Live INDvsENG 5th Test : टीम इंडिया ने इंग्लैंड को पारी और 75 रन से हराया, सीरीज 4-0 से जीती

By: jhansitimes.com
Dec 20 2016 04:14 pm
480

चेन्नई: सीरीज के पांचवें और अंतिम मैच में टीम इंडिया ने चेन्नई के एमए चिदंबरम स्टेडियम में इंग्लैंड को पारी और 75 रन से हराकर सीरीज पर 4-0 से कब्जा कर लिया। टीम इंडिया की चेन्नई टेस्ट में जीत के सितारों की बात करें इसमें करुण नायर (303*), लोकेश राहुल (199) और रवींद्र जडेजा (दूसरी पारी में 7 विकेट और पहली में 3 विकेट) प्रमुख रहे. टीम इंडिया ने चौथे दिन नायर के ऐतिहासिक तिहरे शतक की मदद से इंग्लैंड पर 282 रनों की बढ़त बना ली थी, जवाब में इंग्लिश टीम 207 रन पर सिमट गई. कप्तान एलिस्टर कुक (49), कीटन जेनिंग्स (54 रन) और मोईन अली (44) ने हार टालने की भरपूर कोशिश की, लेकिन जडेजा की घूमती गेंदों के आगे उनका एक न चली.

अजहर की कप्‍तानी का रिकॉर्ड टूटा

विराट कोहली की कप्तानी में टीम इंडिया ने हर सीरीज में नई उपलब्धियां हासिल करती जा रही है. उसने इस सीरीज में इंग्लैंड पर अब तक की सबसे बड़ी जीत दर्ज की है. इससे पहले वह 1992-93 में मोहम्मद अजहरुद्दीन की कप्तानी में इंग्लैंड को 3-0 से 'वाइटवाश' कर चुकी है.

इंग्लैंड का विकेट पतन : 1/103 (एलिस्टर कुक- 49), 2/110 (कीटन जेनिंग्स- 54), 3/126 (जो रूट- 6), 4/129 (जॉनी बेयरस्टॉ- 1), 5/192 (मोईन अली- 44), 6/193 (बेन स्टोक्स- 23), 7/196 (लियाम डॉसन- 0), 8/200 (आदिल राशिद- 2), 9/207 (स्टुअर्ट ब्रॉड), 10/207 (जेक बॉल) इंग्लैंड को दिन के खेल के अंतिम सत्र में ड्रॉ खेल जाने की उम्मीद रही होगी, लेकिन टीम इंडिया के बाएं हाथ के स्पिनर रवींद्र जडेजा तो पूरी तरह हावी थे.

चाय से पहले ग्रेट कैच लेने के बाद उन्होंने एक बाद फिर करिश्माई गेंदबाजी की और 192 और 193 के स्कोर पर विकेट झटकते हुए अपने विकेटों की संख्या 5 कर ली. उन्होंने छठी बार पारी में पांच या अधिक विकेट लिया है. जडेजा ने चाय के बाद 44 रन पर खेल रहे मोईन अली का अहम विकेट लिया. इसके बाद 23 रन पर खेल रहे बेन स्टोक्स को तिहरा शतक जड़ने वाले करुण नायर के हाथों कैच करा दिया. फिर लेग स्पिनर अमित मिश्रा ने लियाम डॉसन को बोल्ड कर दिया. इंग्लैंड ने 196 रन पर अपना सातवां विकेट खो दिया. स्कोर में चार और जुड़े थे कि तेज गेंदबाज उमेश यादव ने आदिल राशिद को दो रन पर जडेजा के हाथों कैच करा दिया.

चायकाल तक

लंच के बाद टीम इंडिया ने दबाव बढ़ाया और स्कोर में 6 रन ही जुड़े थे कि इंग्लिश कप्तान एलिस्टर कुक एक बार फिर रवींद्र जडेजा को नहीं खेल पाए और लेग स्लिप पर खड़े लोकेश राहुल को कैच थमा बैठे. इंग्लैंड ने पहला विकेट 103 रन पर खोया. कुक उस समय 49 रन पर थे और फिफ्टी से वंचित रह गए. जमकर खेल रहे कीटन जेनिंग्स भी कुक के जाने के बाद एकाग्रता खो बैठे और जडेजा का ही शिकार बन गए. जेनिंग्स ने 54 रनों की पारी खेली. इंग्लैंड को रूट से उम्मीदें थीं, लेकिन वह भी जडेजा का सामना नहीं कर पाए. उन्होंने जडेजा की सीधी गेंद पर स्वीप शॉट खेलने की कोशिश की, लेकिन मिस कर गए. गेंद पैड पर लगी, टीम इंडिया ने अपील की, लेकिन अंपायर ने नकार दिया. फिर विराट ने साथियों से चर्चा के बाद रीव्यू ले लिया और फैसला उनके पक्ष में गया. रूट ने 6 रन बनाए. इंग्लैंड ने 126 रन पर तीसरा विकेट खो दिया. लंच के बाद तो जैसे इंग्लैंड के लिए सबकुछ उल्टा हो रहा था. रवींद्र जडेजा की गेंदों पर धड़ाधड़ तीन विकेट खो देने के बाद इंग्लैंड को उनसे फील्डिंग में भी राहत नहीं मिली और उन्होंने जॉनी बेयरस्टॉ का ग्रेट कैच पकड़कर उन्हें पैवेलियन भेज दिया. बेयरस्टॉ ने ईशांत शर्मा की गेंद को लेग में फ्लिक किया, लेकिन गेंद हवा में काफी ऊपर चली गई. यह देखते ही जडेजा ने डीप मिडविकेट की ओर पीछे की तरफ दौड़ लगाते हुए कैच पकड़ लिया. चायकाल के समय इंग्‍लैंड की दूसरी पारी का स्‍कोर 167/4 रहा. मोईन 32 और स्‍टोक्‍स 13 रन पर नाबाद लौटे.

लंच तक :

इंग्लैंड के कप्तान एलिस्टर कुक (3) और कीटन जेनिंग्स (9) ने पारी को 12 रन से आगे बढ़ाया. दोनों ने सुनिश्चित किया कि पहले सत्र में कोई भी विकेट न गिरे और हुआ भी कुछ ऐसा ही. लंच तक टीम इंडिया ने सारे दांव आजमा लिए, लेकिन इंग्लैंड का कोई भी विकेट नहीं गिरा पाई. कुक और जेनिंग्स लंच के समय नाबाद रहे और इंग्लैंड ने 97 रन बना लिए.

चौथे दिन के खेल की मुख्य बातें....

करुण नायर (Karun Nair) का तिहरा शतक पूरा होते ही कप्तान विराट कोहली ने चौथे दिन चायकाल के बाद 759 रन पर पारी घोषित कर दी थी. नायर ने 303 रन बनाए, जिसमें 32 चौके और 4 छक्के उड़ाए. इसके साथ ही वह नायर ऐसे पहले भारतीय बन गए, जिसने अपने पहले ही शतक को तिहरे शतक में बदला, वहीं विश्व में वह सर गैरी सोबर्स (365 रन नाबाद, 1958) और बॉब सिम्पसन (311 रन, 1964) के बाद तीसरे बल्लेबाज रहे, जिसने यह कमाल किया. टीम इंडिया की ओर से तिहरा शतक लगाने वाले वह वीरेंद्र सहवाग के बाद दूसरे भारतीय हैं. करुण नायर (Karun nair) ने इंग्लैंड के कप्तान एलिस्टर कुक की ओर से 34 रन पर मिले जीवनदान का भरपूर फायदा उठाया और 381 गेंदों में तिहरा शतक पूरा किया, जबकि 306 गेंदों में दोहरा शतक लगाया. इससे पहले उन्होंने 185 गेंदों में करियर का पहला टेस्ट शतक पूरा किया. इस दौरान उनका साथ आर अश्विन और रवींद्र जडेजा ने दिया. अश्विन ने करियर की 10वीं फिफ्टी पूरी की. अश्विन 67 रन बनाकर स्टुअर्ट ब्रॉड का शिकार बने. उन्होंने नायर के साथ 181 रनों की साझेदारी की. रवींद्र जडेजा ने 55 गेंदों में 51 रनों (एक चौका, दो छक्के) की पारी खेली. उन्होंने नायर के साथ 138 रन जोड़े. इंग्लैंड की ओर से स्टुअर्ट ब्रॉड और लियाम डॉसन ने दो-दो विकेट, जबकि मोईन अली, आदिल राशिद और बेन स्टोक्स ने एक-एक विकेट लिया.

तीसरे दिन की मुख्य बातें

चौथे दिन के खेल में लगभग 8 ओवर ही बाकी थे कि लोकेश राहुल (Lokesh Rahul) एक रन से दोहरे शतक से चूक गए. उन्होंने 311 गेंदों पर 199 रन बनाए. राहुल ने अपनी पारी में 16 चौके और 3 छक्के जड़े. उन्होंने 171 गेंदों में करियर का चौथा शतक लगाया, जबकि 96 गेंदों में दूसरी फिफ्टी पूरी की. नायर (Karun Nair) के साथ राहुल ने 161 रनों की साझेदारी की.

राहुल ने कुंदरन और शास्त्री को पीछे छोड़ा

राहुल दोहरे शतक के अलावा एक और मामले में भी अनलकी रहे और सुनील गावस्कर का भारतीय रिकॉर्ड तोड़ने से चूक गए. वह इंग्लैंड के खिलाफ टीम इंडिया के ओपनर के रूप में एक पारी के लिहाज से अब तक के टॉप स्कोरर बन सकते थे, लेकिन 199 रन पर ही आउट हो गए. उनसे ऊपर सुनील गावस्कर (221 रन, ओवल) हैं. हालांकि राहुल ने इस मामले में बीके कुंदरन (192 रन, चेन्नई), रवि शास्त्री (187 रन, ओवल), वीनू मांकड़ (184 रन, लॉर्ड्स) और गौतम गंभीर (179 रन, मोहाली) को पीछे छोड़ दिया.

दूसरे दिन के खेल की मुख्य बातें

टीम इंडिया ने दूसरे दिन इंग्लैंड को जल्दी आउट करने के लिए खूब संघर्ष किया. हालांकि उसे इसमें चायकाल के बाद ही सफलता मिल पाई. जब दिन की शुरुआत में आर अश्विन ने दिन की पांचवीं ही गेंद पर शुक्रवार के नाबाद बल्लेबाज बेन स्टोक्स (5) को पैवेलियन लौटाया, तो लगा कि भारत जल्दी ही उनको समेट देगा, लेकिन ऐसा नहीं हो पाया. फील्डिंग के दौरान रवींद्र जडेजा और आदिल राशिद की भिड़ंत भी हो गई. संयोग से किसी को बी चोट नहीं आई. इंग्लैंड की पारी लंबे इंतजार के बाद 477 रन पर सिमटी. डेब्यू टेस्ट खेल रहे लियाम डॉसन 66 रन बनाकर नाबाद लौटे. टॉप स्कोरर मोईन अली 146 रन रहे, वहीं जो रूट ने 88 रन बनाए. टीम इंडिया के लिए रवींद्र जडेजा ने 3, ईशांत शर्मा और उमेश यादव ने 2-2 विकेट, वहीं आर अश्विन और अमित मिश्रा ने एक-एक विकेट लिया. इंग्लैंड के जो रूट और जॉनी बेयरस्टॉ ने पहले दिन एक वर्ल्ड रिकॉर्ड की भी बराबरी कर ली थी. दिन का खेल खत्म होने तक टीम इंडिया ने 60 रन बनाए. लोकेश राहुल 30 रन और पार्थिव पटेल 28 रन पर नाबाद लौटे. इंग्लैंड के स्पिनर लियाम डॉसन और मोईन अली कोई प्रभाव नहीं डाल सके और उन्हें खाली हाथ लौटना पड़ा.

पहले दिन के खेल का अपडेट

इंग्‍लैंड ने टॉस जीतने के बाद पहले दिन जमकर बल्लेबाजी की. कप्तान एलिस्टर कुक और कीटन जेनिंग्स के जल्दी आउट होने के बाद जो रूट और मोईन अली ने तीसरे विकेट के लिए 146 रन की साझेदारी करके स्थिति को संभाल लिया. मोईन ने जॉनी बेयरस्‍टॉ (49) के साथ चौथे विकेट के लिए 86 रन की साझेदारी की. टीम इंडिया के लिए पहले दिन रवींद्र जडेजा (3 विकेट) ही सबसे कामयाब रहे. एक अन्‍य विकेट ईशांत शर्मा के खाते में गया. रविचंद्रन अश्विन को आज कोई विकेट नहीं मिल पाया. मोइन के टेस्‍ट करियर का यह पांचवां शतक है. इसके लिए उन्‍होंने 203 गेंदों का सामना किया और नौ चौके लगाए. वैसे मोईन ने अपने 120 रनों में अब तक 12 चौके लगाए हैं. इंग्‍लैंड के लिए पहले दिन आउट होने वाले बल्‍लेबाज कीटन जेनिंग्‍स (1), कप्‍तान एलिस्‍टर कुक (10), जो रूट (88) और जॉनी बेयरस्‍टा (49) रहे. जहां जेनिंग्‍स को ईशांत ने पार्थिव पटेल से कैच कराया, वहीं कुक, रूट और बेयरस्‍टॉ के विकेट रवींद्र जडेजा के खाते में गए.


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।