया है कि काउंटर पर टिकट कैंसिल करवाने में बहस भी हो जाती है. इस सब बातों में यह जानना जरूरी कि कब टिकट रद्द करवाया जा रहा है. रेलवे की साइट के अनुसार -

आई- टिकट का रद्दीकरण, ट्रेन जाने से पहले

आई- टिकट का रद्दीकरण देश भर में उपलब्ध किसी भी कम्प्युटरी कृत आरक्षण केन्द्र से किया जा सकता है. उसके पश्चात रद्दीकृत टिकट प्राप्त करे. कोई नकद राशि वापस नही की जाएगी. सर्विस चार्ज भी वापस नही किया जाएगा. टिकट रद्दीकरण के पश्चात, रिफ़ंड की राशि आपके एकाउंट/क्रेडिटकार्ड/डेबिटकार्ड में वापस कर दी जाएगी. रद्दीकरण राशि की कटौती के बाद ही किराए की राशि वापस की जाएगी.

 1) यदि RAC/Waitlisted टिकट रद्द की जाती है तो 60/- रु प्रति यात्री की कटौती होगी.

 2) यदि एक कनफ़र्म्ड टिकट, ट्रेन जाने के 48 घटे के पहले रद्द की जाती है तो रद्दीकरण शुल्क : 240/- रु 1 एसी/एक्जिक्युटिव 

चेयर कार, 200/-रु एसी 2 टायर/एसी,180/- रु 3 टायर/ एसी चेयर कार, 120/- रु स्लीपर क्लास और 60/- रु 2 क्लास

पर प्रतियात्री चार्ज किया जाएगा.

 3) यदि एक कनफ़र्म्ड टिकट, ट्रेन जाने के 48 घटे के अंदर व 12 घटे पहले रद्द की जाती है तो रद्दीकरण

चार्ज किराए का 25% होगा, जिसकी न्यूनतम सीमा उल्लिखित समान दर के अनुसार होगी.

 टिकट का रद्दीकरण, ट्रेन जाने के पश्चात

उल्लेखित नियम के अनुसार ट्रेन जाने के 4 घटे के अंदर, ट्रेन में बैठने के स्थान से भी टिकट रद्द किया जा सकता है.

 1) 200 किमी की दुरी तक ट्रेन जाने के 3 घंटे के अंदर

 2) 201-500 किमी की दुरी तक ट्रेन जाने के 6 घंटे के अंदर

 3) 500 किमी से अधिक की दुरी ट्रेन जाने के 12 घंटे के अंदर

ऊपर वर्णित सभी दशा मे,रद्दीकरण शुल्क किराय का 50% होगा, जिसकी न्यूनतम सीमा उल्लिखित समान दर के अनुसार होगी.

उल्लेखित समय के पश्चात टिकट का रद्दीकरण :

1) स्टेशन मास्टर को I - टिकट देने के पश्चात, टिकट जमा करने की रसीद (टीडीआर) प्राप्त करे.

2) धन वापसी का आवेदन, टिकट जमा करने की मूल प्रति के साथ नीचे लिखे पते पर भेजे : 

महाप्रबंधक (परिचालन), 

इंडियन रेलवे केटरिंग एंड टुरिज्म कारपोरेशन लिमिटेड 

पहली मंजिल, इंटरनेट टिकटिंग सेंटर , 

स्टेट एंट्री रोड, 

नई दिल्ली 110055

IRCTC धन वापसी के संबध रेलवे प्रशासन के साथ प्रक्रिया करेगा तथा रिफ़न्ड पास होने के पश्चात आपके एकाऊंट/क्रेडिट कार्ड/डेबिट कार्ड में वापस कर दिया जाएगा.

रिफ़ंड वापसी की प्रक्रिया में कम से कम 60 दिन या अधिक समय भी लग सकता है.

ट्रेन के रद्द हो जाने पर I - टिकट का रद्दीकरण

ट्रेन के प्रस्थान समय से 72 घटो के अंदर किसी भी कम्प्युटराईज्ड आरक्षण केन्द्र पर I - टिकट को रद्द किया जा सकता है.

भारतीय रेलवे के उल्लेखित नियम बिना किसी पुर्व सुचना के बदले जा सकते है.


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।