मध्यप्रदेश: 1200 छात्र बिना परीक्षा दिए पास, अफ्रीकी छात्र के हिन्दी में अच्छे नंबर!

By: jhansitimes.com
Sep 09 2017 09:18 am
142

भोपाल:  मध्यप्रदेश में राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयीन शिक्षण संस्थान (एनआईओएस) द्वारा आयोजित हायर सेकेंडरी की परीक्षा में तीन केंद्रों से 12 सौ छात्रों को बगैर परीक्षा दिए ही उत्तीर्ण कर दिए जाने का आम आदमी पार्टी (आप) ने खुलासा किया है और इस घोटाले को व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापमं) से भी बड़ा घोटाला करार दिया है.

शुक्रवार को आप के प्रदेश संयोजक आलोक अग्रवाल ने कहा कि राज्य में शिक्षा के क्षेत्र में घोटाले लगातार जारी हैं. अभी हाल में एनआईओएस द्वारा आयोजित हायर सेकेंडरी परीक्षा का घोटाला सामने आया है, जिसमें तीन परीक्षा केंद्र ऐसे हैं, जहां 12 सौ विद्यार्थी परीक्षा में शामिल ही नहीं हुए और उन्हें उत्तीर्ण कर दिया गया.

 उन्होंने दस्तावेजों के हवाले से तीनों परीक्षा केंद्रों का जिक्र करते हुए कहा कि ये वे केंद्र हैं, जहां 1200 विद्यार्थी परीक्षा में शामिल ही नहीं हुए, पर जब परिणाम आया तो सभी पास थे. इससे साफ जाहिर होता है कि मिलीभगत कर अरबों रुपये देकर फर्जी परीक्षा परिणाम बनवाए गए हैं.

अग्रवाल ने कहा कि उनके पास वे सारे दस्तावेज उपलब्ध हैं, जो इन गड़बड़ियों को साबित करने के लिए पर्याप्त हैं. हद तो यह है कि एक अफ्रीकी छात्र हिंदी में अच्छे अंक लाता है. उसने वर्ष 2015 में भिंड जिले के एक स्कूल में दाखिला लिया और उसका हिंदी जैसे विषय में 56 अंकों से पास हो जाना शक पैदा करता है.

 दिल्ली में सत्तारूढ़ पार्टी के नेता ने बताया कि राज्य में एनआईओएस के 280 केंद्र हैं, यह घोटाला इन्हीं तीन केंद्रों तक ही सीमित नहीं है, बल्कि इसका विस्तार पूरे प्रदेश में होने की आशंका है. उन्होंने आरोप लगाया कि शिवराज सरकार का भ्रष्टाचारियों को संरक्षण मिलने के कारण ही इस तरह के घोटाले संभव हैं.

आप ने सभी केंद्रों की विस्तृत जांच उच्चतम न्यायालय की निगरानी में विशेष जांच दल (एसआईटी) से कराने की मांग की है. आप की यह भी मांग है कि इस समय जिन तीनों केंद्रों के खिलाफ सबूत पेश किए गए हैं, उनके प्रबंधकों को तत्काल गिरफ्तार किया जाए, ताकि इस घोटाले के असली सूत्रधार तक पहुंचा जा सके. साथ ही तीनों केंद्रों का पंजीकरण तुरंत निरस्त किया जाए.


comments

Create Account



Log In Your Account



छोटी सी बात “झाँसी टाइम्स ” के बारे में!

झाँसी टाइम्स हिंदी में कार्यरत एक विश्व स्तरीय न्यूज़ पोर्टल है। इसे पढ़ने के लिए आप http://www.jhansitimes .com पर लॉग इन कर सकते हैं। यह पोर्टल दिसम्बर 2014 से वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई की नगरी झाँसी (उत्तर प्रदेश )आरंभ किया गया है । हम अपने पाठकों के सहयोग और प्रेम के बलबूते “ख़बर हर कीमत पर पूरी सच्चाई और निडरता के साथ” यही हमारी नीति, ध्येय और उद्देश्य है। अपने सहयोगियों की मदद से जनहित के अनेक साहसिक खुलासे ‘झाँसी टाइम्स ’ करेगा । बिना किसी भेदभाव और दुराग्रह से मुक्त होकर पोर्टल ने पाठकों में अपनी एक अलग विश्वसनीयता कायम की है।

झाँसी टाइम्स में ख़बर का अर्थ किसी तरह की सनसनी फैलाना नहीं है। हम ख़बर को ‘गति’ से पाठकों तक पहुंचाना तो चाहते हैं पर केवल ‘कवरेज’ तक सीमित नहीं रहना चाहते। यही कारण है कि पाठकों को झाँसी टाइम्स की खबरों में पड़ताल के बाद सामने आया सत्य पढ़ने को मिलता है। हम जानते हैं कि ख़बर का सीधा असर व्यक्ति और समाज पर होता है। अतः हमारी ख़बर फिर चाहे वह स्थानीय महत्व की हो या राष्ट्रीय अथवा अंतरराष्ट्रीय महत्व की, प्रामाणिकता और विश्लेषण के बाद ही ऑनलाइन प्रकाशित होती है।

अपनी विशेषताओं और विश्वसनीयताओं की वजह से ‘झाँसी टाइम्स ’ लोगों के बीच एक अलग पहचान बना चुका है। आप सबके सहयोग से आगे इसमें इसी तरह वृद्धि होती रहेगी, इसका पूरा विश्वास भी है। ‘झाँसी टाइम्स ‘ के पास समर्पित और अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ संवाददाताओं, समालोचकों एवं सलाहकारों का एक समूह उपलब्ध है। विनोद कुमार गौतम , झाँसी टाइम्स , के प्रबंध संपादक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। जो पूरी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता का पिछले लगभग 16 वर्षों का अनुभव है। के पी सिंह, झाँसी टाइम्स के प्रधान संपादक हैं।

विश्वास है कि वरिष्ठ सलाहकारों और युवा संवाददाताओं के सहयोग से ‘झाँसी टाइम्स ‘ जो एक हिंदी वायर न्यूज़ सर्विस है वेब मीडिया के साथ-साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बनाने में कामयाब रहेगा।