भाजपा और कांग्रेस में हुआ प्यार, लव मैरिज सुर्ख़ियों में

By: jhansitimes.com
Jun 10 2017 09:04 am
3917

भोपाल। कहते है कि मोहब्बत जाति, उम्र और धर्म के बंधन नहीं देखती है। इन दिनों ऐसी ही एक सियासी शादी की चर्चा जोरों पर है। जिसमें मध्य प्रदेश के दो प्रेमियों ने सियासी बंधनों को तोड़कर शादी की है। शादी के इस बंधन में दुल्हन कांग्रेस की युवा नेता है, तो दूल्हा बीजेपी का युवा नेता। दोनों अपने इलाके में मजबूत सियासी पकड़ रखते हैं, साथ अपनी राजनीतिक पार्टियों में भी इनका असर है।  

जी हां हम बात कर रहे हैं, हाल ही नवम्बर माह में मध्य प्रदेश की शहडोल लोकसभा के उपचुनाव में कांग्रेस के टिकट से चुनाव लड़ी हिमाद्री सिंह की और 2009 में ही इसी सीट से हिमाद्री की मां स्वर्गीय राजनंदिनी सिंह के खिलाफ चुनाव लड़ चुके भाजपा के नेता नरेन्द्र सिंह मरावी की। ये दोनों प्रेमी गुरूवार को सगाई कर चुके हैं और जल्द ही इनकी शादी होने वाली है। 

इस प्रेम कहानी की चर्चा दूर-दूर तक हैं और राजनीतिक पंडित कयास लगा रहे हैं कि दो अलग-अलग दल के नेताओं का मिलन भविष्य में क्या सियासी गुल खिलाएगा। हालांकि दोनों का कहना है कि उनकी राजनीतिक प्रतिबद्धता अपने-अपने दलों के लिए पहले की तरह रहेगी।  कांग्रेस पार्टी से शहडोल संसदीय क्षेत्र का चुनाव लड़ चुकी पूर्व केन्द्रीय मंत्री स्व. दलबीर सिंह और पूर्व कांग्रेस सांसद स्व. राजेश नंदनी की पुत्री हिमाद्री सिंह और भाजपा के युवा नेता अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष (केबिनेट मंत्री दर्जा) नरेन्द्र मरावी ने गुरूवार शाम अनूपपुर जिले के राजेन्द्रग्राम स्थित हिमाद्री सिंह के निवास पर आयोजित कार्यक्रम में सगाई के बंधन में बंध गए।

फिलहाल नरेन्द्र मरावी मप्र अजजा आयोग के अध्यक्ष हैं एवं उनके चाचा जयसिंह मरावी शहडोल की जैतपुर विधानसभा सीट से भाजपा के विधायक हैं। शहडोल संभाग की बीजेपी की राजनीति में जयसिंह मरावी और उनके भतीजे नरेन्द्र मरावी का काफी ऊंचा कद है। इस परिवार का प्रदेश भाजपा की राजनीति में भी खासा दखल रखते हैं। वहीं दूसरी तरफ शहडोल संसदीय क्षेत्र में कांग्रेस के कद्दावर परिवार की हिमाद्री सिंह की राजनीतिक विरासत भी कही से कमजोर नहीं है। हिमाद्री के पिता स्वर्गीय दलवीर सिंह राजीव गांधी सरकार में मंत्री थे। तो उनकी मां पिता के निधन के बाद शहडोल संसदीय सीट से सांसद भी चुनी जा चुकी है। अपने माता पिता की राजनीतिक विरासत की इकलौती वारिस हिमाद्री सिंह है। पिछले साल नवम्बर माह में शहडोल संसदीय सीट में हुए उपचुनाव में युवा और आकर्षक हिमाद्री सिंह ने बीजेपी के लिए तगड़ी चुनौती थी। तमाम हथकंडे अपनाने के बाद बीजेपी के प्रत्याशी ज्ञानसिंह महज 50 हजार वोटों से हिमाद्री से चुनाव जीत पाए थे। जबकि शिवराज सरकार ने इस चुनाव जीतने के लिए शहडोल संसदीय सीट में सौगातों की बरसात करने के साथ-साथ ऐसा कोई हथकंडा नहीं छोड़ा था, जो हिमाद्री के हराने के लिए मददगार हो।  

सगाई के बाद होने जा रही इस शादी ने राजनीतिक पंडितो को सोचने पर मजबूर कर दिया है। अपने-अपने दल में अहम स्थान रखने वाले इन नेताओं की सगाई के बाद से बीजेपी और कांग्रेस के नेताओं भविष्य के समीकरणों पर चिंतन मनन कर रहे हैं। शहडोल से निकलकर इस सगाई की चर्चा राजधानी भोपाल में भाजपा प्रदेश कार्यालय और कांग्रेस प्रदेश कार्यालय में चर्चा का विषय बनी हुई है। राजनीतिक पंडित कयास लगा रहे हैं कि डेढ़ साल बाद होने वाले विधानसभा और दो साल बाद होने वाले लोकसभा चुनाव में इस नयी जोड़ी की क्या भूमिका होगी। कांग्रेस की युवा चेहरा क्या शादी के बाद राजनीति से नाता तोड़कर अपनी पति की साया बन उनका राजनीतिक भविष्य संवारेगी या फिर पति नरेन्द्र मरावी अपनी पत्नी हिमाद्री को राजनीति में आगे बढ़ाएंगे। 

फिलहाल ये कयासबाजी का दौर है, लेकिन इन दोनों के बारे में जानकारी रखने वाले लोगों की मानें तो दोनों लंबे समय से प्रेम के बंधन में बंधे हुए थे, वहीं सगाई के बाद दोनों का ये कहना है कि उनकी राजनीतिक प्रतिबद्धता अपने-अपने दलों के लिए जस की तस रहेगी। 


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।